Tuesday, November 29, 2022

Blood CRP Test | सीआरपी ब्लड टेस्ट क्या है? जानिए टेस्ट रेंज और प्राइस

सी-रिएक्टिव प्रोटीन रक्त में पाया जाने वाला एक प्रोटीन है, जिसका उच्च स्तर किसी गंभीर संक्रमण या बीमारी का संकेत हो सकता है। आज C reactive protein test (CRP Test) शरीर में संक्रमण का एक महत्वपूर्ण मार्कर (marker) माना जाता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि अधिकांश मामलों में सी-रिएक्टिव प्रोटीन (सीआरपी) संक्रमण के शुरुआत में ही बन जाते हैं, जिससे हम किसी गंभीर बीमारी का पता पहले ही लगा सकते हैं। अगर आप भी जानना चाहते है कि सीआरपी ब्लड टेस्ट क्या है? ब्लड सीआरपी टेस्ट रिपोर्ट कैसे पढ़ते हैं? सीआरपी नॉर्मल रेंज और सीआरपी टेस्ट प्राइस क्या है? तो इस लेख को पूरा अंत तक पढें। यहां हम आपको सीआरपी टेस्ट की पूरी जानकारी हिंदी में बताएंगे। तो आइए पढ़ते हैं Blood CRP Test in Hindi पोस्ट।

सी रिएक्टिव प्रोटीन (सीआरपी) क्या है? | What is C reactive protein (CRP) in Hindi

सीआरपी एक प्रकार का एक्यूट इंफ्लेमेटरी प्रोटीन (acute inflammatory protein) हैं जो शरीर में सूजन या इन्फेक्शन के दौरान लीवर में बनता है।

इन्फेक्शन के दौरान हमारा इम्यून सिस्टम अधिक सक्रीय हो जाता है और संक्रमण दूर करने के लिए वह अधिक मात्रा में इंटरल्‍यूकिन-6 (IL-6) बनता है।

ब्लड में मौजूद इंटरल्‍यूकिन-6 (IL-6) सीआरपी के उत्पादन को प्रेरित करते हैं। इसलिए ब्लड में इंटरल्‍यूकिन-6 या सीआरपी की उपस्थिति किसी संक्रमण या सूजन का संकेत हो सकता है।

सी-रिएक्टिव प्रोटीन (सीआरपी) की खोज कब हुई? | When was C-reactive protein (CRP) discovered in Hindi?

सी-रिएक्टिव प्रोटीन (सीआरपी) की खोज 1930 में टायलेट और फ्रांसिस ने न्यूमोकोकस संक्रमण से पीड़ित रोगियों के सीरम की जांच के दौरान की थी।

उच्च सीआरपी होने का क्या अर्थ है? | High CRP means in Hindi

सी-रिएक्टिव प्रोटीन का उच्च स्तर हृदय धमनियों की सूजन को दर्शाता है, जो हार्ट अटक का पहला संकेत हो सकता है।

इसके अलावा उच्च सीआरपी तीव्र सूजन या संक्रमण का संकेत भी हो सकता है।

यह सूजन या संक्रमण बैक्टीरियल इन्फेक्शन, पाचन सम्बन्धी बीमारी, स्व – प्रतिरक्षित रोग, फंगल इन्फेक्शन, कैंसर, मोटापा, सीलियक रोग, हृदय रोग, ऑस्टियोमाइलाइटिस बीमारी के कारण से हो सकता है।

चलिए अब समझते हैं सीआरपी ब्लड टेस्ट (CRP Blood Test) क्या है और कैसे किया जाता है?

सीआरपी ब्लड टेस्ट क्या है? | Blood CRP Test in Hindi | c reactive protein test in Hindi

CRP Blood Test in Hindi (सीआरपी टेस्ट)

सीआरपी ब्लड टेस्ट (Blood CRP Test) एक महत्वपूर्ण जांच है, जो रक्त में सी-रिएक्टिव प्रोटीन (सीआरपी) की मात्रा को मापता है।

ब्लड में सीआरपी का उच्च स्तर, शरीर में किसी इन्फेक्शन को दर्शाता है। हालांकि, सीआरपी टेस्ट यह नहीं बताता की इन्फेक्शन कहाँ स्थित है। (6)

सीआरपी ब्लड परीक्षण कराने से पहले उपवास करने या तरल पदार्थों से परहेज करने की कोई आवश्यकता नहीं होती है।

हालांकि, डॉक्टर सीआरपी परीक्षण के साथ अन्य परीक्षण भी करवा सकते हैं, और इसके लिए 9-12 घंटे का उपवास की आवश्यकता हो सकती है।

अगर आप किसी भी तरह की दवा या हर्बल प्रोडक्ट ले रहे हैं तो टेस्ट से पहले डॉक्टर को उसके बारे में जरूर बताएं।

कैसे किया जाता है सीआरपी ब्लड टेस्ट? | c reactive protein test procedure in Hindi

सीआरपी ब्लड टेस्ट के लिए ब्लड सीरम सैंपल (serum sample) की आवश्यकता होती है।

इसके लिए आपकी बांह या हाथ की नस से ब्लड लिया जाता है। इस टेस्ट के लिए लगभग 2-3 ml रक्त कि जरुरत होती है।

सीआरपी ब्लड टेस्ट के प्रकार | Types of CRP Tests in Hindi

Blood CRP Test दो प्रकार के होते हैं।

  • परंपरागत सी-रिएक्शन प्रोटीन (Standard C-reactive protein) परीक्षण और
  • उच्च-संवेदनशीलता सी-रिएक्टिव प्रोटीन (High-sensitivity C-reactive protein/ hs-CRP) परीक्षण।

ये दोनों ही टेस्ट ब्लड में सी-रिएक्टिव प्रोटीन को मापते हैं।

1. परंपरागत सी-रिएक्टिव ब्लड टेस्ट (Standard Blood CRP Test in Hindi)

परंपरागत या नियमित सी-प्रतिक्रिया प्रोटीन टेस्ट विभिन्न बीमारियों को उजागर करने में मदद करता है। जैसे- मधुमेह, उच्च रक्तचाप, वायरल  संक्रमण, बैक्टीरियल इन्फेक्शन, ट्यूमर, कैंसर आदि।

2. हाई-सेंसिटिव सी-रिएक्टिव ब्लड टेस्ट (hs-CRP Blood Test in Hindi)

उच्च-संवेदनशीलता सी-रिएक्टिव प्रोटीन (hs-CRP) परीक्षण परंपरागत सी-प्रतिक्रिया प्रोटीन परीक्षण की तुलना में थोड़ा अलग परीक्षण है, जो हृदय रोग की पूर्व सूचना प्रदान करता है।

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन (एएचए) और सीडीसी (CDC) के अनुसार, उच्च-संवेदनशीलता सी-रिएक्टिव प्रोटीन (hs-CRP) परीक्षण आमतौर पर हृदय रोग और स्ट्रोक की पूर्व-सूचना प्रदान करता है।

hs-CRP टेस्ट, ब्लड में प्रोटीन के निम्न स्तर (0.5–10 mg/L) को मापता है, जबकि नियमित सी-रिएक्शन प्रोटीन टेस्ट, ब्लड में प्रोटीन के उच्च स्तर (10–1,000 mg/L) को मापता है।

CRP कितना होना चाहिए? | CRP kitna hona chahiye in Hindi | CRP Test Normal Range in Hindi

1. परंपरागत सीआरपी स्तर | Standard CRP Test Range in Hindi

स्वस्थ वयस्कों में परंपरागत सीआरपी (standard CRP) का सामान्य स्तर 0.8 मिलीग्राम / लीटर  से लेकर 3.0 मिलीग्राम / लीटर तक होता है।

3.0 मिलीग्राम / लीटर से ऊप्पर का स्तर असमान्य सीआरपी माना जाता है।

3 mg/L और 10 mg/L के बीच का स्तर आमतौर पर मधुमेह, उच्च रक्तचाप, तंबाकू और धूम्रपान का कारण हो सकता है।

10 mg/L और 100 mg/L के बीच का स्तर वायरल  संक्रमण (COVID-19 आदि), ट्यूमर और कैंसर आदि का संकेत हो सकता है।

100 mg/L से ऊप्पर का स्तर बैक्टीरियल संक्रमण का संकेत ​हो सकता है।

और पढ़ें – इस्केमिक हृदय रोग क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज

2. हाई-सेंसिटिव सीआरपी स्तर | hs-CRP Test Range in Hindi

हाई-सेंसिटिव सीआरपी (high sensitivity crp test in hindi) का सामान्य स्तर 1 मिलीग्राम प्रति लीटर या उससे कम माना जाता है।

यदि ब्लड में hs-CRP का स्तर 1 मिलीग्राम प्रति लीटर या उससे कम है तो यह हृदय रोग के लिए कम जोखिम होता है।

hs-CRP का 1-3 मिलीग्राम प्रति लीटर से अधिक का स्तर हृदय रोग के लिए मध्यम जोखिम होता है, जबकि एचएस-सीआरपी का स्तर 3 मिलीग्राम प्रति लीटर से अधिक है तो यह हृदय रोग के लिए उच्च जोखिम वाला हो सकता है।

हालांकि, 10 मिलीग्राम प्रति लीटर से अधिक सीआरपी स्तर एक तीव्र कोरोनरी प्रक्रिया को दर्शाता है, जैसे कि दिल का दौरा।

Note- इस बात का ध्यान रखें कि यदि आपका hs-CRP स्तर अधिक है, तो इसका निश्चित रूप से यह मतलब नहीं है कि आपको कोई हृदय रोग है। हृदय रोग का और अधिक मूल्यांकन करने के लिए डॉक्टर अन्य परीक्षण करवा सकते हैं।

सीआरपी टेस्ट रिपोर्ट कैसे पढ़ें | CRP Test Report in Hindi

सीआरपी टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव या पोस्टिव दोनों में से कोई भी हो सकती है।

1. निगेटिव सीआरपी टेस्ट का क्या मतलब है?- CRP test negative means in Hindi

सीआरपी टेस्ट नेगेटिव मतलब है शरीर में किसी इन्फेक्शन का ना होना। हालांकि इस बात का ध्यान रहे कि कभी-कभी इन्फेक्शन या सूजन होने के बाबजूद भी सीआरपी टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आ सकती है।

2. पॉजिटिव सीआरपी टेस्ट का क्या मतलब है? – CRP positive means in Hindi

ब्लड में सीआरपी का उच्च स्तर या CRP टेस्ट का पॉजिटिव होना शरीर में किसी संक्रमण या सूजन को दर्शाता है। हालांकि, ये संक्रमण और सूजन शरीर के किस अंग में मौजूद है यह टेस्ट में पता नहीं चलता है।

3. सीआरपी टेस्ट नॉन रिएक्टिव और रिएक्टिव का मतलब क्या है? – CRP test reactive and non reactive means in Hindi

सीआरपी टेस्ट नॉन रिएक्टिव का मतलब है कि व्यक्ति में कोई संक्रमण नहीं है। मतलब टेस्ट वैल्यू सामान्य स्तर पर है। जबकि, सीआरपी टेस्ट रिएक्टिव का मतलब है कि व्यक्ति में कोई संक्रमण है। मतलब टेस्ट वैल्यू सामान्य स्तर से ऊप्पर है।

किसे करवाना चाहिए सीआरपी ब्लड टेस्ट? | Who should get the CRP blood test in Hindi

ऐसे व्यक्ति जिन्हें हृदय रोग हो या हृदय रोग होने की सम्भावना अधिक हो, डॉक्टर अक्सर सीआरपी टेस्ट करवाने की सलाह देते हैं।

इसके अलावा डॉक्टर उन व्यक्तियों को भी सीआरपी टेस्ट करवाने की सलाह दे सकते हैं जिनमें सीआरपी स्तर बढ़ने की अधिक सम्भावना रहती है। इन व्यक्तियों में शामिल हैं – (17)

  • कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति,
  • पुरुष जिनकी उम्र 45 या उससे अधिक हो, और ऐसी महिलाऐं जिनकी उम्र 55 या उससे अधिक हो,
  • पिछले पांच वर्षों से धूम्रपान का इतिहास ,
  • हृदय रोग का पारिवारिक इतिहास,
  • उच्च रक्तचाप वाले व्यक्ति,
  • ऐसे व्यक्ति जिनका रक्त कोलेस्ट्रॉल अधिक हो,
  • टाइप  2  डायबिटीज से ग्रस्त व्यक्ति,
  • ऐसे व्यक्ति जिनका वजन अधिक हो,
  • ऐसे लोग जिन्हें बैक्टीरियल इन्फेक्शन या फंगल इन्फेक्शन हुआ हो,
  • इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज से पीड़ित व्यक्ति,
  • ऑटोइम्यून विकार से पीड़ित व्यक्ति,
  • कैंसर से पीड़ित व्यक्ति,
  • अधिक वाजनीय व्यक्ति,
  • ऐसे व्यक्ति जिनकी हल में ही सर्जरी हुए हो।

और पढ़ें – आयरन की कमी को दूर करते हैं ऐसे आहार।

कब करवाना चाहिए सीआरपी ब्लड टेस्ट? | When should I get the CRP blood test done in Hindi

डॉक्टर अक्सर संक्रमण का संदेह होने पर या संक्रमण के समय सीआरपी ब्लड टेस्ट करवाते हैं, साथ ही जो व्यक्ति पुरानी बीमारी से पीड़ित होते हैं उनका भी सीआरपी टेस्ट करवा सकते हैं।

इसके अलावा सीआरपी ब्लड टेस्ट का उपयोग आपके उपचार की निगरानी के लिए भी करवाया जा सकता है।

ब्लड में सीआरपी का स्तर सूजन के आधार पर बढ़ता या गिरता है।

यदि किसी व्यक्ति का सीआरपी स्तर नीचे चला जाता है, तो यह इस बात का संकेत हो सकता है कि सूजन के लिए किये जाने वाला उपचार ठीक से चल रहा है।

और पढ़ें – CBC Test क्या है? सीबीसी रिपोर्ट कैसे पढ़ें? जानिए टेस्ट रेंज और प्राइस

और पढ़ें – जानिए घबराहट के दौरे क्या हैं, और क्यों आते हैं।

और पढ़ें – मेनियार्स रोग क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज

CRP टेस्ट प्राइस | CRP Test Price

CRP टेस्ट प्राइस हर शहर में अलग-अलग हो सकता है। CRP टेस्ट की औसत प्राइस ₹500 से ₹950 तक हो सकती है। आज की तारीख में डॉ लाल पैथ लैब्स में सीआरपी टेस्ट की कीमत ₹ 750 है।

निष्कर्ष | Conclusion

सी-रिएक्टिव प्रोटीन ब्लड में मौजूद एक पदार्थ है जिसे लीवर शरीर में सूजन या इन्फेक्शन के दौरान बनाता है। सी-रिएक्टिव प्रोटीन का उच्च स्तर विभिन्न प्रकार की बिमारियों को दर्शाता है। हालांकि, सीआरपी टेस्ट से यह पता नहीं चलता है कि इन्फेक्शन शरीर के किस भाग में हुआ है।

शरीर में सीआरपी के स्तर का पता लगाने के लिए डॉक्टर परंपरागत सीआरपी (standard CRP) या/ और  एचएस-सीआरपी (hs-CRP) परीक्षणों का उपयोग कर सकते हैं।

परंपरागत सी-प्रतिक्रिया प्रोटीन मधुमेह, उच्च रक्तचाप, वायरल  संक्रमण, बैक्टीरियल इन्फेक्शन आदि बीमारियों को उजागर करने में मदद करता है। जबकि एचएस-सीआरपी टेस्ट का उपयोग हृदय रोग की सूचना देता है।

CRP का सामान्य स्तर 0.8 मिलीग्राम / लीटर  से लेकर 3.0 मिलीग्राम / लीटर तक माना जाता है, जबकि, >3.0 mg/L से अधिक स्तर असमान्य माना जाता है। इसके आलावा hs-CRP का सामान्य स्तर <1 मिलीग्राम / लीटर  से कम माना जाता है, जबकि एचएस-सीआरपी का असमान्य स्तर >1 मिलीग्राम/ लीटर से अधिक माना जाता है।

अगर हाल ही में आपने अपने शरीर में कुछ ऐसे बदलाव देखे हैं जो समय के साथ ठीक नहीं हो रहे हैं और ये बदलाव आपको परेशान कर रहे हैं, तो आपको तुरंत अपने डॉक्टर से इन लक्षणों के बारे में बात करनी चाहिए।


ये है सीआरपी ब्लड टेस्ट के बारे में बताई गई पूरी जानकारी। कमेंट में बताएं आपको यह पोस्ट कैसी लगी। यदि आपको Blood CRP Test in Hindi पोस्ट पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें।

वेब पोस्ट गुरु ब्लॉग में आने और पोस्ट पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद।

Disclaimer : ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है। इस जानकारी का उपयोग किसी भी बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। इसके अलावा किसी भी चीज को अपनी डाइट में शामिल करने या हटाने से पहले किसी योग्य डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ (Dietitian) की सलाह जरूर लें। 

सन्दर्भ (References)

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest Articles