Omicron Cronavirus in Hindi

कोरोना की तीसरी लहर (Omicron Variant) के लक्षण और कारण

Omicron Variant in Hindi: कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रोन के लक्षण बहुत हद तक कोरोना वायरस के पुराने डेल्टा वेरिएंट से मिलते हैं। हालांकि, कुछ और भी लक्षण हैं जो ओमिक्रोन वेरिएंट को डेल्टा वेरिएंट से अलग करता है। इस पोस्ट के माध्यम से हमने कोरोना (ओमिक्रोन वेरिएंट) की तीसरी लहर के लक्षण और इस लहर के बढ़ने के कारणों पर प्रकाश डाला है।

और पढ़ें – C Reactive Protein (CRP) क्या है? जानिए रक्त में उच्च सीआरपी का क्या अर्थ है।

ओमिक्रोन वेरिएंट क्या है? | What is the Omicron Variant in Hindi

Omicron meaning in Hindi

24 नवंबर 2021 (बुधवार) को दक्षिण अफ्रीका में एक नए COVID वेरिएंट (प्रकार) की पहचान की गई। इस नए वेरिएंट का नाम ओमिक्रोन (Omicron) रखा गया है। (1)

भारत में ओमिक्रोन कोरोना वैरिएंट का कहर लगातार बढ़ रहा है और यह रुकने का नाम नहीं ले रहा है। यह नया ओमिक्रोन वैरिएंट, कोरोनवायरस के पहले से ज्ञात वैरिएंट से ज्यादा संक्रामक है। हालांकि, वैज्ञानिकों को अभी भी ओमिक्रोन वायरस के बारे में बहुत कुछ समझना बाकी है।

Virus CoronaVirus
Variant Omicron (B.1.1.529)
Detected In South Africa
Detected On 24 November 2021
Variant Type Variant Of Concern

अभी तक की बात करें, तो भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 3.55Cr से पार पहुंच गई है। दुनिया में अब तक इस महामारी (corona Pandemic in Hindi) से 30.5Cr से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। जबकि 54.8 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

हालांकि राहत की बात यह है कि 25.4 करोड़ से अधिक लोग अब तक इस वायरस के संक्रमण से ठीक भी हुए हैं।

आइये अब जानते हैं कोरोना ओमिक्रोन की तीसरी लहर के लक्षण क्या हैं।

और पढ़ें – नींद के दौरान सांस का बार-बार रुकना (लक्षण, कारण और आयुर्वेदिक इलाज)

कोरोना (ओमिक्रोन वेरिएंट) की तीसरी लहर के लक्षण | Symptoms of Omicron Variant in Hindi

प्रारंभिक आंकड़ों के अनुसार, यदि आप एक संक्रमित व्यक्ति से संक्रमित होते हैं तो ओमिक्रोन वेरिएंट के लक्षण (Omicron ke symptoms in Hindi) विकसित होने में लगभग 3 दिन से लेकर एक सप्ताह तक का समय लग सकता है।

माना जा रहा है कि नए Omicron Variant के संक्रमित करने की दर पुराने Delta variant से काफी ज्यादा है। हालांकि, इस नए कोरोना ओमाइक्रो वेरिएंट पर अभी और स्टडी की जा रही है।

ओमिक्रोन वेरिएंट (omicron virus in Hindi) की तीसरी लहर के लक्षण नीचे दिए गए हैं, जिसे तीन भागो में वर्गीकृत किया गया है। (2)

ओमिक्रोन वेरिएंट के सामान्य लक्षण – Common symptoms of Omicron Variant in Hindi

कोरोना ओमिक्रोन के सामान्य लक्षण (Omicron symptoms in Hindi) हैं-

  • खांसी,
  • थकान,
  • जुखाम,
  • गले में खरास,
  • रात को पसीना आना
  • सिरदर्द,
  • मांसपेशियों में दर्द और,
  • स्वाद का ना आना।

और पढ़ें – जानिए हार्ट अटैक कब, कैसे और क्यों आता है।

ओमिक्रोन वेरिएंट के कम सामान्य लक्षण – Less Common Symptoms of Omicron Variant in Hindi

कोरोना ओमिक्रोन के कम सामान्य लक्षण (Omicron virus ke lakshan) हैं-

  • गले में खराश,
  • सिरदर्द,
  • दस्त,
  • त्वचा पर दाने,
  • उंगलियों या पैर की उंगलियों का रंग बदलना,
  • आखों में जलन होना।

और पढ़ें – इस्केमिक हृदय रोग क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज

ओमिक्रोन वेरिएंट के गंभीर लक्षण – Severe symptoms of Omicron Variant in Hindi

कोरोना ओमिक्रोन के गंभीर लक्षण हैं-

  • सांस लेने में तकलीफ,
  • बोलने या चलने में तकलीफ,
  • सीने में दर्द।

और पढ़ें – हार्ट फेल का कारण बन सकता है कार्डियक अस्थमा

ओमिक्रोन और डेल्टा वेरिएंट के लक्षणों में अंतर | Difference between Omicron and Delta variants in Hindi

ओमिक्रोन और डेल्टा वेरिएंट (कोरोना वायरस) के लक्षणों में अंतर इस प्रकार हैं-

  • डेल्टा वेरिएंट के लक्षण 10 दिनों की अवधि तक रहते हैं, जबकि ओमिक्रोन वेरिएंट के लक्षण 4-5 दिनों तक रहते हैं।
  • डेल्टा से पीड़ित मरीज को तेज बुखार (>102 F) का अनुभव होता है, जबकि ओमिक्रोन से पीड़ित मरीज मध्यम बुखार (<100 F) का अनुभव होता है।
  • डेल्टा से संक्रमित मरीजों को अक्सर गंध या स्वाद के नुकसान की हानि होती है। जबकि, ओमिक्रॉन रोगियों में अभी तक ऐसा नहीं देखा गया है, हालांकि उन्हें अत्यधिक थकान, मतली और चक्कर आने का अनुभव होता है।
  • दोनों ही प्रकार के संक्रमण में फेफड़ों को प्रभावित करने के तरीके में एक बड़ा अंतर पाया गया है।
  • डेल्टा वेरिएंट शरीर में प्रवेश करने के कुछ दिनों के भीतर फेफड़ों को संक्रमित करता है, जिससे सांस लेने में कठिनाई होती है। फेफड़ों का यह संक्रमण बाद में निमोनिया का कारण बन सकता है। हालांकि, ओमिक्रोन वेरिएंट के केस में फेफड़ों को कोई ज्यादा नुकसान नहीं हुआ है।

Note: डेल्टा और ओमिक्रोन के लक्षण हर एक व्यक्ति में अलग अलग हो सकते हैं, जो वायरस की तीव्रता और उसके व्यवहार पर निर्भर करता है।

कोरोना (ओमिक्रोन कोरोना वेरिएंट) की तीसरी लहर का कारण | Causes of the third wave of Omicron variant in Hindi

भारत में ओमिक्रोन वेरिएंट केस बढ़ने का कारण है, कोरोना वायरस के जीन (DNA) में म्युटेशन का होना है। म्युटेशन के कारण पुराना कोरोना वेरिएंट अब नए वेरिएंट (ओमिक्रोन) में परिवर्तित हो गया है। यह नया ओमिक्रोन वेरिएंट, कोरोना वायरस के सभी वेरिएंट से काफी संक्रामक है, जो आसानी से लोगों को संक्रमित कर सकता है। (3)

हालांकि, म्यूटेशन के अलावा, कुछ और भी कारण हैं जिसके चलते ओमिक्रोन वेरिएंट के मामलों लगातार बढ़ रहे हैं। इन कारणों में शामिल हैं-

  • बंद स्थानों में सामाजिक समारोह,
  • हाथों को ठीक से ना धोया जाना,
  • गलत तरीके से फेस मास्क पहनना,
  • छींकते या खांसते समय रुमाल का प्रयोग न करना,
  • दूषित सतहों को छूना,
  • संक्रमण के प्रारंभिक चरण में कोरोना परीक्षण कराना,
  • संक्रमित होने पर 2 सप्ताह के लिए समाज से अलग न होना,
  • मान लेना आपका परिवार और दोस्त आप ही की तरह एहतियात ले रहे हैं,
  • युवाओं का सोचा जाना कि उनमें प्रतिरोधक क्षमता ज्यादा है।

कोरोना (ओमिक्रोन वेरिएंट) की तीसरी लहर का कारण है बंद स्थानों में सामाजिक समारोह।

Omicron Corona Variant in Hindi, कोरोना वायरस

कोरोना (ओमिक्रोन वेरिएंट) की तीसरी लहर के बढ़ने का कारण बंद स्थानों में सामाजिक समारोह का होना हो सकता है।

बाहर के लोगों के साथ घर के अंदर या बाहर कोई भी समारोह (जैसे बर्थडे पार्टी, वेडिंग एनिवर्सरीया रिंग सेरेमनी) करना, आपको Omicron Variant से संक्रमण के खतरे में डाल सकता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि हम नहीं जानते कि कौन सा व्यक्ति उस समारोह में संक्रमित है और कौन नहीं, भले ही वह कितना ही छोटा समूह क्यों न हो।

NCBI में प्रकाशित अध्ययन में बताया गया है कि बिना लक्षण वाले Coronavirus रोगियों में लक्षण वाले लोगों की तुलना में अधिक वायरल लोड होता है और वह आसानी से स्वस्थ लोगो को संक्रमित कर सकतें हैं। इसलिए हर किसी को समाजिक दूरी बनाकर रखनी चाहिए। (4)

और पढ़ें – किडनी रोगियों के लिए कम प्रोटीन डाइट

ओमिक्रोन की तीसरी लहर के बढ़ने की वजह है हाथों को ठीक से ना धोया जाना।

Omicron Corona Variant in Hindi

हाथों को ठीक से ना धोया जाना भी ओमिक्रोन केसेस बढ़ने का कारण हो सकता है।

WHO और CDC जैसी संस्था के मुताबिक, हमें कम से कम 20 सेकंड तक अपने हाथ धोने चाहिए। आमतौर पर हम लोग केवल हथेलियों को रगड़कर पानी डाल लेते हैं, जोकि गलत तरीका है, और जिस कारण हम आसानी से संक्रमण का शिकार हो जाते हैं।

विशेषज्ञ मानते हैं कि स्वच्छता के लिए साबुन से हाथ धोना पर्याप्त है। पर अगर आप किसी ऐसी जगह पर हैं जहां साबुन और पानी उपलब्ध नहीं है तो हाथ को साफ रखने के लिए 60% सेनेटाइजर का इस्तेमाल कर सकते हैं।

और पढ़ें –  इन एंटीऑक्सीडेंट आहार से करें अपना वजन कम।

कोरोना ओमिक्रोन की तीसरी लहर में केसेस बढ़ने का कारण है गलत तरीके से फेस मास्क पहनना।

ओमिक्रोन कोरोना

जानकारों ने तीसरी लहर के बढ़ने की वजह, गलत तरीके से फेस मास्क पहनना बताया है।

ओमिक्रोन कोरोना वैरिएंट (Omicron Corona Variant) को फैलने से रोकने का सबसे असरदार तरीका है बाहर जाते समय फेस मास्क पहनना।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने सामाजिक दूरी और हाथ की स्वच्छता के अलावा संक्रमण को रोकने के लिए मास्क पहनने की बात कही है।

इसके अलावा, मेडिकल इंटरनेट रिसर्च जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में बताया गया है कि मास्क पहनने, हाथ की स्वच्छता और उचित दूरी बनाए रखने से व्यक्तियों के बीच संक्रमण को न केवल कम बल्कि उसे अधिक प्रभावी ढंग से रोका जा सकता है।

संक्रमित व्यक्ति के खांसने, छींकने या बातचीत करने से उत्पन्न होने वाली श्वसन बूंदों के माध्यम से स्वस्थ व्यक्तियों के बीच संक्रमण तेजी से फैलता है। हांलाकि, मास्क इन श्वसन बूंदों को हवा में फैलने से रोकने के लिए एक सरल और प्रभावी अवरोध प्रदान करते हैं।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि अपना मास्क सही ढंग से पहने जिसमें आप की नाक और मुँह पूरी तरह से ढकी हो और वह कान और सिर के पीछे से सही तरीके से बंधा हो, मास्क पहनने से पहले और बाद में हमेशा अपना हाथ धोएं। हर समय अपने मास्क को न छुए।

हालांकि, यह देखा गया है कि ज्यादातर लोग जाने-अनजाने में इस कदमों से बचतें हैं और COVID-19 से संक्रमित हो जाते हैं। इसलिए, WHO या CDC द्वारा बताए गई दिशानिर्देशों का पालन करें। COVID-19 के प्रसार को रोकने के लिए एक मास्क पहनना सिर्फ एक कदम है, हांलाकि इसके साथ हमें दूसरे बातो का भी ध्यान करना चाहिए, जैसे

  • कम से कम लोगो से 1 से 2 मीटर की दूरी रखें,
  • बार-बार हाथ साबुन और पानी से धोऐं, और
  • घर से तभी निकलें जब अति आवश्यक हो।

और पढ़ें – आयरन की कमी को दूर करते हैं ऐसे आहार।

4. तीसरी लहर में ओमिक्रोन मामले बढ़ने का कारण है छींकते या खांसते समय रुमाल का प्रयोग न करना।

Omicron Corona Variant in Hindi

छींकते या खांसते समय रुमाल का प्रयोग ना किये जाना भी कोरोना की तीसरी लहर के बढ़ने का कारण हो सकता है।

वैज्ञानिकों ने आगाह किया कि खांसी या छींक की वजह से निकलने वाली सूक्ष्म बूंदें 23 से 27 फुट या 7-8 मीटर तक जा सकती हैं। जिससे ओमिक्रोन वायरस (Coronavirus) फैलने का खतरा बढ़ सकता है।

दुर्भाग्यपूर्ण, लोग छींकते समय अपना चेहरा नहीं ढंकते हैं और इसे खुले तौर पर करते हैं।

यदि ओमिक्रोन वायरस संक्रमण के मामलों को कम करना है तो लोगों को खाँसी या छींक के समय रुमाल या टिश्यू पेपर का उपयोग करना चाहिए।

और पढ़ें – नजरअंदाज न करें गर्भावस्था में होने वाली इन समस्याओं को

5. तीसरी लहर में ओमिक्रोन केस बढ़ने का कारण है दूषित सतहों को छूना।

Corona Variant in Hindi

हाथों द्वारा दूषित सतहों को छूना भी कोरोना की तीसरी लहर का कारण हो सकता है।

हमारे हाथ विभिन्न सतह के संपर्क में आते हैं और अगर वह सतह कोरोना वायरस (ओमिक्रोन) से संक्रमित हो, तो हमारे संक्रमित होने की दर बढ़ सकती है। ऐसा इसलिए, क्योंकि जब भी हम संक्रमित हाथ को अपने चेहरे या नाक के करीब लाएंगे तो हमारे संक्रमित होने का खतरा कही गुना बढ़ जाएगा।

दुर्भाग्य से लोग सतहों को जाने अनजाने में छू लेते हैं और संक्रमित हो जाते हैं।

इसलिए हमेशा ध्यान रखना चाहिए की अगर हम किसी अनजान सतह को छुएं तो हमेशा हाथ साबुन और पानी से धोना न भूलें।

और पढ़ें – हृदय रोगियों के लिए डाइट प्लान।

6. ओमिक्रोन के केस बढ़ने का कारण है संक्रमण के प्रारंभिक चरण में कोरोना परीक्षण कराना।

Omicron Corona Variant test in Hindi

यदि संक्रमण होने के तुरंत बाद Omicron Coronavirus Test करा दिया जाए तो इस टेस्ट के नतीजे कभी-कभी नेगेटिव आ सकते हैं। जो की गलत माने जाते हैं।

ये गलत नतीजे भी कोरोना (ओमिक्रोन) की तीसरी लहर के बढ़ने का कारण हो सकता है।

इसे समझने के लिए जॉन्स हॉपकिन्स के शोधकर्ताओं ने अध्ययन में पाया की कोरोना वायरस का व्यक्ति में संक्रमण करने की अवधि लगभग 5 से 7 दिन होती है, लेकिन कभी-कभी यह अवधि 14 दिनों तक हो सकती है। इसलिए, लोगों को आमतौर पर सप्ताह के 5 से 7 दिन के भीतर या 10 दिन के बाद  Coronavirus test कराने की सलाह दी जाती है। (5)

और पढ़ें – हर्बल चाय (हर्बल टी) के 8 फायदे और नुकसान।

7. ओमिक्रोन वेरिएंट मामले बढ़ने की वजह है संक्रमित होने पर 2 सप्ताह के लिए समाज से अलग न होना।

Omicron Variant in Hindi

कोरोना की तीसरी लहर (Omicron Variant) के बढ़ने का कारण संक्रमित व्यक्ति का कुछ दिन के लिए समाज से अलग न होना है।

यदि आप ओमिक्रोन कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए हैं या बीमारी के लक्षणों का अनुभव कर हैं, तो आपको खुद से अपने आप को समाज से कम से कम 14 दिन के लिए अलग कर लेना चाहिए। क्योंकि संक्रमण की अवधि लगभग 5 से 14 दिन है जिस से आप को उन 14 दिन में पता चल जाएगा की आप संक्रमित हुए हैं या नहीं। (6)

दुर्भाग्य से अधिकांश लोग इसका पूरी तरह से पालन नहीं करते हैं और 3-4 दिनों के भीतर ही लोगों के संपर्क में आ जाते हैं, जिस कारण संक्रमित व्यक्ति, संक्रमण को तेजी से स्वस्थ व्यक्तियों में फेला देते  हैं।

और पढ़ें – फूड पाइजनिंग के लक्षण, कारण और घरेलू इलाज

8. कोरोना ओमिक्रोन मामले बढ़ने का कारण है कि मान लेना आप का परिवार और दोस्त आप ही की तरह एहतियात ले रहे हैं।

Omicron in Hindi

हममें से बहुत से लोग यह सोचते हैं की हमारा परिवार और दोस्त उसी दृष्टिकोण का अनुसरण कर रहे हैं जैसे आप खुद करते हैं। पर ऐसा कितनी बार नहीं होता है। क्योंकि अलग-अलग लोगों की एहतियात अलग-अलग होती है जिनमें से कुछ लोग ज्यादा और कुछ कम एहतियात बरतते हैं। जिस कारण हम संक्रमित हो जाते हैं। इसलिए, सब लोगों से एहतियात वैसे ही बरतें जैसे आप अनजान लोगों से बरतते हैं।

और पढ़ें – साइनस के लक्षण, कारण और इलाज (आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक)

9. ओमिक्रोन कोरोना केसेस बढ़ने की वजह है युवाओं का सोचा जाना कि उनमें प्रतिरोधक क्षमता ज्यादा है।

Corona Variant in Hindi

WHO के अनुसार 20 से 40 वर्ष के लोगों में कोरोना वायरस काफी तेजी से फैल रहा है। चिकित्सकों के मुताबिक, युवाओं में कोरोना संक्रमण की सबसे बड़ी वजह है कि वे लॉकडाउन का पालन नहीं कर रहे हैं।

इसके साथ ही आधुनिक दौर में युवाओं के खानपान के तरीके में हुए बदलाव के कारण उनके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता पुराने समय के लोगों की अपेक्षा कमजोर हो रही है। कोरोना ही नहीं कोई भी वायरस कमजोर प्रतिरोधक शक्ति वाले व्यक्ति पर पहले असर करता है।

इसलिए युवाओं की यह धारणा गलत है की वह संक्रमित नहीं हो सकते।

और पढ़ें – Acid reflux (हाइपर एसिडिटी) और खट्टी डकार से छुटकारा पाने का घरेलू इलाज


ये हैं कोरोना की तीसरी लहर (Omicron Variant) के लक्षण और कारण के बारे में बताए गई जानकारी। कमेंट में बताएं आपको यह पोस्ट कैसी लगी। यदि आपको ओमिक्रोन कोरोना वैरिएंट पोस्ट पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें।

ध्यान दें: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और सेंटर फॉर डीसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) द्वारा COVID-19 के बारे में दी जाने वाली जानकारी लगातार बदल रही हैं। अपडेट के लिए WHO या CDC की वेबसाइट में देखते रहें।

वेब पोस्ट गुरु ब्लॉग में आने और पोस्ट पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद।

Disclaimer : ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है। इस जानकारी का उपयोग किसी भी बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए।

सन्दर्भ (References)

  • CDC COVID-19 Response Team. SARS-CoV-2 B.1.1.529 (Omicron) Variant – United States, December 1-8, 2021. MMWR Morb Mortal Wkly Rep. 2021 Dec 17;70(50):1731-1734. doi: 10.15585/mmwr.mm7050e1.
  • Ingraham NE, Ingbar DH. The omicron variant of SARS-CoV-2: Understanding the known and living with unknowns. Clin Transl Med. 2021;11(12):e685.
  • Poudel S, Ishak A, Perez-Fernandez J, et al. Highly mutated SARS-CoV-2 Omicron variant sparks significant concern among global experts – What is known so far? [published online ahead of print, 2021 Dec 8]. Travel Med Infect Dis. 2021;45:102234.
  • Hasanoglu I, Korukluoglu G, Asilturk D, et al. Higher viral loads in asymptomatic COVID-19 patients might be the invisible part of the iceberg. Infection. 2021;49(1):117-126. doi:10.1007/s15010-020-01548-8.
  • CORONAVIRUS SYMPTOMS START ABOUT FIVE DAYS AFTER EXPOSURE, JOHNS HOPKINS STUDY FINDS (Mar 10, 2020).
  • Lauer SA, Grantz KH, Bi Q, et al. The Incubation Period of Coronavirus Disease 2019 (COVID-19) From Publicly Reported Confirmed Cases: Estimation and Application. Ann Intern Med. 2020;172(9):577-582.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सेब का सिरका पीने के फायदे | Benefits of Apple Cider Vinegar एसिडिटी और खट्टी डकार का इलाज | Home Remedies for Acidity and Burping खाली पेट आंवला जूस पीने के फायदे | Amla Juice Benefits कच्चा प्याज खाने के फायदे | Benefits of Raw Onion अच्छी और गहरी नींद आने के उपाय | Home Remedies for Insomnia Benefits of Giloy in Winter | सर्दी में गिलोय के फायदे