Tuesday, November 29, 2022

Shiv Mantra Benefits | श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र (शिव मंत्र) के फायदे और जाप विधि

श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र भगवान शिव मंत्र (Shiv Mantra in Hindi) है जिसका पूरी निष्ठा के साथ जाप करने से भगवान शंकर प्रसन्न हो जाते हैं और आपकी मनोकामनाए पूर्ण कर देते हैं। इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र (Shree Shivay Namastubhyam Mantra in Hindi) का अर्थ, श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र के फायदे (Shiv Mantra Benefits in Hindi) और श्री शिवा य नमस्तुभ्यं मंत्र की जाप विधि के बारे में बता रहे हैं।

आइये अब इस पोस्ट को शुरू करते हैं।

Shri Shivay Namstubhy Mantra,श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र
Image source: pexels.com (श्री शिवाय नमस्तुभ्यं Images)

श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र का अर्थ क्या है? | Shree Shivay Namastubhyam Mantra meaning in Hindi

श्री– श्री, शिवाय– भगवान शिव, नमस्तुभ्यं– नमस्कार.

श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र का अर्थ है कि “हे शिव मैं आपको नमस्कार करता हूं, या श्री शिव को मेरा नमस्कार है।”

श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र के फायदे (शिव मंत्र के फायदे) | Shree Shivay Namastubhyam Mantra Benefits in Hindi (Shiv Mantra Benefits)

इस शक्तिशाली शिव मंत्र (Shiv Mantra in Hindi) का उपयोग कई रोगों के उपचार के लिए किया जाता सकता है।

आइये जानते हैं श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र के फायदे (shree shivay namastubhyam mantra ke fayde) के बारे में-

1. श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र का जाप करने से आपकी मनोकामना पूरी होती है। – Shree Shivay Namastubhyam Mantra in Hindi

शिव मंत्र जाप से आपकी सभी प्रकार की मनोकामना पूर्ण होती हैं।

ऐसा माना जाता है की इस मंत्र जाप से भगवान शिव स्वयं भक्त की मनोकामना पूर्ण करते हैं।

2. शिव मंत्र का जाप करने से इम्युनिटी बढ़ती है। – Shiv Mantra Benefits in Hindi 

शिव मंत्र का फायदा (Shiv Mantra Benefits in Hindi) इम्युनिटी बढ़ाने में हो सकता है।

शिव मंत्र का जाप हाइपोथैलेमस नामक ग्रंथि को उत्तेजित करता है।

ये इम्युनिटी बढ़ाने और कुछ हैप्पी हार्मोन सहित शरीर के कई कार्यों को कंट्रोल करता है।

आप जितने खुश रहेंगे आपकी इम्युनिटी उतनी ही मजबूत होगी।

3. मन शांत होता है। (Shiv Mantra Benefits)

इस मंत्र की कंपन ध्वनियां मन को शांत करने वाले हार्मोन को उत्तेजित करने में मदद करती हैं।

ये आपके शरीर को आराम देती हैं। ये आपको ध्यान केंद्रित करने में भी मदद करता है और इस तरह आपके दिमाग के लिए एक ट्रैंक्विलाइजर के रूप में काम करता है.

4. शिव का मंत्र पढने से एकाग्रता और सीखने की शक्ति बढ़ती है। 

एक शोध और विशेषज्ञों के अनुसार, जिन लोगों ने शिव मंत्र का जाप किया था उनमें बेहतर एकाग्रता और सीखने की शक्ति देखने को मिली थी।

ऐसा इसलिए है, क्योंकि जब आप जाप करते हैं तो आपके चेहरे और सिर पर मौजूद चक्रों को सक्रिय करने में मदद मिलती है जो एकाग्रता और स्मृति को बढ़ाते हैं।

5. हृदय स्वास्थ के लिए फायदेमंद है श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र।

शिव मंत्र का जाप करने से व्यक्ति बहुत शांत हो जाता है और सांस लेने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है, जो आपके हृदय की धड़कन को नियमित करने और आपके हृदय को स्वस्थ रखने में मदद करती है।

6. अच्छी सेहत की प्राप्ति के लिए है श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र।

निरोगी जीवन किसी भी व्यक्ति के जीवन की सबसे बड़ी पूंजी मानी जाती है।

शास्त्रों के अनुसार शिव मंत्र (श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र) के जाप से मनुष्य के पास गंभीर बीमीरियां नहीं आती।

इस मंत्र के जप से समस्त रोगों का नाश होता है और व्यक्ति निरोगी बना रहता है।

7. बुरी शक्तियों से बचाव में लाभकारी शिव मंत्र।

ऐसा माना जाता है कि श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र (Shree Shivay Namastubhyam Mantra) का जाप करने से यह हमारे आस पास की बुरी शक्तियों से बचाव करने मदद करता है।

8. सकारात्मक विचार के लिए फायदेमंद का शिव का जाप।

श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र का जाप करने से हमें अपने जीवन में सकारात्मक विचार आते हैं। सकारात्मक विचार से तनाव  कम होता और अच्छी नींद आती है।

उत्पत्ति कहां से हुई श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र की?   

श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र की उत्पत्ति शिव महापुराण से हुई है। इसे शिवपुराण के नाम से भी जाना जाता है। शिव पुराण मूल रूप से भगवान शिव को समर्पित है।

इसमें भगवान शिव की महिमा का विस्तार से गुणगान किया गया है।

जो भी व्यक्ति शैव संप्रदाय से संबंध रखता है, उसके लिए शिवपुराण सबसे महत्वपूर्ण ग्रंथ है।

जाप कब करना चाहिए श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र का।

इस मंत्र (Shiv Mantra) का जाप किसी भी समय किया जा सकता है लेकिन प्रातः काल का समय इस मंत्र के जाप के लिए बहुत अच्छा माना जाता है।

इसलिए कोशिश करें आप इस मंत्र का जाप सुबह के समय नाहा कर करें।

श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र का जाप कैसे करें? | Shree Shivay Namastubhyam Mantra Jaap Vidhi in Hindi

श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र (Shree Shivay Namastubhyam Mantra in Hindi) का जाप करने की विधि हमने नीचे बताई हैं।

श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र जाप की विधि-

  • स्नान करने के बाद ही इस मंत्र का जाप करना चाहिए।
  • इस मंत्र जाप के दौरान बैठने के लिए जिस आसन का इस्तेमाल किया जाता हैं. वह साफ़-सुथरा होना चाहिए।
  • वैसे मंत्र जाप के लिए आप किसी भी आसन का प्रयोग कर सकते है लेकिन कुश या ऊन के आसन का प्रयोग श्रेष्ठ माना जाता है।
  • इस मंत्र के जाप के समय शिव जी की फोटो या प्रतिमा को सामने रखे। चित्र या प्रतिमा को नमस्कार करे और अपने मन में शिव जी का ध्यान करते हुए मंत्र उच्चारण करे।
  • अपने घर के मंदिर के सामने बैठ कर भी इस मंत्र का जाप किया जा सकता है।
  • इस बात का विशेष ध्यान रखें की मंत्र जाप के दौरान मंत्र का उच्चारण सही शब्दों में होना चाहिए।
  • मंत्र का उच्चारण करते समय आपको विशेष रूप से अपने मन में किसी के लिए द्वेष या क्रोध नहीं रखना है।
  • माला जाप करने के लिए पूर्व की दिशा का ही चयन करें यानी मुख को पूर्व की दिशा में रखें।
  • इस मंत्र जाप के लिए रुद्राक्ष की 108 मोती की माला का उपयोग करे क्योंकि इस मंत्र का आपको 108 बार जाप करना हैं। माला जाप करने के लिए निश्चित संख्या का होना बहुत जरुरी माना गया है।
  • अगर आप इस मंत्र का 108 बार जाप करते हैं, तो आपको इसके अनेक लाभ मिलते हैं।

इस मंत्र को महामृत्युंजय मंत्र के बराबर माना जाता हैं। ऐसा माना जाता है की अगर आप श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र का एक बार जाप करते हैं। तो आपको महामृत्युंजय मंत्र के एक हजार बार जाप करने जितना लाभ मिलता हैं।

अन्य शिव मंत्र (Shiv Mantra)

शिव जी के और भी कई मंत्र है जिनका जाप करने से आपको बहुत लाभ प्राप्त हो सकता है। आईए आपको उन मंत्रों के बारे में भी जानकारी देते हैं।

ॐ नमः शिवाय

ॐ नमः शिवाय मंत्र शिव जी का मूल मंत्र है। इस मंत्र के जाप से आपके दुखो एवं कष्टों का विनाश होता है। धन की प्राप्ति होती एवं शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है।

इस मंत्र का जाप संतान प्राप्ति के लिए भी किया जाता है। इस मंत्र के जाप से शिव जी की आसिम कृपा आप पर बनी रहती है।

सोमवार के दिन शिवलिंग पर गाय का कच्चा दूध चढ़ाने एवं रुद्राक्ष की माला से ॐ नमः शिवाय मंत्र का जाप 108 बार करने से भगवान शिव की विशेष कृपा प्राप्त होती है।

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टि: वर्धनम् । उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात् ।।

मृत्युंजय मंत्र बहुत शक्तिशाली होता है। इसका जाप भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए किया जाता है।

जब प्राणो पर संकट हो, किसी बड़ी या जानलेवा बीमारी ने घेर लिया हो या कोई मुकदमा चल रहा हो निम्न परिस्थितियों में इस मंत्र का जाप किया जा सकता है।


इस आर्टिकल के माध्यम से हमने श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र के फायदे (Shri Shivay Namstubhy Mantra Benefits) के बारे में बताया। इसके अलावा इस टॉपिक शिव मंत्र से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान की हैं।

हम उम्मीद करते है की आपको हमारा यह आर्टिकल (Shiv Mantra Benefits in Hindi) पसंद आया होगा। अगर आपको पोस्ट पसंद आई हो, तो इसे शेयर जरूर करें।

वेब पोस्ट गुरु ब्लॉग में आने और पोस्ट पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद।

Disclaimer : ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है। इस जानकारी का उपयोग किसी भी बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए।

और पढ़ें-  ई श्रमिक कार्ड योजना क्या है? जानिए इसके फायदे

References 

Hindi Need: श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र के फायदे

Vratkathaa:  श्री शिवाय नमस्तुभ्यं मंत्र के महत्त्व

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest Articles