Tonsil Diet Plan in Hindi

Tonsil Diet Plan | गले के इन्फेक्शन में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं

Tonsil Diet Plan in Hindi : गले में होने वाला इन्फेक्शन डॉक्टर की भाषा में टॉन्सिलाइटिस (Tonsillitis) कहलाता है। आमतौर पर टॉन्सिलाइटिस किसी भी गंभीर या स्थायी स्वास्थ्य समस्या का कारण नहीं बनता है। हालांकि, कभी-कभी संक्रमण के ज्यादा गंभीर होने पर आपको निगलने में काफी परेशानी हो सकती है। इसलिए गले के इन्फेक्शन (टॉन्सिल या टॉन्सिलाइटिस) में आहार कैसा होना चाहिए इसका ध्यान रखना बेहद जरुरी है। इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बता रहे हैं कि टॉन्सिल में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए (Food to eat and avoid in Tonsil in Hindi) ताकि संक्रमण के समय आपको ज्यादा परेशानी का सामना न करना पड़े।

आइये पोस्ट शुरू करने से पहले समझते हैं टॉन्सिलाइटिस क्या होता है और इसके क्या लक्षण हैं।

टॉन्सिलाइटिस (गले का इन्फेक्शन) क्या है? | What is Tonsillitis in Hindi

टॉन्सिल संक्रामण – Tonsil infection in Hindi

टॉन्सिलाइटिस, टॉन्सिल में होने वाला एक आम संक्रमण है जिसमें टॉन्सिल लाल और सूजे हुए हो जाते हैं। (1)

टॉन्सिलिटिस के कारण गले में खराश (sore throat), बुखार, ग्रंथियों में सूजन और निगलने में परेशानी हो सकती है। समान्यतः टॉन्सिलाइटिस छोटे बच्चों से लेकर किशोरावस्था (5-15 साल तक) के बच्चों में अधिक देखा जाता है। परन्तु ये किसी भी उम्र में हो सकता है।

और पढ़ें- सर्वाइकल अटैक में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं।

गले में इन्फेक्शन (टॉन्सिलाइटिस) के लक्षण | Tonsillitis Symptoms in Hindi

टॉन्सिल (टॉन्सिलिटिस) बढ़ने के लक्षण इस प्रकार हैं: (2)

  • गले में खराश,
  • गले में तेज दर्द,
  • निगलने में कठिनाई या दर्द,
  • कर्कश आवाज,
  • बदबूदार सांस,
  • बुखार,
  • ठंड लगना,
  • पेटदर्द,
  • सरदर्द,
  • कान के निचले भाग में दर्द रहना,
  • टॉन्सिल का लाल और सुजा हुआ होना,
  • टॉन्सिल में सफेद या पीले धब्बे पड़ना,
  • छोटे बच्चों में सांस लेने में तकलीफ, एवं लार टपकाना जैसी समस्याएं।

अब समझते हैं कि टॉन्सिल में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं। ( या गला खराब होने पर क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए या गले में इन्फेक्शन में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए)

गले के इन्फेक्शन में क्या खाना चाहिए? | Tonsil Diet Plan in Hindi | Food to eat in Tonsil in Hindi

Tonsil Diet Plan in Hindi,टॉन्सिल में क्या खाना चाहिए

टॉन्सिल में खाई जाने वाली चीजों में शामिल हैं-

1. गले के इन्फेक्शन में खाएं गरम चावल – Eat hot rice in throat infection in Hindi

गले के इन्फेक्शन के समय गरम चावल खाना चाहिए। गरम चावल मुलायम होता है और इसे आसानी से निगला भी जा सकता है। मसालेदार चावल खाने की बजाए हमेशा प्‍लेन राइस खाइये। आप चाहें तो इसमें लौंग डाल कर भी खा सकते हैं।

और पढ़ें- भीगी किशमिश खाने के फायदे और नुकसान

2. गला खराब होने पर खाएं उबला आलू – Eat Boiled potato on tonsils in Hindi

गाला खराब होने पर उबला आलू खाया जा सकता है। उबले आलू आसानी से गले के नीचे उतर जाता है और इसे खाने से पेट भी भरा रहता है।

और पढ़ें- खाली पेट गुड़ खाने के फायदे और नुकसान

3. गले का संक्रमण होने पर खाएं गरम पालक या उसका सूप – Eat Steamed spinach soup on Tonsillitis in Hindi

उबली और भाप में पकाई गई सब्‍जियों का सेवन गले के इंफेक्‍शन को ठीक कर सकता है। गले में खराश होने पर आप पालक का सूप काली मिर्च पाउडर डाल कर पी सकते हैं।

और पढ़ें – सूखे आलूबुखारा (सूखे पल्म) के फायदे और नुकसान 

4. टॉन्सिल्स होने पर खाएं उबला हुआ पास्‍ता – Eat Boiled pasta in Sore Throat in Hindi

उबला हुआ पास्‍ता गले के दर्द को ठीक करने के लिये कारगर होता है। इसलिए गले के इन्फेक्शन में इसका सेवन करें।

5. टॉन्सिलाइटिस में खाएं गरम प्‍लेन इडली – Eat Plain Idli on tonsils in Hindi

प्‍लेन इडली हेल्‍दी भी होती है और साफ्ट भी। टॉन्सिल को ठीक करने के लिये आप बिना सांभर के गरम-गरम इडली खा सकते हैं। सांभर में कई ऐसे मसाले मिले होते हैं जो टॉन्सिलाइटिस में नुकसान कर सकते हैं। अगर आप चाहे तो सांभर की जगह थोड़ी सी कम मसालेदार सॉफ्ट सब्जियां मिला सकते हैं ताकि आपको इडली का स्वाद थोड़ा ज्यादा आये।

6. गले के इन्फेक्शन में पियें गरम पानी – Drink hot water in throat infection in Hindi

गर्म नमक के पानी से गरारा करने या कुल्ला करने से गले में खराश और टॉन्सिलिटिस के कारण होने वाले दर्द को शांत करने में मदद मिल सकती है। गर्म नमक का पानी गले की सूजन को भी कम कर सकता है, और टॉन्सिल संक्रमण के इलाज में भी मदद कर सकता है।

और पढ़ें- महिलाओं में थायराइड कैंसर के लक्षण, कारण, बचाव व इलाज

7. अन्य खाद्य पदार्थ जो गले के इन्फेक्शन में खाए जा सकते हैं –

  • केला गले के इन्फेक्शन में खाया जा सकता है। चूंकि यह एक नरम और स्वास्थ्यवर्धक फल है, इसलिए केला गले की खराश पर कोमल होगा।
  • अदरक गले के इन्फेक्शन में खाया जा सकता है। अदरक में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो सूजन और दर्द को कम करके गले में खराश में मदद कर सकते हैं।
  • हल्दी गले के इन्फेक्शन में लाभकारी होती है। आप हल्दी का उपयोग चाय के रूप में या दूध के रूप में कर सकते हैं। हल्दी में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो गले की सूजन और दर्द को कम करता है।

और पढ़ें –  रेशेदार भोजन (फाइबर युक्त आहार) क्या है? जानिए इनसे होने वाले लाभ।

गले के इन्फेक्शन में क्या नहीं खाना चाहिए? | Food to avoid in Tonsil in Hindi

Food to avoid in Tonsil in Hindi

टॉन्सिल में परहेज

  • गले में इन्फेक्शन होने पर ठंडी चीजों का परहेज करें। ठंडी चीजों में शामिल हैं – आइसक्रीम, ठंडा पानी, सोडा, कोल्ड ड्रिक्स आदि।
  • गले का संक्रमण होने पर तली-भुनी और मसालेदार चीजों का करें परहेज।
  • फास्टफूड, जंकफूड, चॉकलेट, आलू के चिप्स, पॉपकॉर्न आदि भी टॉन्सिलाइटिस में नहीं खाना चाहिए।
  • टॉन्सिल्स होने की स्थिति में शराब, गुटखा और धूम्रपान के सेवन से बचें। गले के इन्फेक्शन में ऐसी चीजें आपकी परेशानी को और भी बढ़ा सकती हैं।

यदि आपको गले में इन्फेक्शन के साथ टॉन्सिल या गले में खराश की समस्या हो तो, आपको इन सभी चीजों से खाने-पीने से बचना चाहिए। साथ ही आपको इस दौरान दवाइयों के साथ गर्म पानी और गर्म चीजों को लेना चाहिए। ये आपको जल्दी ठीक होने में मदद करते हैं।

और पढ़ें – जानिए प्रेगनेंसी में क्या नहीं खाना चाहिए।

निष्कर्ष | Conclusion

गले में होने वाला इन्फेक्शन (टॉन्सिल) एक आम संक्रमण होता है। गले के इंफेक्शन के समय दवाइयों, गर्म पानी पीने और गर्म चीजों के साथ-साथ अपने खाने-पीने का भी खास ख्याल रखना चाहिए। मुलायम और गरम चीजें जैसे गरम चावल, उबला आलू, गरम इडली, गरम पालक खाने से गले को राहत मिलती है। दूसरी तरफ मसाले, दही, सॉस, चटनी, ठंडी चीजों का परहेज करना चाहिए।

और पढ़ें – इम्युनिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय।


आशा करता हूँ कि आपको हमरी यह पोस्ट टॉन्सिल (गले के इन्फेक्शन) में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए अच्छी लगी होगी। इस पोस्ट (Tonsil Diet Plan in Hindi) के बारे में कमंट में जरूर बताएं। अगर यह पोस्ट पसंद आई हो तो इस पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Disclaimer : ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है। इस जानकारी का उपयोग किसी भी बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। इसके अलावा किसी भी चीज को अपनी डाइट में शामिल करने या हटाने से पहले किसी योग्य डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

वेब पोस्ट गुरु ब्लॉग में आने और पोस्ट पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद।

सन्दर्भ (References)

1. InformedHealth.org [Internet]. Cologne, Germany: Institute for Quality and Efficiency in Health Care (IQWiG); 2006-. Tonsillitis: Overview. 2013 Mar 27 [Updated 2019 Jan 17].

2. Anderson J, Paterek E. Tonsillitis. [Updated 2022 Apr 30]. In: StatPearls [Internet]. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2022 Jan-.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सेब का सिरका पीने के फायदे | Benefits of Apple Cider Vinegar एसिडिटी और खट्टी डकार का इलाज | Home Remedies for Acidity and Burping खाली पेट आंवला जूस पीने के फायदे | Amla Juice Benefits कच्चा प्याज खाने के फायदे | Benefits of Raw Onion अच्छी और गहरी नींद आने के उपाय | Home Remedies for Insomnia Benefits of Giloy in Winter | सर्दी में गिलोय के फायदे