Chamomile tea in Hindi

10 Benefits Of Chamomile Tea In Hindi | कैमोमाइल चाय (बबूने के फूल की चाय) के 10 फायदे

Chamomile Tea in Hindi : इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको कैमोमाइल चाय के फायदे (बबूने के फूल की चाय के फायदे) और नुकसान के बारे में बता रहे हैं।

कैमोमाइल का अर्थ | Chamomile meaning in Hindi

बबूने के फूल

कैमोमाइल एक फूल है। जिसका हिंदी भाषा में अर्थ है बबूने का फूल। जिसका उपयोग हजारों वर्षों से पारंपरिक औषधि के रूप में किया जाता रहा है। कैमोमाइल अन्य फूलों की तुलना में अधिक सुगंधित होता है। जिसकी सुगंध सेब की सुगंध जैसी होती है।

और पढ़ें – हर्बल चाय के 8 स्वास्थ्यवर्धक फायदे और नुकसान

कैमोमाइल चाय क्या है? | Chamomile tea meaning in Hindi

बबूने के फूल की चाय

कैमोमाइल फूल (Chamomile tea in Hindi) के उत्कृष्ट स्वाद और मीठी खुशबू के कारण लोग इसे अब चाय के रूप में भी पीने लगे हैं।

कैमोमाइल चाय को बबूने के फूल की चाय भी कहा जाता है। कैमोमाइल चाय एक हर्बल टी है, जिसे कैमोमाइल नामक फूलों को सुखाकर और फिर पानी में उबालकर बनाया जाता है।

और पढ़ें- अदरक की चाय है फायदेमंद इन बीमारियों में

कैमोमाइल चाय में एक सुगंधित रासायनिक यौगिक (Chemical compound) चमाज़ुलीन (Chamazuleneहोता है, जिसमें एंटी-इन्‍फ्लामेट्री (Anti-inflammatory), एंटी-ऑक्सिडेंट (Anti-oxidant) और एंटी-स्पाज्मडिक (Anti-spasmodic) जैसे गुण होते हैं। जो हमारे शरीर को अनेक बीमारियों से बचाने में फायदा करती है।

कैमोमाइल चिंता को शांत करने, पेट को स्वस्थ रखने, महिलाओं के पीरियड के समय पेट के दर्द को कम करने, रक्त शर्करा को नियंत्रित करने, कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने, सूजन को कम करने, मधुमेह को दूर करने आदि में फायदेमंद होता है।

कैमोमाइल में मौजूद पौष्टिक तत्व | Chamomile Nutritional Value in Hindi

कैमोमाइल चाय (बबूने के फूल की चाय) में कई प्रकार के स्वास्थ्यवर्धक पोषक तत्व (Chamomile nutritional value in Hindi) होते हैं, जिनमें निम्नलिखित विटामिन और खनिज शामिल हैं:

100 ग्राम रोजहिप में पोषक तत्व

पौष्टिक तत्व

मात्रा

प्रोटीन

0 g

फैट

0 g

कोलेस्ट्रॉल

0 mg

कार्बोहाइड्रेट

0.20 g

विटामिन A

20 IU

विटामिन C

0 mg

विटामिन E

0 mg

विटामिन K

0 µg

फोलेट्स

1 µg

आयरन

0.08 mg

कैल्शियम

2 mg

मैग्नीशियम

1 mg

जिंक

0.04 mg

मैंगनीज

0.044 mg

कॉपर

0.015 mg

कैमोमाइल चाय (बबूने के फूल की चाय) के 10 फायदे | 10 Benefits Of Chamomile Tea In Hindi

कैमोमाइल चाय पीने के फायदे

  • अच्छी नींद लाने में,
  • चिंता को शांत करने में,
  • पेट संबंधी समस्याओं से आराम दिलाने में,
  • मधुमेह के इलाज में और रक्त शर्करा को कम करने में,
  • महिलाओं के पीरियड्स के दर्द को कम करने में,
  • मांसपेशियों की ऐंठन के इलाज में,
  • रोग प्रतिरक्षा शक्ति को बढ़ाने में,
  • कैंसर के इलाज में,
  • हृदय को स्वस्थ रखने में,
  • त्‍वचा को स्वस्थ बनाने रखने में 
Benefits Of Chamomile Tea In Hindi,कैमोमाइल चाय,बबूने के फूल की चाय
कैमोमाइल चाय के 10 फायदे
कैमोमाइल चाय हमारे शरीर को कैसे प्रभावित करती है इसको अब विस्तार से समझते हैं

1 & 2. कैमोमाइल चाय का फायदा अच्छी नींद लाने और चिंता को शांत करने में – Benefits of chamomile tea for anxiety in Hindi

बबूने के फूल की चाय (कैमोमाइल चाय) का लाभ (Chamomile tea benefits in Hindi) अच्छी नींद लाने और चिंता को शांत करने में किया जा सकता है। शोध के अनुसार, कैमोमाइल की चाय में एपिजेनिन (Apigenin) नामक फ्लेवोनोइड (Flavonoids) पाया जाता है, जिसके एंटी-ऑक्‍सीडेंट (Anti-oxidant) और एंटी-इंफ्लेमेटरी (Anti-inflammatory) गुण, अच्छी नींद लाने, एकाग्रता को बढ़ावा देने और चिंता को शांत करने में मदद करते हैं।
कैमोमाइल चाय के सेवन से अच्‍छी और गहरी नींद आती है और साथ ही यह हमारी नींद की गुणवत्‍ता में भी सुधार करता है।
2011 के एक अध्ययन में, अनिद्रा से ग्रस्त 17 लोगों को जब 270 मिलीग्राम कैमोमाइल कैप्सूल एक महीने तक (दिन में दो बार) दी गई तो उनकी नींद की गुणवत्‍ता में सुधार देखा गया।
इसी तरह 2017 में, 77 वृद्ध लोगों को जब चार सप्ताह तक दिन में दो बार कैमोमाइल के कैप्सूल (400 मिलीग्राम) दिए गए, तो उनके नींद में महत्वपूर्ण सुधार देखा गया। इस आधार पर यदि सोने से पहले (45- 60 मिनट पहले) एक कप कैमोमाइल की चाय पी जाए तो यह आपको जल्दी और अच्छी नींद दिलाने में मददगार कर सकती है।

3. कैमोमाइल चाय का फायदा पेट संबंधी समस्याओं से आराम दिलाने में – Benefits of chamomile tea for stomach problems in Hindi

बबूने के फूल की चाय (कैमोमाइल चाय) का उपयोग पेट संबंधी समस्याओं से आराम दिलाने में  मदद कर सकता है। शोध के अनुसार, कैमोमाइल (बबूने के फूल) में एंटी-स्पास्मोडिक (Anti-spasmodic) गुण पाया जाता है। जो पेट की मांसपेशियों को आराम देने में मदद करती हैं साथ ही कैमोमाइल में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी (Anti-inflammatory) गुण आंत में होने वाली सूजन को कम (chamomile tea ke fayde in Hindi) करने में मदद करती हैं।
कैमोमाइल की चाय पाचन ग्रंथि (Digestive gland) को उत्तेजित कर पेट के पाचक रस (Digestive juices) और पाचक एंजाइमों (Digestive enzymes) के स्राव को बढ़ाता है। जिससे आपके पाचन में सुधार आता है और आपको गैस, कब्ज, अपच, दस्त, और पेट के दर्द जैसी बीमारियों से राहत मिलती है।
कैमोमाइल की चाय (Chamomile tea benefits in Hindi) के सेवन से शरीर में पोषक तत्वों के अवशोषण में भी सुधार होता है। कैमोमाइल की चाय हेलिकोबैक्टर पाइलोरी (Helicobacter pyloriनामक बैक्टीरिया को भी पनपने से रोकती है। यह एक ऐसा बैक्टीरिया जो पेट में अल्सर पैदा करता है।

4. बबूने के फूल की चाय का फायदा मधुमेह के इलाज में – Benefits of chamomile tea for diabetes and blood sugar in Hindi

बबूने के फूल की चाय (कैमोमाइल चाय) का फायदे मधुमेह के इलाज में किया जा सकता है। कैमोमाइल चाय अग्न्याशय (Pancreas) को स्वास्थ्य रखने में मदद करती है और शरीर में इंसुलिन की मात्रा को सही अनुपात में बनाए रखती है। इंसुलिन शरीर से अतिरिक्त शुगर को हटाता है जिससे आपको डायबिटीज की बीमारी (Diabetes disease) नहीं होती है।
एक अध्ययन में 64 डायबिटिक लोगों को आठ सप्ताह तक रोजाना कैमोमाइल चाय का सेवन कराया गया। जब उनके शुगर का टेस्ट किया गया तो उनके शुगर के लेवल में अच्छी खासी कमी देखी गई। इसके अतिरिक्त कई जानवरों के अध्ययनों से पता चलता है कि कैमोमाइल की चाय फास्टिंग शुगर (Fasting blood sugar) के स्तर को कम करने में मदद कर सकता है और साथ ही यह चाय खाने के बाद रक्त में शुगर के स्तर को भी कम कर सकती है।

5 & 6.कैमोमाइल चाय का लाभ मांसपेशियों की ऐंठन और पीरियड्स के दर्द को कम करने में – Chamomile tea benefits for muscles and period cramps in Hindi

जर्नल ऑफ एग्रीकल्चर एंड फ़ूड केमिस्ट्री (Journal of Agriculture and Food Chemistry) में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, कैमोमाइल चाय में दर्द निवारक और एंटी-स्पास्मोडिक (Anti-spasmodic) गुण (Benefits of chamomile tea in Hindi) होते हैं जो प्रेगनेंसी के समय गर्भाशय को आराम देती है।
कैमोमाइल की चाय प्रोस्टाग्लैंडीन (Prostaglandin) के उत्पादन को भी कम करती है जो सूजन और दर्द का प्रमुख कारण होता है। कैमोमाइल की चाय महिलाओं के मासिक धर्म (Period) से होने वाली समस्याओं को कम करने और मस्तिष्क को राहत देने में भी मदद करती है।

7. कैमोमाइल चाय का लाभ प्रतिरक्षा शक्ति को बढ़ाने के लिए – Benefits of chamomile tea for immune system in Hindi

बबूने के फूल (कैमोमाइल) की चाय का फायदा इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए किया जा सकता है। कैमोमाइल चाय (Chamomile Tea in Hindi) में फ्लेवोनॉयड्स (Flavonoids) और चमाज़ुलीन (Chamazulene) जैसे पदार्थ होते हैं जिसका एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-माइक्रोबियल और एंटी-वायरल गुण सिर दर्द, सर्दी, जुकाम और बुखार जैसी समस्याओं से राहत दिलाने में मदद करता है साथ ही यह बदलते मौसम में होने वाले संक्रमण से भी हमें बचाता है।

8. कैमोमाइल चाय का फायदा कैंसर के इलाज में – Use of chamomile tea for cancer in Hindi

कैमोमाइल में पाए जाने वाले एपीजेनिन पदार्थ (Apigenin substance) में एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होता है जो कैंसर फैलाने वाले कोशिकाओं को पनपने से रोकते हैं। 
जिसमें स्तन कैंसर (Breast Cancer), पाचन तंत्र का कैंसर (Gastrointestinal (GI) cancer), त्वचा का कैंसर (Skin cancer), प्रोस्टेट कैंसर (prostate cancer), थायराइड कैंसर (Thyroid cancer) और गर्भाशय कैंसर (Uterine cancer) शामिल हैं। 
एक अध्ययन में 537 लोगों को जब प्रति सप्ताह 2 से 6 बार कैमोमाइल चाय दी गई तो उनमें थायराइड कैंसर विकसित होने की संभावना काफी कम मिली। इसलिए कैमोमाइल की चाय (Chamomile Tea in Hindi) कैंसर का खतरा कम करने में मदद कर सकती है। 
 

9.  कैमोमाइल चाय का लाभ हृदय को स्वस्थ रखने में – Benefits of chamomile tea for heart in Hindi

कैमोमाइल चाय में पाए जाने वाला फ्लेवोनॉयड्स (फेनोलिक यौगिक), खराब कोलेस्ट्रोल (LDL) को कम करने में फायदा कर सकता है जिससे हृदय रोग का खतरा कम हो सकता है। कैमोमाइल की चाय में मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट गुण हृदय रोग के जोखिम को कम करता है, ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखता है और साथ ही शरीर से कोलेस्ट्रॉल और एक्‍स्‍ट्रा फैट को प्राकृतिक तरीके से कम करने में भी मदद करता है।

10. कैमोमाइल चाय का फायदा त्‍वचा को स्वस्थ बनाने के लिए – chamomile tea benefits for skin in Hindi

कैमोमाइल चाय (बबूने के फूल की चाय) में एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण होने के कारण यह त्वचा पर होने वाली सूजन को कम करने में फायदा करती है और साथ ही इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सिडेंट गुण त्वचा में होने वाले बैक्टीरियल संक्रमण को कम करती है। कैमोमाइल की चाय (Chamomile Tea in Hindi) दाग-धब्बों को दूर कर त्वचा को चमकदार बनाने में भी मदद करती है।

कैमोमाइल चाय कहां से खरीदें? | Where to buy chamomile tea in Hindi

यदि आप कैमोमाइल चाय को खरीदना चाहते हैं तो आप कैमोमाइल चाय के बैग Flipkart या Amazon की वेबसाइट से ऑनलाइन खरीद सकते हैं।

कैमोमाइल चाय कैसे बनाए? | How to make chamomile tea in Hindi

बबूने के फूल (कैमोमाइल) की चाय बनाने के लिए आप हमारी बताई हुए विधि को पढ़ सकते हैं जिसे हमने नीचे बताया हुआ है

कैमोमाइल चाय बनाने की विधि – Chamomile tea recipe in Hindi

दो कप चाय  बनाने की विधि
  • सॉस पैन में ढाई कप पानी उबालें,
  • अब उसमें 2-3 बबूने के फूल / 1 चाय का बैग डाल दें,
  • फिर 8-10 मिनट तक  पानी को उबलने दें,
  • उबलने के बाद 15 मिनट पानी को ढक दें,
  • फिर इस चाय को छान लें,
  • अगर मन हो, तो स्वादानुसार शहद/ गुड़/ इलायची डाल लें,
  • बस तैयार है बबूने के फूल की चाय (कैमोमाइल चाय), अब आप इसकी स्वास्थ्यवर्धक चुस्कियां ले सकते हैं।
कैमोमाइल की चाय का सेवन आप सुबह, दोपहर और शाम के वक्त कभी भी कर सकते हैं। दिनभर में करीब दो से तीन कप कैमोमाइल की चाय का सेवन (100 से 400 mg) किया जा सकता है। हालांकि सेवन से पहले एक बार अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

कैमोमाइल चाय के नुकसान | Chamomile tea side effects in Hindi

बबूने के फूल की चाय के हानिकारक प्रभाव

  • अगर आप एंटी-कौयगुलांट (Anticoagulant) दवाएं (खून में थक्के बनने की प्रकिया को धीमा करने वाली दवाइयां) जैसे वारफारिन, हेपरिन, क्लोपिडोग्रेल, टिक्लोपिडीन या पेंटोक्सिफ़ाइललाइन लेते हैं तो कैमोमाइल चाय पीने से बचना चाहिए।  क्योंकि  कैमोमाइल की चाय रक्त को पतला करने वाली दवाओं के साथ हस्तक्षेप कर उनके प्रभाव को काम कर सकती है।
  • कैमोमाइल की चाय के अधिक सेवन से डायरिया या उल्टी की समस्या हो सकती है।
  • प्रेगनेंसी में कैमोमाइल चाय के अधिक सेवन से बचना चाहिए। क्योंकि इसके अधिक सेवन से यूटेराइन कॉन्ट्रेकशन (uterine contractions) हो सकता है। जिससे गर्भाशय की मांसपेशियां सिकुड़ने लगती हैं और भ्रूण समय से पहले गर्भ से निकल सकता है।
  • अस्थमा के ग्रष्त रोगियों को कैमोमाइल की चाय भी नहीं पीनी चाहिए। क्योंकि इससे अस्थमा के लक्षण और भी अधिक ख़राब हो सकते हैं।
ये हैं कैमोमाइल चाय (बबूने के फूल की चाय) के फायदे और नुकसान । कमेंट में बताएं आपको यह पोस्ट कैसी लगी। अगर यह पोस्ट पसंद आई हो तो इस पोस्ट को शेयर जरूर करें।
कैमोमाइल की चाय का सेवन किसी भी रोग का प्राथमिक उपचार नहीं है बल्कि उस बीमारी के लक्षणों को कम करने और शारीरिक स्वास्थ्य को बढ़ाने में मदद कर सकती है। इसलिए यदि आप किसी रोग से ग्रस्त हैं और उसकी दवाई चल रही हो तो उसे बंद ना करें।
ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है। कैमोमाइल चाय को अपनी डाइट में शामिल करने या हटाने से पहले किसी योग्य डॉक्टर की सलाह जरूर लें। 

References (सन्दर्भ )

  • https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/18681440/
  • https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/25176245/
  • https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3827197/
  • https://pubs.acs.org/doi/abs/10.1021/jf8014365
  • https://onlinelibrary.wiley.com/doi/full/10.1002/ptr.4807
  • https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2995283/
  • https://www.netmeds.com/health-library/post/5-astounding-benefits-of-chamomile-that-you-should-know
  • https://www.healthline.com/nutrition/5-benefits-of-chamomile-tea
  • https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2995283/
इस ब्लॉग [WEB POST GURU: THE ULTIMATE GUIDE TO HEALTHY LIVING] में आने और पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.