Meaning of Liver Cirrhosis: लिवर सिरोसिस की पहचान, स्टेजेस और रामबाण इलाज

सिरोसिस एक दर्दनाक चिकित्सा स्थिति है जिसमें लीवर का परमानेंट डैमेज होना शुरू हो जाता है। लिवर सिरोसिस की शुरुआत लीवर में फैट जमा होने या हेपेटाइटिस होने या अधिक शराब पीने से हो सकती है। लीवर सिरोसिस एक क्रोनिक डिजीज है, जिसका मतलब है कि इस बीमारी को होने में काफी लंबा समय लग सकता है। लिवर सिरोसिस स्टेजेस (Stages in liver cirrhosis in Hindi) चार भागो में बंटी गयी है। यदि पहले स्टेज में इस बीमारी को पकड़ लिया जाए तो इससे होने वाले नुकसान से बचा जा सकता है। यदि आप सिरोसिस से पीड़ित हैं और इससे बचना चाहते हैं, तो यह पोस्ट आपके लिए महत्वपूर्ण हो सकती है। इस पोस्ट में हम आपको लिवर सिरोसिस (Meaning of Liver Cirrhosis in Hindi) के बारे में बता रहे हैं, जिसमें आप जानेंगे कि लिवर सिरोसिस क्या है? लिवर सिरोसिस की पहचान (Liver cirrhosis symptoms in Hindi) कैसे की जाती है और साथ ही लिवर सिरोसिस का इलाज (liver cirrhosis ka ilaj) कैसे किया जाता है।

तो चलिए अब इस पोस्ट को शरू करते हैं। 

लिवर सिरोसिस क्या है? (Meaning of Liver Cirrhosis in Hindi)

Meaning of Liver Cirrhosis in Hindi
Image source pexels

लिवर सिरोसिस धीमी गति से विकसित होने वाली एक गंभीर बीमारी है, जिसमें लिवर के सामान्य ऊतक असामान्य/निशान वाले ऊतकों में बदल जाते हैं। इस बीमारी में लिवर का ब्लड फ्लो रुक जाता है और यकृत (liver) ठीक से काम करना बंद कर देता है।

डॉक्टर, लिवर सिरोसिस को अन्य यकृत रोगों (Liver diseases in Hindi) से संबंधित बीमारी मानते हैं, जो अक्सर पुरानी हेपेटाइटिस (बी या सी) बीमारी, शराब से संबंधित यकृत रोग या फैटी लिवर से विकसित होती है। एक्सपर्ट का मानना है कि अगर सिरोसिस का समय रहते इलाज ना किया जाए तो यह लिवर फेलियर का कारण बन सकता है।

कैसे करें लिवर सिरोसिस की पहचान (लिवर सिरोसिस के लक्षण) | Symptoms of Liver Cirrhosis in Hindi

ज्यादातर मामलों में लीवर सिरोसिस (Liver Cirrhosis in Hindi) के शरुआती लक्षण दिखाई नहीं देते हैं फिर भी कुछ मामलों में शरुआती लक्षण दिखाई दे सकते हैं।

लिवर सिरोसिस के शुरुआती सिम्पटम्स (Early symptoms of liver cirrhosis)

  • पेट के ऊपरी दाहिने हिस्से में हल्का दर्द,

  • वजन में कमी,

  • खुजली वाली त्वचा,

  • मतली और उल्टी,

  • मल का काला होना या बहुत पीला होना,

  • कब्ज की समस्या,

  • भूख न लगना,

  • बढ़ा हुआ बिलीरुबिन स्तर,

  • त्वचा पर मकड़ी जैसी रक्त वाहिकाएं,

  • हाथों की हथेलियों पर लाल रक्त वाहिकाओं के धब्बे,

  • महिलाओं में पीरियड्स की अनुपस्थिति या उनका कम होना आदि।

“सिरोसिस के कई और भी लक्षण हो सकते हैं, जैसे कि बार-बार बुखार आना, मसूड़ों से खून आना और गंभीर खुजली वाली त्वचा। ये लक्षण तब तक प्रकट नहीं होते जब तक कि लीवर बुरी तरह से क्षतिग्रस्त न हो जाए।”

लिवर सिरोसिस लास्ट स्टेज सिम्पटम्स (Liver cirrhosis last stage symptoms)

  • पेट में द्रव का भरना जिससे पेट का फूलना,  

  • उल्टी में खून आना, 

  • बढ़ा हुआ आयरन स्तर,

  • आंख और त्वचा में पीलापन (पीलिया),

  • उच्च सफेद रक्त कोशिका (संक्रमण का संकेत),

  • उच्च क्रिएटिनिन स्तर (गुर्दे की बीमारी का संकेत जो आखरी स्टेज में देखा जाता है),

  • ऑटो एंटीबॉडी की उपस्थिति,

  • सोडियम का निम्न स्तर (सिरोसिस का सूचक है),

  • अल्फा-फेटो प्रोटीन का बढ़ा हुआ स्तर (यकृत कैंसर की उपस्थिति का संकेत)।

और पढ़ें –  कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर क्या खाएं और क्या ना खाएं।

क्या सिरोसिस दर्दनाक है? (Is cirrhosis painful in Hindi?)

हां, सिरोसिस दर्दनाक हो सकता है, खासकर जब रोग बिगड़ जाता है। सिरोसिस वाले 82% लोगों द्वारा दर्द की सूचना दी जाती है और इनमें से आधे से अधिक व्यक्तियों का कहना है कि उनका दर्द लंबे समय तक चलने वाला (पुराना) है।

क्या लिवर सिरोसिस कैंसर है? (Is liver cirrhosis cancer in Hindi?)

नहीं, लीवर सिरोसिस कैंसर नहीं है। हालांकि, लिवर कैंसर वाले ज्यादातर लोगों को सिरोसिस होने की अधिक सम्भावना होती है या ऐसे लोग जिन्हें लिवर कैंसर होता है उन्हें सिरोसिस होने की सम्भावना होती है।

इसके अलावा ऐसे लोग जिन्हें हेपेटाइटिस बी या हेपेटाइटिस सी है, लिवर कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।

लिवर में किसी भी प्रकार की बीमारी सिरोसिस का कारण बन सकता है, जिससे लिवर कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती है। यहां तक ​​कि अगर आपको सिरोसिस के बिना हेपेटाइटिस बी या फैटी लिवर की बीमारी है, तो भी लिवर कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।

लिवर सिरोसिस उत्पन्न करने वाले कारक (What is the cause of cirrhosis in Hindi?)

Causes of cirrhosis in Hindi
Image source pexels

यकृत सिरोसिस के कारण निम्नलिखित हो सकते हैं-

1. अत्यधिक अल्कोहल का सेवन (Excessive alcohol consumption)

अत्यधिक शराब का सेवन लिवर सिरोसिस का सबसे आम कारण है। शराब पीने से सिरोसिस कई वर्षों में विकसित हो सकता है।

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि लीवर को नुकसान पहुंचाने वाली शराब की मात्रा एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकती है। यदि एक स्वस्थ महिला एक स्वस्थ पुरुष के बराबर शराब पीती है, तो उसे सिरोसिस का खतरा अधिक होता है।

“रात के खाने के साथ एक ग्लास वाइन का आनंद लेने का मतलब यह नहीं है कि आपको लीवर सिरोसिस हो जाएगा। आमतौर पर, शराब के कारण होने वाला सिरोसिस कई वर्षों के दौरान नियमित रूप से अधिक मात्रा में पीने का परिणाम होता है।”

2. जिगर में वायरल संक्रमण (हेपेटाइटिस बी और हेपेटाइटिस सी) – Viral infection of the liver

हेपेटाइटिस एक वायरल संक्रमण है जिससे लीवर में सूजन और क्षति हो सकती है। जिन व्यक्तियों को इस प्रकार के वायरल हेपेटाइटिस होने का खतरा होता है उनमें शामिल हैं-

  • उपयोग किये इंजेक्शन दवाओं का प्रयोग

  • कंडोम के बिना सेक्स

  • किडनी डायलिसिस वाले रोगी 

यदि हेपेटाइटिस को अनुपचारित छोड़ दिया जाए, तो यह लिवर सिरोसिस का कारण बन सकता है।

3. फैटी लिवर (बिना अल्कोहल के) – Fatty liver (without alcohol)

फैटी लिवर एक ऐसी बीमारी है जिसमें लिवर की कोशिकाओं में बहुत ज़्यादा फैट जमा हो जाता है। ये स्थिति उन लोगो में ज्यादा देखी जाती है जिनका वजन ज्यादा होता है या मधुमेह से पीड़ित होते हैं। इसके अलावा अधिक सैचुरेटेड भोजन या ट्रांस फूड खाने से भी फैटी लिवर की समस्या हो सकती है।   

4. पित्त नली के रोग (Biliary tract diseases)

ये रोग पित्त को छोटी आंत में प्रवाहित होने से रोकता है, जिससे यकृत में सूजन हो सकती है और सिरोसिस का कारण बन सकता है।

5. सिरोसिस होने के अन्य कारण (Other causes of cirrhosis)

सिरोसिस को जन्म देने वाली अन्य स्थितियों में शामिल हैं-

  • सिस्टिक फाइब्रोसिस (सिस्टिक फाइब्रोसिस एक वंशानुगत विकार है जो फेफड़ों, पाचन तंत्र और शरीर के अन्य अंगों को गंभीर नुकसान पहुंचाता है।)

  • आपके शरीर में बहुत अधिक आयरन का निर्माण होना,

  • विल्सन रोग, जहां जिगर में बहुत अधिक तांबा जमा हो जाता है,

  • ऑटोइम्यून रोग, जो आपके शरीर को यकृत कोशिकाओं पर हमला करने का कारण बनते हैं,

  • पित्त नली में रुकावट, जो आपके लीवर से पाचन एंजाइमों को आंतों में ले जाती है,

  • कुछ आनुवंशिक पाचन विकार,

  • सिफलिस और ब्रुसेलोसिस सहित कुछ संक्रमण,

  • कुछ दवाओं के लिए खराब प्रतिक्रिया।

कितनी हैं लिवर सिरोसिस स्टेजेस? (Liver cirrhosis stages in Hindi)

Liver cirrhosis stages in Hindi
Image source freepik

लीवर की बीमारी चार स्टेजेस में बांटी गई है, जिसमें पहली स्टेज है लीवर की सूजन। दूसरी स्टेज में लीवर में घाव हो जाते हैं। यदि ये घाव लंबे समय तक ठीक नहीं होते हैं, तो लिवर सिरोसिस होने का खतरा बढ़ जाता है। लिवर सिरोसिस, लिवर की बीमारी का तीसरी चरण है। इसके बाद चौथी स्टेज में लीवर सिरोसिस के कारण लीवर फेल हो जाता है।

आप विस्तार से इन स्टेजेस को नीचे पढ़ सकते हैं। 

स्टेज I: लिवर में सूजन (Liver Inflammation)

लिवर की बीमारी का पहला चरण पित्त नली या लिवर में सूजन या धाव है। यह सूजन अत्यधिक शराब पीने या वायरस संक्रमण (जैसे हेपेटाइटिस बी और सी) होने या कोई अन्य कारण हो सकता है।

यदि लंबे समय तक लिवर में सूजन या संक्रमण रहता है तो यह लीवर को नुकसान पहुंचा सकता है। सूजन आमतौर पर लिवर सिरोसिस का पहला चरण है, जो उचित इलाज से ठीक हो सकती है (सिवाए हेपेटाइटिस सी)।

“ज्यादातर मामलों में  रोगी  को इस  स्टेज में कोई भी लक्षण दिखाई नहीं  दिखते हैं।”

स्टेज II: सूजन के कारण लिवर पर घाव होना (Liver Fibrosis)

दूसरे चरण में, घाव या सूजन के अधिक बढ़ने से ब्लड सर्कुलेशन प्रभावित होने लगता है। जिससे लिवर ठीक से काम नहीं कर पता है और फिर डाइजेशन और पचाने की आदतों पर असर पड़ता है।

“कब्ज की समस्या, भूख न लगना और उलटी आना इस स्टेज के लक्षण हो सकते हैं।” 

स्टेज III: लिवर सिरोसिस (Liver Cirrhosis)

इस स्टेज में लीवर के अपने आप ठीक होने की कोई संभावना नहीं होती। हालांकि, इस स्टेज तक पहुंचने में बहुत लंबा समय लगता है, कभी-कभी दशकों भी लग जाते हैं। इस स्टेज में लिवर पर स्थायी निशान पड़ जाते हैं, जिससे वह सख्त और फफोले वाले नजर आते हैं।

“पेट के लिवर क्षेत्र में बहुत अधिक दर्द, बेचैनी, वजन में तेजी के साथ कमी और खून वाली उलटी इस स्टेज के लक्षण हो सकते हैं।”

स्टेज IV: लिवर सिरोसिस लास्ट स्टेज (Liver cirrhosis last stage – Liver Failure)

स्टेज IV सिरोसिस का अंतिम चरण है, जिसमें लीवर फेल होने लगता है और व्यक्ति की मृत्यु होने कि सम्भावना अब काफी अधिक बढ़ जाती है। ऐसे व्यक्ति के लिए लीवर ट्रांसप्लांट ही जीवित रहने का एकमात्र विकल्प है।

“लिवर फेलियर से बचने के लिए यह जरूरी है कि आप लिवर सिरोसिस से पहले के स्टेज के लक्षणों को जान लें  और यहीं पर इलाज करना शुरू कर दें । ताकि, ये किसी भी तरह लिवर सिरोसिस का कारण ना बने।”

सिरोसिस का निदान (Diagnosis of cirrhosis in Hindi)

Diagnosis of cirrhosis in Hindi
<span style=font family Mukta>Image source freepik<span>

शुरुआती चरणों में लिवर सिरोसिस के लक्षण आपको शायद ही देखने को मिलें, इसलिए आपको इसके बारे में तब पता चलता है जब आप किसी अन्य स्थिति या बीमारी के लिए परीक्षण करवाते हैं।

सिरोसिस के संदेह होने पर डॉक्टर निम्नलिखित परीक्षणों को करवा सकते हैं-

  • लिवर फंक्शन रक्त परीक्षण, इनमें लिवर फंक्शन टेस्ट (Liver function test- LFT) शामिल है, यह देखने के लिए कि लिवर को जिस तरह से काम करना चाहिए, वह काम कर रहा है या नहीं।
  • बायोप्सी (Biopsy), छोटे ऊतक (टिश्यू) के नमूने लिवर से सुई से या सर्जरी के दौरान लिए जाते हैं। लिवर की बीमारी के प्रकार का पता लगाने के लिए माइक्रोस्कोप में इन टिश्यू की जांच की जाती है।
  • लिवर को देखने के लिए एंडोस्कोपी, अल्ट्रासाउंड, सीटी या एमआरआई स्कैन जैसे इमेजिंग परीक्षण लिए जा सकते हैं।

ऐसे करें लिवर सिरोसिस का रामबाण इलाज (Treatment of liver cirrhosis in Hindi)

Treatment of liver cirrhosis in Hindi
Image source freepik

क्या लिवर सिरोसिस का इलाज संभव है? (Meaning of Liver Cirrhosis in Hindi)

वर्तमान में सिरोसिस का कोई इलाज नहीं है। हालांकि, लक्षणों और इसकी जटिलताओं को कम जरूर किया जा सकता है। लिवर सिरोसिस के उपचार (liver cirrhosis ka ilaj) के लिए हमने कुछ सुझाव दिए हैं जिनका पालन किया जा सकता है।

1. रोजाना अधिक शराब पीने से बचें (Avoid drinking too much alcohol)

लीवर मानव शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है और कई कार्य करता है। लिवर शरीर से विषाक्त पदार्थों को बहार निकलता रहता है। चूँकि अल्कोहल खुद में एक टॉक्सिक है, इसलिए इसका अधिक सेवन करने से यह लिवर को नुकसान पंहुचा सकता है। यदि आप लिवर सिरोसिस से पीड़ित हैं और लिवर सिरोसिस से बचना चाहते हैं तो शराब का परहेज लिवर सिरोसिस का रामबाण इलाज है। 

2. वजन कम करके लिवर सिरोसिस का इलाज (Loss your extra weight)

अधिक मात्रा में फैट लिवर को नुकसान पहुंचा सकता है। मोटे लोग ज्यादातर इस समस्या का सामना करते हैं। वजन कम करने के लिए डॉक्टर ऐसे स्वस्थ आहार लेने की सलाह देते हैं जिनमें ट्रांस फैट या सैचुरेटेड फैट कम होता है। इसके साथ ही वजन कम करने के लिए डॉक्टर सक्रिय रहने और नियमित रूप से व्यायाम करने की सलाह देते हैं।

3. लिवर सिरोसिस आहार का करें पालन (Follow liver cirrhosis diet)

लिवर सिरोसिस आहार में प्रचुर मात्रा में कैलोरी और उच्च गुणवत्ता वाला प्रोटीन होना चाहिए। आपको अस्वास्थ्यकर वसा, शराब, कच्चा मांस और समुद्री भोजन, और उच्च सोडियम खाद्य पदार्थों को सीमित करने की भी आवश्यकता हो सकती है।

लिवर सिरोसिस डाइट मैं निम्नलिखित खाद्य पदार्थों को खाने की सलाह दी जा सकती है-

  • फल: सेब, संतरा, जामुन, नाशपाती, आड़ू, आलूबुखारा।

  • सब्जियां: ब्रोकोली, फूलगोभी, शतावरी, टमाटर, मटर, आलू।

  • प्रोटीन खाद्य पदार्थ: अंडे, डेयरी उत्पाद, समुद्री भोजन, मांस और पोल्ट्री के दुबले टुकड़े।

  • फलियां: बीन्स, दाल, छोले।

  • मेवे: अखरोट, बादाम, काजू, पिस्ता, मकाडामिया।

  • बीज: कद्दू के बीज, अलसी, चिया के बीज, भांग के बीज।

  • साबुत अनाज: क्विनोआ, ओट्स, ब्राउन राइस, एक प्रकार का अनाज।

  • हृदय-स्वस्थ वसा: जैतून का तेल, एवोकैडो, एवोकैडो तेल, सामन, नट, बीज।

  • पेय पदार्थ: पानी, कॉफी, चाय।

  • जड़ी बूटी और मसाले: काली मिर्च, जीरा, डिल, अजमोद, थाइम।

4. सैचुरेटेड फैट खाने से बचें (Avoid eating saturated fat)

लिवर सिरोसिस में सैचुरेटेड फैटी एसिड वाले खाद्य पदार्थों में शामिल हैं:
  • पिज्जा, बर्गर, चीज, मेयोनीज, केक जैसे फूड आइटम्स,

  • कुछ मांस जैसे बीफ, मेमने का मांस और पोर्क,

  • प्रोसेस्ड मीट,

  • वसायुक्त दूध,

  • मलाई,

  • आइसक्रीम,

  • सफेद ब्रेड,

  • पास्ता

  • साबुत दूध और पनीर।

5. अधिक चीनी का सेवन ना करें (Avoid too much sugar)

सिरोसिस में अधिक चीनी वाले खाद्य पदार्थों में शामिल हैं –

  • सोडा (Soda),

  • कैंडी (Candy),

  • स्पोर्ट्स ड्रिंक (Sports drink),

  • कुकीज (Cookies),

  • पेस्ट्री (Pastry),

  • बहुत मीठा दही (Sweet yogurt),

  • आइसक्रीम (Ice Cream),

  • सॉफ्ट ड्रिंक्स (Soft drinks),

  • बिस्कुट (Biscuits),

  • केक (Cake)।

6. डॉक्टर द्वारा बताई दवाएं लें (Take medicines prescribed by the doctor)

दवाएं कुछ प्रकार के लिवर सिरोसिस की प्रगति को धीमा कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, प्राथमिक पित्त सिरोसिस वाले लोगों के लिए दवा सिरोसिस की प्रगति में काफी देरी कर सकती है।

7. सर्जरी (Surgery)

यदि डॉक्टर को लगता है कि अब दवाओं से या अन्य उपायों की मदद से रोग को ठीक करना मुश्किल है तो ऐसे में डॉक्टर उन्हें लीवर ट्रांसप्लांट करवाने की सलाह दे सकते हैं। लीवर ट्रांसप्लांट सबसे अंतिम उपचार के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। 

8. पुरानी हेपेटाइटिस का इलाज करें (Treat chronic hepatitis)

हेपेटाइटिस बी और सी वायरस लीवर को नुकसान पहुंचाते हैं जिससे सिरोसिस हो सकता है।

यदि आप हेपेटाइटिस बी या सी से संक्रमित हैं, तो तुरंत इसका इलाज शुरू कर दें। क्योकि इलाज ना होने से हेपेटाइटिस लिवर सिरोसिस का कारण बन सकता है। हेपेटाइटिस सी के लिए कुछ एंटीवायरल दवाई हैं जो अधिकांश लोगों में असरदार है। इसके अलाव इंटरफेरॉन दवाएं भी हेपेटाइटिस में काफी असर दर होती हैं। 

9. लीवर पर जोर देने वाली दवाओं से बचें (Avoid drugs that stress the liver)

ऐसी दवाएं बिल्कुल न लें, जिनसे लीवर को खतरा हो। क्‍योंकि अक्‍सर देखा जाता है कि जब हम किसी और बीमारी की दवा लेते हैं तो ये दवाएं लिवर पर दबाव डालती हैं और लिवर सिरोसिस का कारण बनती हैं।

कैसे करें सिरोसिस की रोकथाम? (How to prevent cirrhosis in Hindi?)

How to prevent cirrhosis in Hindi
<span style=font family Mukta>Image source freepik<span>

लिवर को स्वस्थ रखने और सिरोसिस को रोकने के कई उपाय मौजूद हैं, जिनमें शामिल हैं-

  • अधिक मात्रा में शराब का सेवन बिलकुल ना करें। यदि आप शराब का सेवन करते हैं, तो डॉक्टर के अनुसार इसे कम मात्रा में लें,

  • असुरक्षित यौन संबंध बनाने से बचें,

  • सफाई उत्पादों, कीटनाशकों और अन्य रसायनों का उपयोग करते समय सावधान रहें। जो लोग नियमित रूप से इन उत्पादों का उपयोग करते हैं, वह हाथों में दस्ताने और चेहरे पर मास्क से अपने को सुरक्षित करें,

  • हेपेटाइटिस बी का टीका लगवाएं,

  • स्वस्थ आहार का पालन करें,

  • यदि आपको मधुमेह है तो नियमित चिकित्सा जांच करवाएं, और अपने वजन, रक्तचाप, रक्त कोलेस्ट्रॉल और रक्त शर्करा को नियंत्रित करने के लिए अपने डॉक्टर की बातों का पालन करें।

निष्कर्ष (Conclusion)

लिवर सिरोसिस एक धीमी गति से बढ़ने वाली एक गंभीर बीमारी है जिसमें लिवर के सामान्य ऊतक असामान्य/निशान वाले ऊतकों में बदल जाते हैं। असुरक्षित यौन संबंध, हेपेटाइटिस संक्रमण, अधिक मात्रा में शराब का सेवन, मधुमेह और आपका मोटापा लिवर सिरोसिस के प्रमुख कारण हैं।

लिवर सिरोसिस की चार स्टेजेस हैं। यदि पहले स्टेज में सिरोसिस की पहचान कर ली जाए तो इससे होने वाले नुकसान से बचा जा सकता है। शराब का परहेज, स्वस्थ वजन, डाइट में बदलाव और पुरानी हेपेटाइटिस का इलाज सिरोसिस का रामबाण उपाय माना जाता है।

ये है लिवर सिरोसिस के बारे में बताई गई पूरी जानकारी। कमेंट में बताएं आपको यह पोस्ट कैसी लगी। यदि आपको Meaning of Liver Cirrhosis in Hindi पोस्ट पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें।

वेब पोस्ट गुरु ब्लॉग में आने और पोस्ट पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद।

Disclaimer : ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है। इस जानकारी का उपयोग किसी भी बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। इसके अलावा किसी भी चीज को अपनी डाइट में शामिल करने या हटाने से पहले किसी योग्य डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ (Dietitian) की सलाह जरूर लें।  

और पढ़ें – डिप्रेशन से नुकसान और बाहर निकलने का उपाय (घरेलू इलाज)।

और पढ़ें – ब्लड शुगर तुरंत कम करने के 14 घरेलू उपाय।

सन्दर्भ (References)

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -spot_img

Latest Articles