तुलसी के 8 स्वास्थ्यवर्धक फायदे

Basil Leaves Benefits In Hindi | तुलसी के 8 स्वास्थ्यवर्धक फायदे जो करे इन रोगों का इलाज

Basil Leaves Benefits In Hindi : इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको तुलसी के फायदे (Basil Leaves in Hindi) और इसके अधिक सेवन से होने वाले नुकसान के बारे में विस्तार से समझा रहे हैं 

Basil को हिंदी भाषा में तुलसी कहा जाता है। आयुर्वेदिक उपचारों में तुलसी का पेड़ लगभग 5,000 वर्षों से उपयोग में लाया जा रहा है। कई अध्ययनों में बताया गया है कि तुलसी का पूरा पौधा ही विभिन्न प्रकार की औषधियां बनाने के लिए उपयोग में लाया जाता है। जिसमें पौधे की पत्तियां, तना और बीज विशेष रूप से शामिल हैं।

तुलसी में मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट गुण, एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण, एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-वायरल गुण, एंटी-डिप्रेसेंट और एंटी -एंग्जायटी गुण (तुलसी के लाभ) अनेक बिमारियों से लड़ने में मदद करती है। तुलसी में पाया जाने वाला पॉलीफेनॉल त्वचा की झुर्रियों और काले धब्बों को कम (Benefits of basil in Hindi) करती है। साथ ही त्वचा को दुरुश्त बनाए रखती है।

और पढ़ें- हर्पीस बीमारी का घरेलू इलाज

तुलसी के इन स्वास्थ्यवर्धक गुणों के कारण इसे “वनस्पतियों की रानी” कहा जाता है। जो भारत वर्ष में अत्यंत पवित्र मानी जाती है जिसका उपयोग हजारों वर्षों से अनेक बिमारियों से लड़ने में किया जा रहा है 

तुलसी की पतियों से बनी चाय एक आयुर्वेदिक या हर्बल पेय पदार्थ (तुलसी की चाय के फायदे) होने के साथ ही यह हमारे स्वास्थ के लिए अति लाभदायक होती है जिसका उपयोग शारीरिक और मानसिक समस्याओं को दूर करने में किया जाता है। 

और पढ़ें- अगर किडनी की है समस्या, तो अपनाएं ये घरेलू उपचार

तुलसी (Tulsi) में मौजूद पोषक तत्व | Nutritional Values of Basil in Hindi

तुलसी में कई प्रकार के स्वास्थ्यवर्धक पोषक तत्व होते हैं, जिनमें निम्नलिखित विटामिन और खनिज शामिल हैं:
100 ग्राम तुलसी में में मौजूद पोषक तत्व 

पोषक तत्व

मात्रा

प्रोटी

3.2 g

फैट

5.4 g

कोलेस्ट्रॉल

0 mg

कार्बोहाइड्रेट

2.7 g

विटामिन A

5276 IU

विटामिन C

18 mg

विटामिन E

0.8 mg

विटामिन K

415 µg

फोलेट्स

68 µg

आयरन

3.2 mg

कैल्शियम

177 mg

मैग्नीशियम

64 mg

जिंक

0.8 mg

मैंगनीज

1.1 mg

फॉस्फोरस

56 mg

तुलसी के 8 स्वास्थ्यवर्धक फायदे | Basil Leaves Benefits In Hindi

तुलसी के पत्ते में बहुत से ऐसे गुण (Tulsi ke fayde in Hindi) होते हैं जो विभिन्न बिमारियों के इलाज में मदद करते हैं जिनमें –
  • एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-वायरल गुण-  सर्दी, जुकाम और बुखार से राहत दिलाने में,
  • एंटी-डायरियल गुण – डायरिया को रोकने में,
  • एंटी-डिप्रेसेंट और एंटी -एंग्जायटी गुण – तनाव व चिंता को कम करने में,
  • एंटी-ऑक्सीडेंट गुण – रक्तचाप और मधुमेह को नियंत्रित करने में,
  • एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण – जोड़ों के दर्द को कम करने में,
  • एंटी-माइक्रोबियल गुण – दांतों व मुंह के कीटाणुओं को खत्म करने में
  • एंटी-एलर्जिक गुण – शरीर व त्वचा में होने वाले फोड़े और फुंसी को रोकने में
  • एंटी-फंगल गुण – बालों को टूटने (झड़ने) से बचाने में
इसलिए अगर नियमित रूप से तुलसी की चाय पी जाए तो यह हमारे स्वास्थ के लिए फायदेमंद हो सकती हैं।
Basil Tea,तुलसी के फायदे
Basil Tea

1. तुलसी के स्वास्थ्यवर्धक फायदे सर्दी और जुकाम से राहत दिलाने में – Basil leaves benefits for cold and flu in Hindi

तुलसी की पत्तियों में मुख्य रूप से एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-वायरल गुण (Tulsi ke fayde in Hindi) पाए जाते हैं। जो सिर दर्द, सर्दी, जुकाम, बुखार, मलेरिया और अपचन की समस्याओं (तुलसी की हर्बल चाय के लाभ) से राहत दिलाती है।

एक अध्ययन में पाया गया है कि तुलसी में एपिगेनिन और ओर्सोलिक एसिड जैसे यौगिक होते हैं, जो हर्पीस, हेपेटाइटिस बी और एंटर वायरस (Tulsi chai benefits) से लड़ने के लिए प्रभावी हैं। इसलिए तुलसी के पत्तों से बनी चाय स्वस्थ के लिए स्वास्थ्यवर्धक हो सकती है।

और पढ़ें- हर्बल चाय के 8 स्वास्थ्यवर्धक फायदे और नुकसान

2.  तुलसी के फायदे डायरिया के इलाज में – Basil leaves benefits for diarrhea in Hindi

तुलसी में एंटी-डायरियल गुण होने के कारण इसका उपयोग डायरिया या दस्त या लूज़ मोशन को रोकने में भी किया जाता है, साथ ही तुलसी पेट के भीतर के एसिड (acid) को संतुलित कर पीएच (pH) के स्तर को स्थिर रखती है। जिसे पाचन (digestion) अच्छे से होता है और गैस और कब्ज जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलता है।

और पढ़ें- अदरक की चाय है फायदेमंद इन बीमारियों में

3. तुलसी के फायदे तनाव व चिंता को कम करने में – Basil leaves benefits for stress and anxiety in Hindi

तुलसी में एंटी-डिप्रेसेंट और एंटी -एंग्जायटी जैसे गुण भी मिलते हैं जो तनाव व चिंता को कम कर दिमाग को शांत रखती है।

इंडियन जर्नल ऑफ ट्रेडिशनल नॉलेज (Indian Journal of Traditional Knowledge) के अध्ययन में पाया गया है कि जिन लोगों ने प्रत्येक दिन 500 मिलीग्राम तुलसी का सेवन किया वे कम चिंतित, तनावग्रस्त और उदास महसूस करते थे।

और पढ़ें- पुदीने की चाय के 7 औषधीय फायदे और नुकसान

4. Tulsi के फायदे रक्तचाप और मधुमेह को नियंत्रित करने में – Benefits of Tulsi for blood pressure and diabetes in Hindi

तुलसी की पत्तियों में पाया जाने वाला एंटी-ऑक्सीडेंट गुण (Tulsi ke fayde in Hindi) रक्तचाप को नियंत्रित करने, हृदय को स्वस्थ रखने, मधुमेह (diabetes) को नियंत्रित करने, कई प्रकार के कैंसर के खतरे को कम करने, श्वसन संबंधी विकार (Respiratory disorders) को दूर करने, डेंटल और ओरल हेल्थ को बनाए रखने (तुलसी की हर्बल चाय के उपयोग) में मदद करती है।

एक वैज्ञानिक रिसर्च में माना गया है कि तुलसी में मौजूद पोटैशियम रक्तचाप (Blood pressure) को कम करने में मदद करती है। इसलिए तुलसी की चाय स्वस्थ के लिए स्वास्थ्यवर्धक हो सकती है।

और पढ़ें- जानिए गुड़हल की चाय के 7 फायदे और नुकसान

5. तुलसी के स्वास्थ्यवर्धक फायदे जोड़ों के दर्द को कम करने में – Benefits of Tulsi leaves for joint pain in Hindi

यदि आप जोड़ों के दर्द (अर्थराइटिस) या गठिया रोग से ग्रष्ट हैं तो तुलसी की चाय आपके लिए चमत्कारी हो सकती है। ऐसा इसलिए, क्योंकि इसमें पाए जाने वाले महत्त्वपूर्ण तेल (यूजेनॉल, सिट्रोनेलोल और लिनालूल) में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण (तुलसी की चाय के फायदे) होते हैं, जो प्रो-इंफ्लेमेटरी साइटोकिन (Pro-inflammatory cytokines) को निकलने से रोकते (Tulsi chai benefits) हैं जिससे जोड़ों में दर्द (अर्थराइटिस या गठिया) नहीं होता है।

और पढ़ें- कैफीन क्या है, जानिए इसके स्रोत, मात्रा, फायदे और नुकसान 

6. तुलसी के फायदे दांतों व मुंह के कीटाणुओं को खत्म करने में – Benefits of Tulsi for teeth in Hindi

तुलसी में पाए जाने वाला एंटी-माइक्रोबियल गुण दांतों व मुंह के कीटाणुओं को खत्म करने में मदद करती हैं और सुबह के समय मुँह से आने वाली बदबू को दूर करने में भी सहायक होती है।

सेल कल्चर के अध्ययन में पाया की तुलसी में पाए जाने वाले शक्तिशाली तेल में एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं जो बैक्टीरिया की कोशिकाओं (cell wall) को तोड़ उसे मारने का काम करती है।

और पढ़ें- कैमोमाइल चाय के 10 फायदे और नुकसान

7. तुलसी पत्ते का फायदे फोड़े और फुंसी को रोकने में – Benefits of Tulsi for pimples in Hindi

तुलसी में एंटी-एलर्जिक गुण (तुलसी की पत्ती के फायदे) होने के कारण ये शरीर व त्वचा में होने वाले फोड़े, फुंसी, दाने, खुजली और जलन को रोकने में मदद करती है और साथ ही आपकी त्वचा को चमकदार बनाए रखती है।

और पढ़ें- सुपरफूड क्या हैं, जानिए सुपरफूड के स्वास्थ्यवर्धक फायदे

8. तुलसी पत्ते के फायदे बालों को टूटने (झड़ने) से बचाने में – Benefits of Tulsi tea for hair fall in Hindi

तुलसी में पाया जाने वाले महत्त्वपूर्ण एरोमेटिक तेल (यूजेनॉल, सिट्रोनेलोल और लिनालूल) एंटी-फंगल (तुलसी की चाय के लाभ) की तरह कार्य करते हैं। जो सिर की खुजली को कम (Tulsi ke fayde in Hindi) करती है और बालों को टूटने (झड़ने) से भी बचाती है। इसलिए बालों को टूटने (झड़ने) से बचाने के लिए तुलसी की चाय का सेवन किया जा सकता है।

और पढ़ें- गुलाब के डंठल की चाय (रोजहिप टी) है फायदेमंद, इन बीमारियों में।

तुलसी की चाय का उपयोग | Basil tea uses in Hindi

तुलसी की चाय (Basil tea in Hindi) का सेवन आप सुबह, दोपहर और शाम के वक्त कभी भी कर सकते हैं। दिनभर में करीब दो से तीन कप तुलसी की चाय का सेवन किया जा सकता है। हालांकि सेवन से पहले एक बार अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

और पढ़ें- लो कार्ब डाइट (कम कार्बोहाइड्रेट डाइट) के फायदे

तुलसी की चाय बनाने का तरीका | Recipe of basil tea in Hindi

तुलसी की चाय रेसिपी

दो कप चाय बनाने की विधि
  • सॉस पैन में ढाई कप पानी उबालें,
  • अब उसमें 5-8 पत्तियां तुलसी की डाल दें,
  • फिर 8-10 मिनट तक  पानी को उबलने दें,
  • उबलने के बाद 15 मिनट पानी को ढक दें,
  • फिर इस चाय को छान लें,
  • अगर मन हो, तो स्वादानुसार शहद/ गुड़ /नमक भी डाल लें, ध्यान रहे इन्हें उबलते पानी में ना डालें।
  • बस तैयार है आपकी तुलसी की चाय (Basil tea in Hindi), अब आप इसकी स्वास्थ्यवर्धक चुस्कियां ले सकते हैं।
आप इस चाय को रोजाना दो से चार कप पी सकते हैं।

तुलसी की चाय के नुकसान | Basil Leaves side effects in Hindi

तुलसी  के चाय के अधिक मात्रा में सेवन या गलत तरीके से सेवन करने से आपको तुलसी के नुकसान भी सहन करने पड़ सकते हैं। तो आइये अब तुलसी के नुकसान के बारे में जानते हैं।
  • तुलसी  की चाय के अधिक सेवन से यह खून के थक्के बनने की प्रक्रिया को धीमा करती है और साथ ही खून को जरूर से ज्यादा पतला कर सकती है। यदि आप पहले से ही खून को पतला करने की दवा ले रहे हैं। तो आप तुलसी  की चाय का सेवन सीमित मात्रा में ही करें।
  • यदि आपकी कोई सर्जरी होनी है। तो सर्जरी होने से कुछ दिन पहले तुलसी की चाय का सेवन बिलकुल बंद  कर दें क्योंकि तुलसी की चाय खून के थक्के बनने की प्रक्रिया को धीमा (Side effects of basil tea in Hindi) करती है। जिससे सर्जरी के दौरान या बाद में ब्लीडिंग होने का खतरा बढ़ सकता है।
  • अगर आप पहले से ही ब्लड शुगर लेवल कम करने वाली दवाइयों का सेवन कर रहे है। तो तुलसी के अधिक सेवन से परहेज करें क्योंकि तुलसी की चाय आपके ब्लड में मौजूद शुगर के लेवल को जरुरत से ज्यादा कम कर देगी। जिससे थकान महसूस होना, चक्कर आना, कपकपी छूटना जैसे लक्षण (Disadvantages of basil tea in Hindi) सामने आते हैं।
  • गर्भावस्था के दौरान तुलसी का अधिक सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि तुलसी गर्भाशय (Uterus) को सिकुड़ने (तुलसी की चाय के सेवन से जुड़ी सावधानियां) का काम करती है। जिससे गर्भपात का खतरा बना रहता है।
  • तुलसी की तासीर गर्म होने की वजह से इसका अत्यधिक सेवन करने से पेट में जलन पैदा हो सकती है।

और पढ़ें- अगर किडनी की है समस्या, तो अपनाएं ये घरेलू उपचारये हैं तुलसी की चाय (Basil tea in Hindi) के 8 स्वास्थ्यवर्धक फायदे और इसके सेवन से जुड़ी सावधानियां। कमेंट में बताएं आपको यह पोस्ट कैसी लगी। अगर यह पोस्ट पसंद आई हो तो इस पोस्ट को शेयर जरूर करें।

तुलसी की चाय का सेवन किसी भी रोग का प्राथमिक उपचार नहीं है इसलिए यदि आप किसी रोग से ग्रष्ट हैं और उसकी दवाई चल रही हो तो उसे बंद ना करें।ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है तुलसी की चाय को अपनी डाइट में शामिल करने या हटाने से पहले किसी योग्य डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें।

और पढ़ें- सर्वाइकल दर्द में करें इन खाद्य पदार्थों का परहेज

References (सन्दर्भ)

  • https://food.ndtv.com/food-drinks/9-incredible-benefits-of-basil-leaves-you-may-not-have-known-1834742 
  • https://www.everydayhealth.com/diet-nutrition/diet/basil-what-it-does-your-body-different-types-enjoy-more/
  • https://www.rxlist.com/basil/supplements.htm
  • https://www.vahrehvah.com/indianfood/5-amazing-health-benefits-of-drinking-basil-tea
  • https://www.healthline.com/nutrition/basil
  • https://www.verywellhealth.com/holy-basil-4766587
  • https://draxe.com/nutrition/benefits-of-basil/
  • https://en.wikipedia.org/wiki/Basil
इस ब्लॉग [WEB POST GURU: THE ULTIMATE GUIDE TO HEALTHY LIVING] में आने और पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.