पैनिक अटैक क्या हैं, और क्यों आते हैं।

Panic Attack In Hindi | जानिए घबराहट के दौरे (Panic Disorder) क्या हैं, और क्यों आते हैं।

Panic Attack (घबराहट के दौरे) in Hindi : इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको पैनिक अटैक क्या है? (Panic attack meaning in Hindi), पैनिक अटैक के लक्षण क्या हैं? (Panic attack symptoms in Hindi), पैनिक अटैक क्यों आते हैं? (Causes of panic attack in Hindi) और साथ ही पैनिक अटैक से बचने के घरेलू उपाय (Panic attack home remedies in Hindi) के बारे में बता रहे हैं।

और पढ़ें – जानिए हाई कोलेस्ट्रॉल हमारे स्वास्थ्य के लिए क्यों खराब है।

पैनिक अटैक (घबराहट के दौरे) क्या है? What is panic attack in Hindi

पैनिक अटैक को तीव्र भय, चिंता या बेचैनी के रूप में परिभाषित किया गया है। 

पैनिक अटैक के लक्षण आमतौर पर अचानक से आते हैं और लगभग 10 – 20 मिनट तक रह सकते हैं। हालांकि, कुछ व्यक्तियों में पैनिक अटैक की स्थिति लंबे समय तक चल सकती है। 

पैनिक अटैक के साथ आने वाले शारीरिक लक्षणों में चक्कर आना, सांस लेने में तकलीफ और पसीना आना शामिल हैं।

पैनिक अटैक का अनुभव कोई भी कर सकता है। कभी-कभी किसी विशेष घटना को याद करके भी पैनिक अटैक की स्थिति बन जाती है। 

ज्यादातर लोगों को अपने जीवन में कम से कम एक या दो बार पैनिक अटैक का अनुभव होता है। 2019 के एक अध्ययन के अनुसार, लगभग 2 से 4 प्रतिशत लोगों को पैनिक डिसऑर्डर होता है।

और पढ़ें – क्रोहन (क्रोन) रोग क्या है, जानिए इसके लक्षण, कारण व उपचार

पैनिक डिसऑर्डर क्या है? | Panic disorder in Hindi

पैनिक डिसऑर्डर (Panic disorder in Hindi) एक मानसिक स्वास्थ्य स्थिति है, और पैनिक अटैक उसका एक लक्षण है।

सिर्फ एक पैनिक अटैक होने का यह मतलब नहीं है कि उस व्यक्ति को पैनिक डिसऑर्डर है। यदि पैनिक अटैक अक्सर आते हैं या बार बार आते हैं तो तब यह स्थिति पैनिक डिसऑर्डर कहलाती है। 

बहुत से लोग कभी न कभी कम से कम एक बार पैनिक अटैक का अनुभव करते हैं, लेकिन पैनिक डिसऑर्डर से पीड़ित व्यक्ति बार-बार इसका अनुभव कर सकता है।

पैनिक अटैक (घबराहट के दौरे) के लक्षण क्या हैं | Panic attack symptoms in Hindi

घबराहट के दौरे, Panic Disorder in Hindi, what is panic attack in hindi,panic attack meaning in hindi

पैनिक अटैक आते हैं और अचानक से गायब हो जाते हैं, लेकिन यह उस व्यक्ति को बहुत थका देते हैं। अमेरिका की चिंता और अवसाद संघ के अनुसार, पैनिक अटैक में निम्न में से कम से कम चार लक्षण शामिल हो सकते हैं।

और पढ़ें – मेनियार्स रोग क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज

पैनिक अटैक के शारीरिक लक्षण – Physical symptoms of panic attack in Hindi

पैनिक अटैक के शारीरिक लक्षणों (Panic disorder symptoms in Hindi) में शामिल हैं 
  • हृदय गति या धड़कन का तेज होना,
  • सीने में दर्द या बेचैनी, 
  • साँस लेने में कठिनाई,
  • घुटन महसूस करना,
  • बेहोशी महसूस होना,
  • चक्कर आना,
  • जी मिचलाना,
  • स्तब्ध हो जाना,
  • पसीना आना या ठंड लगना,
  • हाथों या पैरों में सुन्नता या झुनझुनी,
  • सीने में दर्द या जकड़न,
  • शरीर में कंपकंपी होना।

पैनिक अटैक के मनोवैज्ञानिक लक्षण – Psychological symptoms of panic attack in Hindi

पैनिक अटैक के मनोवैज्ञानिक लक्षणों में शामिल है-
  • मानसिक स्थिति में परिवर्तन,
  • मरने की आशंका होना,
  • अपने आप से या अपने आस-पास के लोगों से अलग होने की भावना।

पैनिक अटैक के लक्षण फेफड़ों के विकार, हृदय की स्थिति या थायराइड की समस्याओं सहित अन्य चिकित्सा स्थितियों के समान हो सकते हैं। इसलिए इनके बीच अंतर पता होना जरुरी है। 

पैनिक अटैक के लक्षण अक्सर बिना किसी स्पष्ट कारण के आते हैं। क्योंकि इन हमलों की भविष्यवाणी नहीं की जा सकती है, इसलिए पैनिक अटैक की स्थिति आपके दैनिक जीवन को बुरी तरह प्रभावित कर सकती है।

और पढ़ें – जानिए हार्ट अटैक कब, कैसे और क्यों आता है।

पैनिक अटैक किसे हो सकता है? Who might have panic attacks in Hindi

ज्यादातर लोग पैनिक अटैक का अनुभव 18 वर्ष से लेकर 45 वर्ष तक की आयु के असपास करते हैं। हालांकि, पैनिक डिसऑर्डर का विकास बचपन में ही हो सकता है। महिलाओं में पुरुषों की तुलना में पैनिक डिसऑर्डर/पैनिक अटैक होने की संभावना दोगुनी होती है। पैनिक अटैक/ पैनिक डिसऑर्डर से बहुत सी जटिलताएं उत्पन्न हो जाती है। पैनिक डिसऑर्डर की जटिलताओं में शामिल हैं-

  • आत्महत्या का विचार आना, 
  • डिप्रेशन,
  • भीड़ से डर लगना,
  • बच्चों और किशोरों में मस्तिष्क का विकास देरी में होना।

और पढ़ें – हार्ट अटैक (Myocardial infarction) के लक्षण,कारण और बचाव

पैनिक अटैक (घबराहट के दौरे) के कारण क्या हैं | Causes of Panic attack in Hindi

Causes of Panic attack

पैनिक डिसऑर्डर के कारणों को अभी तक स्पष्ट रूप से समझा नहीं गया है। फिर भी एक्सपर्ट का मानना है कि कुछ लोग दूसरों की तुलना में चिंता और घबराहट के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं। इसलिए ऐसे लोगों में पैनिक अटैक और पैनिक डिसऑर्डर की संभावना अधिक हो सकती है। 

वैज्ञानिकों का यह भी मानना है कि जब मस्तिष्क को खतरे की चेतावनी मिलती है, तो शरीर एड्रिनल ग्रंथि (Adrenal gland) से एड्रेनालाईन (Adrenaline) नामक हॉर्मोन को स्त्रावित करने लगता है। यह एड्रेनालाईन नामक हॉर्मोन दिल की धड़कन को तेज करने, रक्तचाप को बढ़ाने और घबराहट में वृद्धि करने के लिए जिम्मेदार हो सकता है।

और पढ़ें – हृदय रोग क्या है? जानिए इसके प्रकार, लक्षण, कारण और बचाव

इसके अलावा निम्नलिखित कारण भी पैनिक डिसऑर्डर को ट्रिगर कर सकता है। इन कारणों में शामिल हैं –

पैनिक अटैक होने के कारण – Panic attack reason in Hindi

  • पैनिक डिसऑर्डर का पारिवारिक इतिहास है,
  • कुछ स्वास्थ्य समस्या जैसे अतिसक्रिय थायरॉयड (हाइपरथायरायडिज्म), या हृदय या सांस लेने में समस्या,
  • मनोदशा विकार (नकारात्मक सोच),
  • उपवास, जिसकारण रक्त शर्करा गिर सकता है और पैनिक अटैक का कारण बन सकता है।
  • शराब का अधिक सेवन,
  • बहुत अधिक निकोटीन या बहुत अधिक कैफीन का उपयोग करना,
  • गर्भनिरोधक गोलियाँ, खांसी की दवाएं, वजन घटाने की दवाएं आदि,
  • नशीली दवाओं के प्रयोग, 
  • लंबे समय तक तनाव का उच्च स्तर बने रहना,
  • प्रसवोत्तर (बच्चे के जन्म के बाद) हाइपरथायरायडिज्म,
  • गंभीर तनाव, जैसे किसी प्रियजन की मृत्यु, तलाक या नौकरी छूटना।

एगोराफोबिया (भीड़ से डर लगना) और पैनिक अटैक | Agoraphobia and panic attacks in Hindi

एगोराफोबिया (Agoraphobia) एक ऐसी स्थिति है जिसमें व्यक्ति सार्वजनिक स्थानों और खुले स्थानों में जाने से डरता है। विशेष्यज्ञों के अनुसार एगोराफोबिया का प्रमुख कारण पैनिक अटैक और पैनिक डिसऑर्डर है। 
यदि कोई व्यक्ति एगोराफोबिक हैं, तो वह ऐसे स्थानों से जाने से बचता है जहाँ उसे मदद ना मिलने का भय रहता है। इन आशंकाओं के कारण वह व्यक्ति अधिक से अधिक परिस्थितियों से बचने लगते हैं। उदाहरण के लिए,
  • भीड़-भाड़ वाली जगहें जैसे शॉपिंग मॉल, सिनेमा हाल या खेल के मैदान।
  • कार, ​​हवाई जहाज, सबवे या यात्रा के अन्य रूप।
  • सामाजिक समारोहों, रेस्तरां, या अन्य स्थितियों में जहां पैनिक अटैक का भय हो।
  • शारीरिक व्यायाम के समय यह घबराहट और पैनिक अटैक का भय सताना। 
  • कुछ खाद्य या पेय पदार्थ जो घबराहट कर सकते हैं, जैसे शराब, कैफीन, कुछ दवाएं।
  • किसी ऐसे व्यक्ति की कंपनी के बिना कहीं भी जाना जो आपको सुरक्षित महसूस कराता हो। 
इन सभी कारणों की वजह से आप केवल घर पर ही रहना सुरक्षित महसूस करते हैं।
 

पैनिक अटैक से बचाव / पैनिक डिसऑर्डर को कम करने के तरीके | Panic attack treatment in Hindi

पैनिक अटैक का उपचार इसकी तीव्रता (Intensity) और आवृत्ति (Frequency) को कम करने, और दैनिक जीवन में आपके कार्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। पैनिक अटैक का मुख्य उपचार मनोचिकित्सा और दवाएं हैं।

1. मनोचिकित्सा द्वारा पैनिक डिसऑर्डर का इलाज  – Psychotherapy

मनोचिकित्सा में आपका चिकित्सक आप से बात करेगा और आप से जानने की कोशिश करेगा की आपको किस किस परिस्थितियों में पैनिक अटैक पड़ता है। इसके अलावा आपका चिकित्सक वैसी ही परिस्थितियां पैदा कर सकता है जिसमें आप पैनिक होते हैं ताकि आपको उन परिस्थितियों से चरण चरणबद्ध तरीके से धीरे-धीरे वापिस लाया जा सके। 

2. दवाओं द्वारा पैनिक डिसऑर्डर का इलाज  – Panic attack medicine in Hindi

दवाएं, पैनिक अटैक के साथ-साथ अवसाद से जुड़े लक्षणों को भी कम करने में मदद कर सकती हैं इन दवाइयों में शामिल हैं –

a. सेलेक्टिव सेरोटोनिन रूप्टेक इनहिबिटर (Selective serotonin reuptake inhibitors): इनका उपयोग आमतौर पर अवसाद (Depression) के इलाज के लिए किया जाता है। अधिकांश लोगो में अवसाद पैनिक अटैक का कारण होता है। 

b. बेंजोडायजेपाइन (Benzodiazepines): यह एक प्रकार की चिंता रोधी दवा (anti anxiety medication) है जिसका उपयोग चिंता के लक्षणों का इलाज करने में किया जा सकता है।  

c. बीटा-ब्लॉकर्स (Beta-blockers): इनका उपयोग दिल की धड़कन को नियंत्रित करने में किया जा सकता है। डॉक्टर इन दवाओं की प्रभावशीलता को बढ़ाने के लिए दवाओं का मिश्रण भी कर सकते हैं। ध्यान रखें कि पैनिक अटैक के लक्षणों में सुधार होने में कई सप्ताह से लेकर कई महीनों तक का समय लग सकता है।

Note : इन दवाओं का उपयोग करते समय डॉक्टर के निर्देशों का पालन करना आवश्यक है। 

पैनिक अटैक (घबराहट) से बचने के घरेलू उपाय | Panic attack home remedies in Hindi

 पैनिक अटैक के घरेलू उपाय में शामिल हैं –

1. योग या गहरी सांस लेकर पैनिक अटैक का इलाज – Yoga or deep breathing

योग या गहरी सांस (Panic attack in Hindi solution) लेने से आपके शरीर को आराम मिल सकता है और तनाव कम हो सकता है। जो पैनिक अटैक से बचने का कारगर उपाय है।

और पढ़ें – थायराइड के प्रारंभिक लक्षण, कारण और इलाज

2. सक्रिय रह कर पैनिक अटैक का इलाज – Stay active

पैनिक अटैक से बचने के लिए सक्रिय रहें। सक्रिय रहने से आपका ब्लड सर्कुलेशन ठीक से होता है साथ ही चिंता और घबराहट की स्थिति दूर हो सकती है। 

और पढ़ें – जानिए ग्रीन कॉफी के साइड इफेक्ट्स क्या-क्या हैं।

3. व्यायाम द्वारा पैनिक अटैक का इलाज- Exercise regularly

पैनिक अटैक से बचने के लिए व्यायाम, दिमाग को शांत करने और दवा के संभावित दुष्प्रभावों को दूर करने में मदद कर सकता है।

और पढ़ें – गुर्दे की विफलता के 10 लक्षण और कारण

4. मादक पदार्थों से दूर रह कर पैनिक अटैक का इलाज – Cut out (or down) caffeine, alcohol and other

मादक पेय, कैफीन, धूम्रपान और मनोरंजक दवाओं से दूर रहें, जो पैनिक अटैक को ट्रिगर कर सकते हैं।

कई अध्ययनों से यह भी पता चलता है कि धूम्रपान और अल्कोहल चिंता के लक्षणों को खराब कर सकता है। इसलिए, चिंता की भावनाओं को कम करने के लिए शराब या धूम्रपान से बचने की कोशिश करनी चाहिए। 

और पढ़ें – जानिए किडनी बचाव के 11 घरेलू उपाय

5. पर्याप्त नींद लेकर पैनिक अटैक का इलाज -Get some sleep

पर्याप्त नींद लेने से चिंता और घबराहट की स्थिति दूर होती है और पैनिक अटैक से राहत मिलती है साथ ही पर्याप्त नींद दिन भर की थकान को दूर करती है।

और पढ़ें – सर्वाइकल दर्द में करें इन खाद्य पदार्थों का परहेज

6. हर्बल टी का सेवन कर के पैनिक अटैक का इलाज – Take herbal tea

हर्बल टी का सेवन करें से यह पैनिक अटैक को काफी हद तक कम कर सकता है।  

हर्बल चाय विटामिन C, विटामिन E, विटामिन B6, पोटेशियम, मैंगनीज, कॉपर और मैग्नीशियम जैसे विटामिन और खनिजों से भरी होती है साथ ही इसमें पाए जाने वाले बायोएक्टिव यौगिक डिप्रेशन को दूर करने में मदद करता है। 

अध्ययनों से पता चलता है कि कैमोमाइल चिंता जैसे विकार के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है।

और पढ़ें – किडनी रोगियों के लिए कम प्रोटीन डाइट

7. अरोमाथेरेपी द्वारा पैनिक अटैक का इलाज- Try aromatherapy

अरोमाथेरेपी में स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए सुगंधित आवश्यक तेलों (लैवेंडर ऑयल) का उपयोग किया जाता है। इन सुगंधित तेलों को सांस द्वारा सीधे अंदर लिया जा सकता है या गर्म पानी में डाल कर उस पानी से स्नान किया जा सकता है। अध्ययनों से पता चला है कि अरोमाथेरेपी:

  • दिमाग को आराम दिलाता है,
  • सोने में मदद करता है,
  • मूड बढ़ाता है,
  • हृदय गति और रक्तचाप को कम करता है।    

8. शांतिपूर्ण स्थान जा कर पैनिक अटैक का इलाज – Find a peaceful place

जगहें और आवाज़ें अक्सर पैनिक अटैक का कारण या इस स्थिति को तेज कर सकती हैं। इसलिए यदि पैनिक अटैक की स्थिति बने, तो अधिक शांतिपूर्ण स्थान खोजने का प्रयास करें।

और पढ़ें – किडनी सिस्ट क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज

9. 5-4-3-2-1 विधि द्वारा पैनिक अटैक का इलाज – 5-4-3-2-1 Method

पैनिक अटैक के समय यह व्यक्ति को वास्तविकता से अलग होने का एहसास करा सकता है। 5-4-3-2-1 विधि व्यक्ति के ध्यान को तनाव के स्रोतों से दूर करने में मदद करती है।

इस विधि का उपयोग करने के लिए व्यक्ति को निम्नलिखित चरणों को धीरे-धीरे और अच्छी तरह से पूरा करना चाहिए:

5 अपने असपास अलग-अलग वस्तुओं को देखें। प्रत्येक के बारे में थोड़ी देर के लिए सोचें।

4 अपने आसपास की अलग-अलग आवाज़ें सुनें। इस बारे में सोचें कि वे कहाँ से आई हैं और क्या उन्हें अलग करता है।

3 वस्तुओं को स्पर्श करें। उनकी बनावट, तापमान और उनके उपयोग पर विचार करें।

2 अलग-अलग गंधों को पहचानें। यह आपकी कॉफी, आपके साबुन, या आपके कपड़ों पर कपड़े धोने के डिटर्जेंट की गंध हो सकती है।

1 अपने मनपसंद स्वाद के बारे में सोचें या कैंडी के एक टुकड़े को चखने का प्रयास करें।

और पढ़ें – हर्पीस सिम्पलेक्स वायरस (जनेऊ रोग): लक्षण, कारण और इलाज

ये है पैनिक अटैक (घबराहट के दौरे) के बारे में बताई गई पूरी जानकारी। कमेंट में बताएं आपको यह पोस्ट कैसी लगी। अगर यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे जरूर शेयर करें। 
 
ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है। इस जानकारी का उपयोग किसी भी बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना डॉक्टर या विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए।

सन्दर्भ (References)

  • Taylor CB. Panic disorder. BMJ. 2006;332(7547):951-955. 
  • Kim YK. Panic Disorder: Current Research and Management Approaches. Psychiatry Investig. 2019;16(1):1-3.
  • Cackovic C, Nazir S, Marwaha R. Panic Disorder. 2021 Jul 10. In: StatPearls [Internet]. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2021 Jan.
  • Forstner, A.J., Awasthi, S., Wolf, C. et al. Genome-wide association study of panic disorder reveals genetic overlap with neuroticism and depression. Mol Psychiatry (2019).
  • Cackovic C, Nazir S, Marwaha R. Panic Disorder. [Updated 2021 Jul 10]. In: StatPearls [Internet]. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2021 Jan.
  • Bystritsky A, Hovav S, Sherbourne C, et al. Use of complementary and alternative medicine in a large sample of anxiety patients. Psychosomatics. 2012;53(3):266-72.
  • U.S. Food and Drug Administration. What you need to know about dietary supplements. Updated November 29, 2017.
  • U.S. Food and Drug Administration. Mixing medications and dietary supplements can endanger your health. Updated October 27, 2014.
  • Aporosa SA. De-mythologizing and re-branding of kava as the new ‘world drug’ of choice.” Drug Science, Policy and Law. 2019. doi:10.1177/2050324519876131.

इस ब्लॉग [WEB POST GURU: THE ULTIMATE GUIDE TO HEALTHY LIVING] में आने और पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.