Sleep Apnea Home Remedies: ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया का घरेलू इलाज

स्लीप एपनिया एक गंभीर बीमारी है जिसमें नींद के दौरान सांस कुछ सेकंड के लिए रुक सकती है। सांस के रुकने से आपकी नींद पूरी नहीं हो पाती है और आप दिन के समय अधिक थका हुआ महसूस करते हैं। स्लीप एपनिया का प्रमुख कारण ऊपरी वायुमार्ग का अवरुद्ध होना या केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (Central nervous system) में समस्या का होना है। आज स्लीप एपनिया के ट्रीटमेंट के लिए बहुत से उपकरण उपलब्ध हैं जिनमें सीपीएपी (CPAP) प्रमुख है। परन्तु, कुछ लोगों को यह तरीका बहुत असुविधाजनक लगता है। हालांकि, कुछ घरेलू उपचार (उपचार) स्लीप एपनिया के लक्षणों को कम करने में आपकी मदद कर सकते हैं। इस पोस्ट में हम आपको ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया का घरेलू इलाज (Sleep Apnea Home Remedies in Hindi) बता रहे हैं। तो चलिए अब इस रोग के घरेलू उपायों पर नजर डालते हैं।

स्लीप एपनिया क्या है? (Sleep Apnea in Hindi)

स्लीप एपनिया (Sleep Apnea in Hindi) नींद की एक बीमारी है, जिसमें नींद के दौरान आपकी सांस बार-बार रुक सकती है। सांस का रुकना आमतौर पर 10 से 20 सेकंड के बीच होता है।

नींद में बाधा आने के कारण आप मानसिक रूप से तनावग्रस्त, थके हुए, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग जैसी स्वास्थ्य समस्याओं से परेशान हो सकते हैं। कुछ मामलों में स्लीप एपनिया जानलेवा भी हो सकता है इसलिए यदि आप इस रोग से पीड़ित हैं तो बिना देर किए अपने डॉक्टर से बात करें।

स्लीप एपनिया के प्रकार (Type of Sleep Apnea in Hindi)

Sleep Apnea in Hindi
Image source pexels

स्लीप एपनिया के तीन प्रकार हैं-

  • ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (आम प्रकार),
  • सेंट्रल स्लीप एपनिया,
  • काम्प्लेक्स स्लीप एपनिया।

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (बाधक निंद्रा अश्वसन) नींद के दौरान पूर्ण या आंशिक रूप से ऊपरी वायुमार्ग (airway) के अवरुद्ध होने के कारण होता है।

वायुमार्ग अवरुद्ध होने के कारण यह आपकी नींद को प्रभावित कर सकता है, आपके महत्वपूर्ण अंगों में ऑक्सीजन के प्रवाह को कम कर सकता है, और असामान्य हृदय ताल को जन्म दे सकता है।

सेंट्रल स्लीप एपनिया तब होता है जब मस्तिष्क सांस को नियंत्रित करने वाली मांसपेशियों को अस्थायी रूप से सिग्नल भेजना बंद कर देती है। काम्प्लेक्स स्लीप एपनिया की स्थिति उन व्यक्तियों में देखी जाती है जिन्हें ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया और सेंट्रल स्लीप एपनिया दोनों होते हैं।

और पढ़ें – स्लीप एपनिया के लक्षण, आयुर्वेदिक इलाज और योगासन

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया का घरेलू इलाज (Home Remedies for Sleep Apnea  in Hindi)

स्लीप एपनिया का घरेलू इलाज Home Remedies for Sleep Apnea in Hindi
Image source pexels

सीपीएपी मास्क, ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया का एक पारंपरिक उपचार है। इस इलाज में रोगी को सीपीएपी (CPAP) मास्क पहनाया जाता है।  CPAP मास्क आपके वायुमार्ग में दबाव बढ़ाता है, ताकि सोते समय आपकी सांस ना रुके

परन्तु, कुछ लोगों को यह तरीका असुविधाजनक लग सकता है। हालांकि, कुछ घरेलू उपचार स्लीप एपनिया के लक्षणों को कम करने में आपकी मदद कर सकते हैं। स्लीप एपनिया के घरेलू इलाज (Home Remedies for Sleep Apnea in Hindi) के लिए निम्नलिखित बातों का पालन करें –

1. स्वस्थ वजन बनाए रखें (Maintain a healthy weight)

मोटापा, विशेष रूप से ऊपरी शरीर में, वायुमार्ग की रुकावट और संकीर्ण नाक मार्ग के जोखिम को बढ़ा सकता है। जिससे आपको सांस लेने में दिक्कत हो सकती है। इसलिए अपना अतरिक्त वजन कम रखें।

2. नियमित व्यायाम करें (Exercise regularly)

नियमित रूप से व्यायाम करना ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया के लक्षणों को काफी कम कर देता है। व्यायाम कम से कम 30 मिनट तक करें जिसमें तेज चलना प्रमुख है।

3. योगासन और प्राणायाम (Yogasana and Pranayama)

योग और प्राणायाम स्लीप एपनिया के घरेलू उपचार (Sleep Apnea Home Remedies in Hindi) में आते हैं। योग और प्राणायाम नींद की गुणवत्ता में सुधार करते हैं और आपके वायुमार्ग की मांसपेशियों को मजबूत करते हैं साथ ही साँस लेने में भी सुधार होता है। 

योग से आप अपनी श्वसन नलिकाओं को खोल सकते हैं, जिससे स्लीप एपनिया की समस्या से निपटने में मदद मिलती है। आप सोते वक्त स्लीप एपनिया की समस्या से निपटने के लिए नीचे बताए हुए योगासन और प्राणायाम कर सकते हैं।

  • भुजंगासन योग,
  • धनुरासन योग,
  • भ्रामरी प्राणायाम,
  • उज्ज्यी प्राणायाम,
  • नाड़ी शोधन प्राणायाम,
  • कपाल भाति प्राणायाम।

4. अपनी नींद की स्थिति में बदलाव करें (Change your sleeping position)

स्लीप एपनिया से बचने के लिए आप अपने सोने के पैटर्न को बदलते रहें। ध्यान रखें आप पीठ के बल ना सोएं। पीठ के बल सोने से  जीभ और नरम तालु शिथिल होकर गले में पीछे की तरफ झुक जाती हैं, जिससे वायुमार्ग में रुकावट आ सकती है। इसलिए पीठ के बल सोने की बजाए पेट के बल या एक तरफ मुंह करके सोने की कोशिश करें।

5. ह्यूमिडिफायर का इस्तेमाल करें (Use a humidifier)

Humidifier for Obstructive Sleep Apnea
Image source pexels

ह्यूमिडिफ़ायर ऐसे उपकरण हैं जो कमरे की हवा में नमी जोड़ता है। ह्यूमिडिफायर का उपयोग आपके वायुमार्ग और बंद नाख को खोल सकता है। जिससे सांस लेने में दिक्कत नहीं होती है।

6. शराब और धूम्रपान से बचें (Avoid alcohol and smoking)

शराब और धूम्रपान का अधिक सेवन गले की मांसपेशियों में सूजन पैदा कर सकता है जिससे आपका वायु प्रवाह अवरुद्ध हो सकता है। इसलिए यदि आप स्लीप एपनिया से पीड़ित हैं तो शराब और धूम्रपान को छोड़ने की कोशिश करें।

7. सही आहार का पालन करें (Follow the right diet to stay heart healthy)

स्लीप एपनिया से पीड़ित रोगी दुविधा में होते हैं कि उन्हें स्लीप एपनिया में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं (Diet for Sleep Apnea)।

अगर आपको स्लीप एपनिया की समस्या है, तो आप नीचे बताए गए खाद्य पदार्थों को अपनी डाइट में शामिल करके या हटा के स्लीप एपनिया के लक्षणों को कुछ हद तक नियंत्रित कर सकते हैं – 

स्लीप एपनिया में शिमला मिर्च, फूल गोभी, ब्रोकली, केल, पालक, मटर, हरी पत्तेदार गोभी, और मेथी जैसी हरी सब्जियां लाभदायक मानी जाती हैं, जबकि फलों में आड़ू, जामुन, एवाकाडो, केला, स्ट्रॉबेरी, ब्लूबेरी, ब्लैकबेरी लाभदायक हैं।

इसके अलावा स्किम मिल्क या एक प्रतिशत दूध, लो फैट दही (yogurt) और पनीर (cottage cheese) जैसी चीजें एपनिया में फायदा पंहुचा सकती हैं।

8. डाइट में अधिक ओमेगा 3 वसा लें (Omega 3 Diet)

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया के मरीजों में हृदय रोग (सीवीडी) का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में डॉक्टर हार्ट को मजबूत करने के लिए ओमेगा 3 वसा खाने की सलाह दे सकते हैं। ओमेगा 3 वसा में शामिल हैं –

अखरोट, चिया बीज, अलसी बीज (फ्लैक्स सीड्स), राजमा , भांग के बीज, सोयाबीन, फूलगोभी, कैनोला ऑयल, सोयाबीन की फलियां, कॉड लिवर ऑयल।

और पढ़ें – ओमेगा 3 फैटी एसिड के फायदे और नुकसान

9. अनसैचुरेटेड फैट खाएं (Eat unsaturated fats)

अगर आपको स्लीप एपनिया है तो आप संतृप्त वसा (saturated fat) के बजाए असंतृप्त वसा (unsaturated fat) अधिक खाएं। असंतृप्त वसा वाले खाद्य पदार्थों में शामिल हैं –

  • एवोकैडो और एवोकैडो तेल,
  • जैतून और जैतून का तेल,
  • मूंगफली से बना मक्खन और मूंगफली का तेल,
  • वनस्पति तेल, जैसे सूरजमुखी, मक्का, या कैनोला,
  • वसायुक्त मछली, जैसे सैल्मन और मैकेरल,
  • नट और बीज, जैसे अखरोट, बादाम, मूंगफली, काजू, और तिल।

10. हर्बल चाय से स्लीप एपनिया का उपचार (Herbal tea for sleep apnea)

आयुर्वेदिक चाय (हर्बल चाय) का उपयोग सैकड़ों वर्षों से विभिन्न बीमारियों के लिए किया जाता है। हर्बल टी में कैफीन की मात्रा ना के बराबर होने से ये हमारे स्वास्थ के लिए बहुत लाभदायक है।

आयुर्वेदिक चाय में एंटीऑक्सिडेंट, एंटीमाइक्रोबॉयल, एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटीबैक्टीरियल और एंटीएलर्जिक जैसे गुण होते हैं। जो गले और नाक की सूजन को कम करने का काम करते हैं और स्लीप एपनिया के लक्षणों में सुधार लाते हैं।

आयुर्वेदिक चाय में गुड़हल की चाय, पुदीने की चाय, सौंफ की चाय और दालचीनी की चाय प्रमुख हैं।

11. सोने के 2 घंटे पहले भोजन करें (Stop eating 2 hours before bed)

रात्रि के भोजन और सोने के बीच कम से कम 2 घंटों का अन्तराल रखें और पेट को हलका रखकर सोएँ। भोजन के ठीक बाद सोने से एसिडिटी की समस्या हो सकती है। इसलिए डॉक्टर रात्रि में सोने के 2 घंटे पहले भोजन करने की सलाह देते हैं।

12. स्लीप एपनिया में परहेज़ (Food to avoid in Sleep Apnea)

स्लीप एपनिया से पीड़ित लोगों को कुछ चीजें से परहेज करना चाहिए। जिनमें शामिल हैं –

  • स्लीप एपनिया में संतृप्त वसा (saturated fat) खाद्य पदार्थ (जैसे -पिज्जा, बर्गर, चीज, मेयोनीज, केक) स्लीप एपनिया में नहीं खाने चाहिए,
  • स्लीप एपनिया में ऐसे खाद्य पदार्थ ना खाएं जिनमें ट्रांस वसा हो (जैसे -मक्खन, कुकीज़, केक, फ्रेंच फ्राइज़, चिप्स, डोनट्स),
  • स्लीप एपनिया में अधिक नमक (सोडियम) वाले भोजन से परहेज करना चाहिए,
  • स्लीप एपनिया में ना खाएं अधिक चीनी वाले आहार जैसे – सोडा, कैंडी, स्पोर्ट्स ड्रिंक, कुकीज, बिस्कुट, केक, पेस्ट्री, बहुत मीठा दही , आइसक्रीम, सॉफ्ट ड्रिंक्स।

और पढ़ें – हृदय रोगियों के लिए स्पेशल डाइट प्लान

निष्कर्ष (Conclusion)

यदि आप स्लीप एपनिया के हल्के लक्षणों से पीड़ित हैं तो घरेलू उपचार द्वारा इस बीमारी को नियंत्रित किया जा सकता है। स्वस्थ वजन, नियमित व्यायाम, नींद की पोजीशन में बदलाव, योगासन, प्राणायाम और ह्यूमिडिफायर का इस्तेमाल स्लीप एपनिया के घरेलू उपचार में शामिल हैं।

ये हैं स्लीप एपनिया का घरेलू इलाज (Sleep Apnea Home Remedies in Hindi) के बारे में बताई गई पूरी जानकारी। कमेंट में बताएं आपको यह पोस्ट कैसी लगी। यदि आपको पोस्ट पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें।

वेब पोस्ट गुरु ब्लॉग में आने और पोस्ट पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद।

Disclaimer : ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है। इस जानकारी का उपयोग किसी भी बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। इसके अलावा किसी भी चीज को अपनी डाइट में शामिल करने या हटाने से पहले किसी योग्य डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ (Dietitian) की सलाह जरूर लें।  

सन्दर्भ (References)

  1. Kaufmann CN, Susukida R, Depp CA. Sleep apnea, psychopathology, and mental health care. Sleep Health. 2017;3(4):244-249.
  2. Javaheri S, Barbe F, Campos-Rodriguez F, Dempsey JA, Khayat R, Javaheri S, Malhotra A, Martinez-Garcia MA, Mehra R, Pack AI, Polotsky VY, Redline S, Somers VK. Sleep Apnea: Types, Mechanisms, and Clinical Cardiovascular Consequences. J Am Coll Cardiol. 2017 Feb 21;69(7):841-858.
  3. Slowik JM, Collen JF. Obstructive Sleep Apnea. [Updated 2021 Jul 26]. In: StatPearls [Internet]. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2021 Jan.
  4. Healthline- 6 Lifestyle Remedies for Sleep Apnea
  5. Verywellhealth- Natural Remedies for Sleep Apnea
  6. NCBI: Weight loss for obstructive sleep apnea: the optimal therapy for obese patients
  7. NCBI: Interaction between smoking and obstructive sleep apnea: not just participants

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -spot_img

Latest Articles