Sore Throat and Cough: गले में खराश और बलगम के 9 घरेलू उपाय (उपचार)

गले की खराश और कफ से राहत पाने के लिए कुछ घरेलू उपचार आपकी मदद कर सकते हैं। इस पोस्ट में हम आपको गले में खराश और बलगम के घरेलू उपाय (Natural remedies for sore throat and cough) के बारे में बता रहे हैं जिसमें आप जानेंगे कि गले की खराश और बलगम में क्या खाना चाहिए क्या नहीं (परहेज)। तो आइये इस पोस्ट शुरू करते हैं। 

क्या कारण है गले की खराश और बलगम (Causes of Sore Throat and Cough in Hindi)

आमतौर पर गले की खराश और बलगम (कफ) टॉन्सिलाइटिस के कारण होता है। टॉन्सिलाइटिस, टॉन्सिल में होने वाला संक्रमण है। जो सामान्यतः किसी भी गंभीर या स्थायी स्वास्थ्य समस्या का कारण नहीं बनता है और आप घर बैठे ही इसका इलाज कर सकते हैं। गले में खराश और बलगम (खांसी) के घरेलू उपाय (Home remedies for throat pain and cough in Hindi) नीचे बताए गई हैं। 

गले में खराश और बलगम के 9 घरेलू उपाय (उपचार) | (9 Natural Home Remedies for Sore Throat and Cough in Hindi)

गले की खराश या कफ से पीड़ित व्यक्ति यादि अपनी डाइट में कुछ बदलाव लाएं तो वह इस समस्या से होने वाली तकलीफ से बच सकते हैं। जानकर गले में खराश या टॉन्सिलिटिस में नरम और आसानी से निगलने वाले खाद्य पदार्थ खाने की सलाह देते हैं। नरम भोजन आसानी से निगले जा सकते हैं और इन्हें खाने से गले में जलन भी कम होती है।

आहार विशेषज्ञ कफ और गले की खराश में निम्नलिखित खाद्य पदार्थों को खाने की सलाह देते हैं।

1. गले में खराश और बलगम में खाएं गरम चावल – Eat hot rice in Sore Throat and Cough in Hindi

गले की खराश और बलगम में गरम चावल खाना फायदेमंद होता है। गरम चावल खाने में नरम और मुलायम होता है और इसे आसानी से निगला भी जा सकता है।

गले की खराश में मसालेदार चावल खाने की बजाए हमेशा प्‍लेन राइस खाइये। आप चाहें तो इसमें लौंग डाल कर भी खा सकते हैं।

2. गले की खराश के इन्फेक्शन में खाएं उबले आलू – Eat boiled potatoes in sore throat infection in Hindi

Sore Throat and Cough Home Remedies in Hindi
Image source istock

उबला आलू गले की खराश में खाया जा सकता है। गरम उबला आलू आसानी से गले के नीचे चला जाता है और गले की सूजन में दर्द भी नहीं होता है। 

3. उबली हुई पालक का सूप पिएं गले के कफ और खराश में- Eat steamed spinach soup in strep throat in Hindi

उबली और भाप में पकाई गई सब्‍जियों का सेवन गले के इंफेक्‍शन, बलगम या खराश को ठीक करने में किया जा सकता है। आप पालक का सूप काली मिर्च पाउडर डाल कर पी सकते हैं।

4. उबला हुआ पास्‍ता खाएं टॉन्सिलाइटिस में – Eat boiled pasta in sore throat (Tonsillitis) in Hindi

उबला हुआ पास्‍ता गले के दर्द, खराश और गलगम को ठीक करने के लिये कारगर होता है। आप रात में सोते से पहले बिना मिर्च वाला पास्ता खा सकते हैं। 

5. प्‍लेन इडली खाएं गले की खांसी और और बलगम में – Eat Plain Idli in tonsils in Hindi

प्‍लेन इडली हेल्‍दी भी होती है और साफ्ट भी। टॉन्सिल या गले की खराश को ठीक करने के लिये आप बिना सांभर के गरम-गरम इडली खा सकते हैं। सांभर में कई ऐसे मसाले मिले होते हैं जो टॉन्सिलाइटिस में नुकसानदायक हो सकते हैं।

अगर चाहे तो सांभर की जगह थोड़ी सी सॉफ्ट सब्जियां मिला सकते हैं ताकि आपको इडली का स्वाद थोड़ा ज्यादा आये।

और पढ़ें – Chronic Constipation के लक्षण कारण और इलाज

6. गले के खराश में अदरक का सेवन करें – Eat ginger in throat infection in Hindi

टॉन्सिलिटिस या खराश से पीड़ित व्यक्ति अदरक का सेवन कर सकता है।  अदरक गले की सूजन और दर्द को कम करने में प्रभावी होता है। साथ ही, यह बैक्टीरिया के विकास को रोकने में मदद करता है और उपचार में मदद करता है।

7. गले में खराश और बलगम का घरेलू नुस्खा है शहद – Treat sore throat with honey in Hindi

शहद औषधीय लाभों से भरपूर होता है जो हानिकारक वायरल और बैक्टीरियल संक्रमणों को दूर करने में आपकी मदद कर सकता है। यह वयस्कों में गले की खराश ठीक करने के लिए एक प्रभावी उपचार है। 

8. गले की खराश और बलगम का घरेलू उपाय है गर्म पानी – Drink warm water in throat infection in Hindi

गर्म पानी (मतलब गुनगुना पानी) गले में सूजन और बढ़ते संक्रमण को कम करता है। इसीलिए ठंडे फ्रीज में रखा पानी न पिएं और गर्म गुनगुने पानी का अधिक सेवन करें, जिससे आपको दर्द में राहत मिलेगी। आप चाहें तो खाँसी और खराश की समस्या होने पर सुबे उठकर नमक वाले गुनगुने पानी से गरारे कर सकते हैं।

9. जई का दलिया खाएं गले के संक्रमण में – Eat oatmeal in Sore Throat in Hindi

जई का दलिया खाँसी या खराश में खाया जा सकता है। पोषण विशेषज्ञ भी दलिया खाने की सलाह देते हैं। दलिया फाइबर, एंटीऑक्सिडेंट, मैग्नीशियम और जिंक का एक समृद्ध स्रोत है जो आपके शरीर को पोषण देता है और वयस्कों में टॉन्सिलिटिस से रिकवरी को बढ़ावा देता है।

और पढ़ें – साइनोसाइटिस के लक्षण, कारण और इलाज (आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक)

गले की खराश और कफ में परहेज (Food to avoid in sore throat and Cough in Hindi)

  • गले की खराश और बलगम में ठंडी चीजों का सेवन बिलकुल भी न करें।
  • ठंडी चीजों के सेवन से गले के खराश का दर्द अधिक होता है। खाँसी और खराश में आइसक्रीम, ठंडा पानी, सोडा और कोल्ड ड्रिक्स का परहेज करना चाहिए।
  • तली-भुनी और मसालेदार चीजों का गले की खराश और बलगम में परहेज करना चाहिए।
  • फास्टफूड, जंकफूड, चॉकलेट, आदि भी गले की खराश और संक्रमण में नहीं खानी चाहिए।
  • गले में खासी और खराश में शराब, गुटखा और धूम्रपान के सेवन से बचें। खराश में ऐसी चीजें आपकी परेशानी को और भी बढ़ा सकती हैं।

और पढ़ें – कब्ज में क्या खाएं और क्या ना खाएं

गले में खराश और बलगम की रोकथाम (Prevention tips for Sore Throat and Cough in Hindi)

टॉन्सिलाइटिस की रोकथाम निम्नलिखित तरीकों से की जा सकती है-

  • टॉन्सिलिटिस के रोगियों से सुरक्षित दूरी बनाए रखें और उनके साथ बर्तन और पीने का गिलास साझा करने से बचें,
  • खांसते या छींकते समय अपने मुंह को रुमाल या हाथ से ढक लें और अपने बच्चों को भी ऐसा करना सिखाएं। खांसने या छींकने के बाद हाथ धोएं।
  • अपने हाथों को अच्छी तरह और बार-बार धोएं, खासकर शौचालय का उपयोग करने के बाद और खाने से पहले,
  • खाना, पीने का गिलास, पानी की बोतलें या बर्तन साझा करने से बचें
  • टॉन्सिलिटिस का निदान होने के बाद अपने टूथब्रश को बदलें।

और पढ़ें – Acid reflux (हाइपर एसिडिटी) और खट्टी डकार से छुटकारा पाने का घरेलू इलाज

कितने दिन में ठीक होती है गले की खराश? (Sore Throat recovery  time  in Hindi)

वायरस के कारण होने वाली गले की खराश और बलगम (कफ) लगभग 5-6 दिन में ठीक हो जाता है। जबकि, बैक्टीरिया से होने वाली गले की खराश और बलगम को ठीक होने में 2 हफ्ते तक का समय लग सकता है। बैक्टीरिया से होने वाली खराश में डॉक्टर रोगी को एंटीबायोटिक्स (Antibiotics) दवा लेने की सलाह दे सकते हैं। एंटीबायोटिक्स दवा आमतौर पर 7 दिनों में खराश और बलगम (कफ) को खत्म कर देती है।

डॉक्टर को कब दिखाना है? (When to see a doctor in Hindi)

निम्नलिखित लक्षणों का अनुभव होने पर आपको तुरंत अपने डॉक्टर को दिखाना चाहिए। यदि –

  • बुखार जो 103°F (39.5°C) से अधिक हो,
  • मांसपेशी में कमज़ोरी,
  • गर्दन में अकड़न,
  • गले में खराश जो 3-4 दिनों के बाद भी ठीक नहीं होता हो,
  • दुर्लभ मामलों में, टॉन्सिलिटिस गले में इतनी सूजन पैदा कर सकता है कि इससे सांस लेने में परेशानी होती है। यदि ऐसा होता है तो तत्काल डॉक्टर को दिखाएं।

”वैसे कुछ मामलों में टॉन्सिलिटिस में उपचार की आवश्यकता नहीं होती है और टॉन्सिल संक्रमण खुद ही ठीक हो जाता है।  हालांकि , कुछ मामलों में उपचार की आवश्यकता होती है।”

निष्कर्ष (Conclusion)

यदि आपके गले में खराश है या आपको टॉन्सिलाइटिस है तो आपको ऐसे आहार का सेवन करना चाहिए जो खाने में निरम और हल्के गरम हों। हल्का गरम खाना गले की सूजन को कम करता है जिससे गले के दर्द से राहत मिलती है।

आप गले की खराश में ठंडी चीजों का सेवन बिलकुल भी न करें। ठंडी चीजें गले की खराश और दर्द को और भी खराब करते हैं और गले की सूजन का कारण बनते हैं। 

ये हैं गले में खराश और बलगम के घरेलू उपाय (Natural home remedies for sore throat and cough in Hindi) के बारे में जानकारी। कमेंट में बताएं आपको यह पोस्ट कैसी लगी। अगर आपको पोस्ट पसंद आई हो, तो इसे शेयर जरूर करें।

वेब पोस्ट गुरु ब्लॉग में आने और पोस्ट पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद।

Disclaimer : ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है। इस जानकारी का उपयोग किसी भी बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। इसके अलावा किसी भी चीज को अपनी डाइट में शामिल करने या हटाने से पहले किसी योग्य डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ (Dietitian) की सलाह जरूर लें।  

सन्दर्भ (References)

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -spot_img

Latest Articles