Foods to Avoid in High Uric Acid

Foods to Avoid in Uric Acid | यूरिक एसिड बढ़ने पर क्या नहीं खाना चाहिए (यूरिक एसिड में परहेज)

Foods to Avoid in Uric Acid in Hindi: यूरिक एसिड रक्त में एक अपशिष्ट उत्पाद (Waste product) है, जो गठिया (arthritis), जोड़ों के दर्द जैसी समस्याओं का कारण बनता है। ब्लड में यूरिक एसिड का निर्माण प्यूरीन युक्त खाद्य पदार्थों की पाचन प्रक्रिया के दौरान होता है। पाचन प्रक्रिया द्वारा जब हमारे शरीर में प्यूरिन टूटता है तो यह यूरिक एसिड का निर्माण करता है। इसलिए यूरिक एसिड बढ़ने पर प्यूरिन युक्त खाद्य पदार्थ नहीं खाने चाहिए।

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि ब्लड में यूरिक एसिड बढ़ने पर क्या नहीं खाना चाहिए (What Not To Eat In High Uric Acid) या यूरिक एसिड बढ़ने क्या परहेज करना चाहिए।

आइये अब इस पोस्ट को शुरू करते हैं।

यूरिक एसिड बढ़ने पर क्या नहीं खाना चाहिए? | Foods to Avoid in Uric Acid in Hindi

Foods to Avoid in Uric Acid in Hindi,यूरिक एसिड में परहेज
Image source: freepik.com

प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों में प्यूरीन की मात्रा उच्च होती हैं। इसके अलावा, उच्च फ्रुक्टोज वाले खाद्य पदार्थों में भी प्यूरीन की मात्रा अधिक होती है। इसलिए यूरिक एसिड बढ़ने पर इन खाद्य पदार्थों का परहेज करना चाहिए।

यूरिक एसिड बढ़ने पर क्या नहीं खाना चाहिए या यूरिक एसिड की समस्या में किन चीजों से परहेज करना चाहिए (यूरिक एसिड कम करने के घरेलू उपाय), इन सभी के बारे में नीचे विस्तार से बताया गया है।

1. हाई यूरिक एसिड में परहेज नॉनवेज – Avoid non-veg in high uric acid level

जिन लोगों का यूरिक एसिड ज्यादा रहता है उन्हें नॉन वेज फूड से परहेज करना चाहिए। मांसाहारी फूड में प्यूरीन की मात्रा सबसे अधिक होती है जिससे यूरिक एसिड तेजी से बढ़ता है।

नॉन वेज फूड में मुख्यतः रेड मीट ना खाएं जिसमें मटन, लैम्ब, भेड़ (Sheep), सूअर (Pork), हैम, बीफ आदि शामिल हैं।

चिकन में मध्यम प्यूरीन का स्तर होता है और इसे कम मात्रा में खाया जा सकता है।

2. उच्च यूरिक एसिड में नहीं खाना चाहिए मछली और समुद्री भोजन – Avoid fish and seafood in high uric acid level 

सैल्मन, हेरिंग, ट्राउट, मैकेरल, टूना (यह सभी मछली के प्रकार हैं) जैसी मछलियां शरीर में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ा सकती हैं। इसलिए ऐसी मछलियां नहीं खानी चाहिए

वसायुक्त मछली, जैसे टूना और सैल्मन, ओमेगा -3 फैटी एसिड के अच्छे स्रोत हैं और आमतौर पर इसे स्वस्थ माना जाता है। हालांकि, इनमें प्यूरीन की मात्रा भी अधिक होती है। इसलिए इन्हें खाने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

3. यूरिक एसिड का घरेलू उपाय प्रोटीन कम खाएं – Eat less protein: Home remedy for uric acid

यूरिक एसिड बढ़ने पर हाई प्रोटीन डाइट का परहेज करना चाहिए। हाई प्रोटीन डाइट में प्यूरीन की मात्रा अधिक होती हैं।

प्रोटीन की अधिक मात्रा मांसाहारी खाद्य पदार्थों में ज्यादा होती है। इसके अलावा दालें प्यूरीन से भरपूर होती हैं और उच्च यूरिक एसिड का कारण बन सकती हैं, इसलिए यदि आपके यूरिक एसिड का स्तर अधिक है तो इससे बचना सबसे अच्छा है।

और पढ़ें – किडनी रोगियों के लिए कम प्रोटीन डाइट के फायदे

4. फ्रुकटॉज शुगर बढ़ाता है यूरिक एसिड – Avoid Fructose sugar to decrease High Uric Acid

उच्च यूरिक एसिड वाले मरीजों को ऐसे फलों के रस और पेय का सेवन कम करना चाहिए जिनमें फ्रुक्टोज की मात्रा अधिक होती है।

फ्रुक्टोज शुगर ज्यादातर फलों के जूस, कोल्ड ड्रिंक्स और सोडा में मौजूद होता है। इन ड्रिंक्स के सेवन से यूरिक एसिड तेजी से बढ़ता है।

5. एल्कोहल का करें परहेज – Avoid Alcohol in high uric acid level 

उच्च यूरिक एसिड वाले मरीजों को शराब के सेवन से बचना चाहिए। क्योंकि शराब के सेवन से उनका शरीर डिहाइड्रेट हो जाता है, जिससे शरीर से टॉक्सिन्स निकालने का काम रुक जाता है। बॉडी से यूरिक एसिड ना निकलने के कारण ये जोड़ों में जमा होने लगते हैं और दर्द का कारण बनते हैं।

बीयर यीस्ट से भरपूर होती है, इसलिए इससे बचना चाहिए। आप चाहें तो वाइन का सेवन (डॉक्टर के अनुसार) कर सकते हैं क्योंकि इससे यूरिक एसिड का स्तर प्रभावित नहीं होता है।

6. यूरिक एसिड कम करने के घरेलू उपाय डीप फ्राइड चीजों का परहेज – Avoid Deep fried Meal in High Uric Acid level

जिन लोगों का यूरिक एसिड बढ़ा हुआ होता है उन्हें डीप फ्राइड चीज़ें नहीं खानी चाहिए। तली-भुनी चीज़ें खाने से यूरिक एसिड का स्तर बढ़ सकता है। इसलिए यूरिक एसिड के स्तर को कम करने के लिए डीप फ्राइड चीज़ों का परहेज करना चाहिए।

डीप फ्राइड चीज़ों में समोसा, पोटैटो चिप्स, डीप फ्राइड चिकन, पकोड़ा आदि शामिल हैं।

7. जंक फूड और मैदे से बनी चीज़ें ना खाएं – Avoid junk foods in high uric acid level 

मैदे से बनी चीज़ें खाने में तो स्वादिष्ट होती हैं लेकिन इससे शरीर में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ सकता है। इसलिए यूरिक एसिड के स्तर को कम करने के लिए मैदे से बनी चीज़ें और जंक फ़ूड खाने से परहेज करना चाहिए।

मैदे से बनी चीज़ें जैसे नान, फ्रेंच फ्राइज़, डोनट्स, पिज़्ज़ा, बर्गर, फ्राइड फूड्स आदि शामिल है।

और पढ़ें –  इन एंटीऑक्सीडेंट आहार से करें अपना वजन कम।

9. फूलगोभी और पत्तागोभी सब्जियों का करें परहेज – Food to avoid in High Uric acid level

उच्च यूरिक एसिड वाले मरीजों को फूल गोभी, पत्तागोभी, स्प्राउट्स और मशरूम खाने से परहेज करना चाहिए। क्योंकि इनमें प्यूरिन की मात्रा बहुत ज्यादा होती है जिससे शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने का खतरा रहता है। इसके अलावा पालक, मशरूम, सूखे सेम और मटर में भी प्यूरिन की मात्रा बहुत अधिक होती है, जो यूरिक एसिड को बढ़ा सकते हैं।

हाई यूरिक एसिड में क्या क्या सावधानियां बरतें | Tips to Reduce High Uric Acid in Hindi

1. यूरिक एसिड बढ़ने पर आपको अपना अतिरिक्त वजन कम रखना चाहिए।

2.  यूरिक एसिड अधिक होने पर भरपूर मात्रा में विटामिन सी का सेवन करें। इससे यूरिक एसिड का स्तर कंट्रोल में रहता है।

3. यूरिक एसिड नियंत्रित रखने के लिए आपको कम फैट वाले फूड्स का सेवन करना चाहिए ताकि आपके शरीर स्वस्थ रहे।

4. डॉक्टर यूरिक एसिड बढ़ने पर विटामिन सी सप्लीमेंट लेने की सलाह दे सकते हैं।

5. यूरिक एसिड नियंत्रित करने के लिए व्यायाम एक और तरीका है। व्यायाम न केवल आपको स्वस्थ वजन बनाए रखने में मदद कर सकता है, बल्कि यह यूरिक एसिड के स्तर को भी कम रख सकता है।

6. यूरिक एसिड से ग्रसित व्यक्ति सभी प्रकार के सूखे मेवे खा सकते हैं।

7. कम वसा वाले सभी डेयरी प्रोडक्ट्स यूरिक एसिड के रोगियों के लिए फायदेमंद होते हैं।

और पढ़ें – किडनी स्टोन डाइट चार्ट 

और पढ़ें –  रेशेदार भोजन (फाइबर युक्त आहार) क्या है? जानिए इनसे होने वाले लाभ।

यूरिक एसिड बढ़ने का कारण | Cause of High Uric Acid in Hindi

आमतौर पर हमारी किडनी यूरिक एसिड को फ़िल्टर करती है और मूत्र के माध्यम से बाहर निकाल देती है।

लेकिन, जब कोई व्यक्ति अपने आहार में अधिक मात्रा में प्यूरीन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करता है, तो उसका शरीर यूरिक एसिड को उतनी तेजी से नहीं निकाल पाता है, जिससे रक्त में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने लगती है।

इसके अलावा किडनी का खराब होना, डायबिटीज, थायराइड, मोटापा या स्ट्रेस की समस्या भी यूरिक एसिड बढ़ने का कारण बनती है।

और पढ़ें – जानिए क्या हैं किडनी बचाव के 11 घरेलू उपाय

यूरिक एसिड बढ़ने के लक्षण | Uric Acid Increase Symptoms Hindi

आप इन लक्षणों से यूरिक एसिड की पहचान कर सकते हैं –

  • जोड़ों में दर्द होना,
  • उंगलियों में सूजन आना और इनमें चुभन वाला दर्द होना,
  • जोड़ों में गांठ की शिकायत होना,
  • उठने-बैठने में परेशानी होना,
  • थकान लगना,
  • गुर्दे की पथरी,
  • बुखार और ठंड आदि।

और पढ़ें – किडनी सिस्ट क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज

और पढ़ें – Kidney Stone के लक्षण, कारण और इलाज

यूरिक एसिड नार्मल रेंज | Uric Acid Normal Range in Hindi

महिलाओं में यूरिक एसिड का नॉर्मल रेंज 1.5 से 6.0 mg/dL और पुरुषों में 2.5 से 7.0 mg/dL होती है। हालाँकि, परीक्षण करने वाली प्रयोगशाला के आधार पर ये वैल्यू भिन्न हो सकती है।

यूरिक एसिड का सामान्य से ज्यादा होना हाइपरयूरिसीमिया कहलाता है।

और पढ़ें – क्रोनिक किडनी डिजीज, कहीं मौत का कारण ना बन जाए यह रोग

निष्कर्ष | Conclusion

यूरिक एसिड ब्लड में पाया जाने वाला अपशिष्ट पदार्थ (waste product) है। जो शरीर की विभिन्न मांसपेशियों या हड्डियों में दर्द व सूजन का कारण बनता है। ब्लड में यूरिक एसिड का निर्माण प्यूरीन युक्त खाद्य पदार्थों की पाचन प्रक्रिया के दौरान होता है।

नींबू का रस,चेरी,मिक्स अनाज,फाइबर युक्त सब्जियों,ड्राई फ्रूट्स, हर्बल टी, नारियल पानी, अजवाइन, अश्वगंधा और एप्पल साइडर विनेगर ऐसी चीजें हैं जो रक्त में बढ़े हुए यूरिक एसिड की मात्रा को कम करते हैं। इसलिए यूरिक एसिड बढ़ने पर इनका सेवन किया जा सकता है।

हालांकि, यूरिक एसिड बढ़ने पर हाई प्रोटीन डाइट का परहेज करना चाहिए जिसमें मटन, लैम्ब, भेड़, सूअर, हैम, बीफ, सैल्मन, हेरिंग, ट्राउट, मैकेरल और टूना फिश शामिल हैं।

इसके अलावा फ्रुकटॉज शुगर, एल्कोहल, डीप फ्राइड चीज़ें, जंक फूड और मैदे से बनी चीजों का भी यूरिक एसिड बढ़ने पर परहेज करना चाहिए।

और पढ़ें- गले के इन्फेक्शन (टॉन्सिल) में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं


ये है यूरिक एसिड में परहेज की पूरी जानकारी। कमेंट में बताएं आप को यह पोस्ट कैसी लगी। साथ ही अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इस पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Disclaimer : ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है। इस जानकारी का उपयोग किसी भी बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। इसके अलावा किसी भी चीज को अपनी डाइट में शामिल करने या हटाने से पहले किसी योग्य डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ (Dietitian) की सलाह जरूर लें।  

संदर्भ (References)

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.