Symptoms of thyroid cancer | महिलाओं में थायराइड कैंसर के लक्षण, कारण, बचाव व इलाज

Symptoms of thyroid cancer in Hindi : थायरॉइड कैंसर, थायरॉयड में होने वाली एक गंभीर और खतरनाक बीमारी है जो जानलेवा भी हाे सकती है। हालांकि, यदि इस बीमारी का समय रहते और सही तरीके से इलाज करवाया जाए, ताे इससे बचा जा सकता है। इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको महिलाओं में थायराइड कैंसर के लक्षण, कारण और इलाज के बारे में बता रहे हैं।

आइये अब इस पोस्ट को शुरू करते हैं।

Symptoms of thyroid cancer in hindi

थायराइड कैंसर क्या है? | What is Thyroid Cancer in Hindi

थायरॉयड तितली के आकार की एक ग्रंथि (gland) है जो गर्दन के अंदर और कॉलरबोन के ठीक ऊपर स्थित रहती है। यह ग्रंथि थायराइड हार्मोन उत्पन्न करती है जो मेटाबाॅलिज्म को नियंत्रित करने में मदद करती है। इसके अलावा थायराइड हार्मोन शरीर के तापमान, रक्तचाप और हृदय गति को नियंत्रित करने में भी मदद करती है। (1)

थायराइड कैंसर कोशिकाओं की असामान्य वृद्धि है जो थायरॉयड में शुरू होती है। शुरुवाती चरण में थायराइड कैंसर के लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। लेकिन जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, यह आपकी गर्दन में सूजन, आवाज में बदलाव और निगलने में कठिनाई जैसे लक्षण पैदा कर सकती है। (2)

पुरुषों के मुकाबले महिलों में थायराइड कैंसर काफी आम है। यदि थायराइड कैंसर का समय रहते इलाज किया जाए, तो डॉक्टर इस बीमारी को पूरी तरह ठीक कर सकते हैं। इसलिए थायराइड कैंसर के लक्षण नजर आते ही डॉक्टर से सलाह लें।

और पढ़ें – HDL Cholesterol क्या है? जानिए गुड कोलेस्ट्रॉल बढ़ाने के तरीके

महिलाओं में थायराइड कैंसर के लक्षण क्या हैं? | Symptoms of Thyroid Cancer in Females in Hindi

शुरुआत में थायराइड कैंसर के कोई लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। हालांकि, रोग के बढ़ने पर आपको इसके लक्षण दिखाई दे सकते हैं। महिलाओं में थायराइड कैंसर के लक्षण निम्नलिखित हैं। जिसमें शामिल हैं- (1 & 3)

थायराइड कैंसर के शुरुआती लक्षण इस प्रकार दिखाई देते हैं।

  • गर्दन पर गांठ का महसूस होना। जो नोड्यूल के रूप में जाना जाता है,
  • गर्दन और गले के सामने के हिस्से में दर्द,
  • आपकी आवाज में बदलाव,
  • सांस लेने में दिक्क्त,
  • निगलने में कठिनाई,
  • गर्दन की सूजन,
  • खांसी और सर्दी,
  • गर्दन के लिम्फ नोड्स का सूजना और उनका दर्दनाक होना।

और पढ़ें –  Prediabetes क्या है? जानिए पूर्व मधुमेह के लक्षण, कारण और आयुर्वेदिक उपचार

महिलाओं में थायराइड कैंसर के कारण क्या हैं? | Causes of thyroid cancer in women

थायराइड कैंसर का कोई स्पष्ट कारण नहीं है। हालांकि, कुछ जोखिम कारक हैं जो थायराइड कैंसर का कारण बन सकता है। इन जोखिम कारकों में शामिल हैं-

आपका लिंग और उम्र – gender and age

पुरुषों की तुलना में महिलाओं में थायराइड कैंसर की सम्भावना लगभग 3 गुना से अधिक होती है। थायराइड कैंसर किसी भी उम्र में हो सकता है, लेकिन पुरुषों की तुलना में महिलाओं के लिए जोखिम अधिक है।

थायराइड कैंसर 50 साल से अधिक उम्र की महिलाओं में होता है, जबकि पुरुषों में 60 या 70 साल की उम्र में।

आनुवंशिक स्थितियाँ – genetic conditions 

कई आनुवंशिक स्थितियाँ थायराइड कैंसर कारण बन सकती हैं, इसके अलावा पारिवारिक इतिहास भी थायराइड कैंसर का कारण है

रेडिएशन – Radiation

रेडिएशन थायराइड कैंसर का कारण है। इसमें मेडिकल इलाज और बिजली दुर्घटनाओं या परमाणु हथियारों से होने वाले रेडिएशन शामिल हैं। बचपन में सिर या गर्दन का रेडिएशन इलाज कराना थायरॉइड कैंसर के लिए एक जोखिम कारक हो सकता है।

आहार में आयोडीन की कमी – Iodine deficiency in diet

आहार में आयोडीन की कमी थायराइड कैंसर का कारण हो सकता है। फोल्लिकुलर थायराइड कैंसर आयोडीन की कमी से होने वाला कैंसर है।

ज्यादा वजन या मोटापा – overweight or obese

रिसर्च के अनुसा थायराइड कैंसर होने का खतरा उन लोगों में अधिक होता है जिनका वजन जरुरत से ज्यादा होता है।

और पढ़ें –  जानिए मधुमेह रोगी डायबिटीज में क्या खाएं और क्या न खाएं।

थायराइड कैंसर के प्रकार क्या हैं? | Types of thyroid cancer

थायराइड में मिलने वाली असामान्य कोशिकाओं के प्रकार के आधार पर थायराइड कैंसर को चार भागों में वर्गीकृत किया जाता है। थायराइड कैंसर के प्रकारों में शामिल हैं:

पैपिलरी थायराइड कैंसर- Papillary thyroid cancer

यह थायराइड कैंसर का सबसे आम प्रकार है। जो लगभग 80 प्रतिशत मामलों में पाया जाता है। यह किसी भी उम्र में हो सकता है, लेकिन यह अक्सर 35 से 55 वर्ष की आयु के लोगों को ज्यादा प्रभावित करता है।

अधिकांश पैपिलरी थायरॉयड कैंसर छोटे होते हैं और उपचार के लिए अच्छी प्रतिक्रिया देते हैं, भले ही कैंसर कोशिकाएं गर्दन में लिम्फ नोड्स में फैल गई हों। हालांकि, इसके आपके रक्त वाहिकाओं में फैलने की भी अधिक संभावना होती है। फिर भी, इसमें ठीक होने की दर अधिक है।

फॉलीक्यूलर थायरॉयड कैंसर – Follicular thyroid

फॉलिक्युलर थायराइड कैंसर, या फॉलिक्युलर कार्सिनोमा, थायराइड कैंसर का दूसरा सबसे आम प्रकार है। यह आमतौर पर 50 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को प्रभावित करता है।

यह उन देशों में अधिक देखा जाता है जहां आयोडीन युक्त भोजन अपर्याप्त होता है। ज्यादातर मामलों में यह एक अच्छे रोग का निदान के साथ जुड़ा हुआ है, हालांकि यह पैपिलरी कैंसर की तुलना में कुछ अधिक आक्रामक है।

फॉलिक्युलर थायराइड कैंसर आमतौर पर पास के लिम्फ नोड्स में नहीं फैलता है, लेकिन पैपिलरी कैंसर की तुलना में फेफड़ों या हड्डियों जैसे अन्य अंगों में फैलने की संभावना अधिक होती है।

मेडुलरी थायराइड कैंसर – Medullary thyroid cancer

मेडुलरी थायरॉयड कैंसर, या मेडुलरी थायरॉयड कार्सिनोमा, थायरॉयड ग्रंथि में सी कोशिकाओं से विकसित होता है, और पैपिलरी थायराइड कैंसर की तुलना में अधिक आक्रामक है।

लगभग 2 प्रतिशत थायराइड कैंसर मेडुलरी होते हैं। मेडुलरी थायराइड कैंसर वाले एक चैथाई लोगों में बीमारी का पारिवारिक इतिहास होता है।

एनाप्लास्टिक थायरॉयड कैंसर – Anaplastic

यह एक प्रकार का दुर्लभ थायराइड कैंसर है जो तेजी से फैलता है। यह कैंसर आसपास के ऊतकों और शरीर के अन्य भागों को प्रभावित करता है, जिसकारण इसका इलाज करना बहुत मुश्किल हो जाता है। एनाप्लास्टिक थायरॉयड कैंसर आमतौर पर 60 वर्ष और अधिक उम्र के किशोरों में होता है।

और पढ़ें – Kidney Stone के लक्षण, कारण और इलाज | किडनी स्टोन डाइट चार्ट 

क्या थायराइड कैंसर जानलेवा है? | Is Thyroid Cancer Deadly?

वैसे ताे थायरॉइड कैंसर एक गंभीर बीमारी है। यह जानलेवा भी हाे सकती है। लेकिन अगर समय पर और सही तरीके से इसका इलाज करवाया जाए, ताे मरीज काे बचाया जा सकता है। पैपिलरी थायराइड कैंसर और फॉलीक्यूलर थायराइड कैंसर से पीड़ित लोग यदि सही तरीके से इलाज करवाएं तो उनकी बीमारी पूरी तरह ठीक हो सकती है। हालांकि, अन्य प्रकार के कैंसर जैसे मेडुलरी थायराइड कैंसर या एनाप्लास्टिक थायराइड कैंसर जानलेवा भी हो सकते हैं। इसलिए  यदि आपको थायराइड कैंसर के लक्षण नजर आएं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें और इसका इलाज शुरू कर दें।

थायराइड कैंसर का इलाज कैसे किया जाता है? | Thyroid cancer treatment

थायराइड कैंसर का उपचार इस बात पर निर्भर करता है कि आपको थायराइड कैंसर किस प्रकार का है और वह कितनी दूर तक फैला है।

थायराइड कैंसर का मुख्य उपचार हैं:

सर्जरी – Surgery

कुछ थायराइड कैंसर को छोड़कर (एनाप्लास्टिक थायराइड कैंसर), थायराइड कैंसर के लगभग हर मामले में सर्जरी ही इसका मुख्य उपचार है। सर्जरी में उन कोशिकाओं को हटा दिया जाता है जिनमें कैंसर होता है।

रेडियोधर्मी आयोडीन उपचार – Radioactive iodine Treatment

रेडियोधर्मी आयोडीन उपचार का उपयोग थायराइड कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए किया जाता है। इस थेरेपी में, थायराइड कोशिकाओं (थायराइड कैंसर कोशिकाओं सहित) को आयोडीन अवशोषित करने के लिए प्रेरित किया जाता है और कैंसर कोशिकाओं को मारा जाता है।

बाहरी रेडियोथेरेपी – External Radiotherapy

रेडियोथेरेपी का उपयोग कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए विकिरण का उपयोग किया जाता है।

कीमोथेरेपी – Chemotherapy

कीमोथेरेपी दवा द्वारा किया जाने वाला एक उपचार है जो शरीर में तेजी से बढ़ने वाली कोशिकाओं को मारने के लिए शक्तिशाली रसायनों का उपयोग करता है।

और पढ़ें – HDL Cholesterol क्या है? जानिए गुड कोलेस्ट्रॉल बढ़ाने के तरीके

थायराइड कैंसर से बचाव के उपाय क्या हैं? | Preventive Tips for thyroid cancer

अच्छी लाइफस्टाइल  अपनाकर थायराइड कैंसर से बचा जा सकता है। थायरॉइड कैंसर से बचने के लिए अच्छी जीवनशैली, अच्छा आहार और आपका फिट रहना बहुत जरूरी है। थायराइड कैंसर के बचाव के लिए आप निम्नलिखित उपायों को अपना सकते हैं-

  • विकिरण के अनावश्यक संपर्क से बचें, जिसमें चिकित्सा इमेजिंग प्रक्रियाओं से विकिरण शामिल है।
  • आयोडीन युक्त भोज्य पदार्थों का सेवन करें।
  • नियमित रूप से एक्सरसाइज या योग करें।
  • हेल्दी डाइट फॉलाे करें।
  • धूम्रपान और शराब से दूरी बनाकर रखें।
  • फास्ट फूड, जंक फूड से दूरी बनाकर रखें।
  • अनहेल्दी फूड्स ना खाएं।
  • कैफीन से दूरी बनाएं।

और पढ़ें – हाई कोलेस्ट्रॉल के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

थायराइड कैंसर का निदान कैसे किया जाता है? | How thyroid cancer is diagnosed

थायराइड कैंसर का निदान करने के लिए निम्नलिखित परीक्षणों का उपयोग किया जा सकता है:

शारीरिक जाँच – Physical examination

असामान्य वृद्धि या सूजन के लिए डॉक्टर गर्दन, थायरॉयड ग्रंथि, गले और लिम्फ नोड्स को महसूस करेंगे।

रक्त परीक्षण – Blood tests

कई प्रकार के रक्त परीक्षण हैं जो निदान (थायराइड कैंसर) के दौरान और उपचार के दौरान और बाद में रोगी की निगरानी के लिए किए जा सकते हैं।

इसमें ट्यूमर मार्कर टेस्ट नामक परीक्षण शामिल हैं। ट्यूमर मार्कर ऐसे पदार्थ होते हैं जो कैंसर से पीड़ित कुछ लोगों के रक्त, मूत्र या शरीर के ऊतकों में सामान्य से अधिक स्तर पर पाए जाते हैं। रक्त परीक्षण में शामिल हो सकते हैं

  • थायराइड हार्मोन का स्तर (Thyroid hormone levels)
  • थायराइड-उत्तेजक हार्मोन (TSH)।
  • टीजी और टीजीएबी (Tg and TgAb)
  • मेडुलरी टाइप विशिष्ट परीक्षण (Medullary type-specific tests)

अल्ट्रासाउंड –  Ultrasound

अल्ट्रासाउंड ध्वनि तरंगों का उपयोग करता है जो थायरॉयड ग्रंथि की छवियों को दिखाते हैं, विशेष रूप से किसी भी संदिग्ध नोड्यूल की जांच करने के लिए और साथ ही किसी भी स्थान पर जहां कैंसर फैल सकता है।

बायोप्सी – Biopsy

थायराइड कैंसर का वास्तविक निदान बायोप्सी से किया जाता है, जिसमें संदिग्ध क्षेत्र से कोशिकाओं को हटाकर लैब में देखा जाता है।

अन्य परीक्षण यह सुझाव दे सकते हैं कि कैंसर मौजूद है, लेकिन केवल बायोप्सी थायराइड कैंसर के प्रकार की पुष्टि करता है।

लैरींगोस्कोपी – Laryngoscopy

जिसमें गले में एक पतला फाइबर-ऑप्टिक उपकरण डालना शामिल है। इस प्रक्रिया में कैमरे की सहायता से थायरॉइड की जाँच की जाती है।

सीटी स्कैन  – Computed tomography (CT Scan)

सीटी स्कैन क्रॉस-सेक्शनल एक्स-रे छवियों का उपयोग करके थायराइड कैंसर के स्थान और आकार को निर्धारित करने में मदद कर सकता है।

एमआरआई स्कैन –  MRI San

MRI scan थायराइड की अत्यधिक विस्तृत छवियां प्रदान करता है।

पेट स्कैन – Positron emission tomography (PET) scan

थायराइड कैंसर  के फैले रूप को बताता है, साथ ही यह यह भी बताता है कि कैंसर शरीर के कितने हिस्सों में फैला है।

और पढ़ें – हार्ट अटैक (Myocardial infarction) के लक्षण,कारण और बचाव

निष्कर्ष | Conclusion

थायराइड कैंसर एक प्रकार का ऐसा कैंसर है जो थायरॉयड ग्रंथि के ऊतकों से विकसित होता है। यह एक ऐसी बीमारी है जिसमें कैंसर कोशिकाएं असामान्य रूप से बढ़ती हैं और शरीर के अन्य भागों तक फेल सकती हैं।

शुरुआत समय में थायराइड कैंसर के लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। हालांकि, रोग के बढ़ने पर इस रोग के कुछ लक्षण दिखाई दे सकते हैं। महिलाओं में थायराइड कैंसर के प्रमुख लक्षण गले की सूजन या गर्दन में गांठ का होना है।

जोखिम कारकों में कम उम्र में विकिरण का जोखिम होना, बढ़े हुए थायरॉयड और पारिवारिक इतिहास शामिल हैं।

उपचार के विकल्पों में सर्जरी, रेडियोधर्मी आयोडीन सहित विकिरण चिकित्सा और कीमोथेरेपी आदि शामिल हैं। हालांकि, सर्जरी थायराइड कैंसर का प्रमुख उपचार है।

थायराइड कैंसर का निदान शारीरिक जाँच, रक्त परीक्षण, सीटी स्कैन और एमआरआई स्कैन द्वारा किया जा सकता है।

थायराइड कैंसर के कई प्रकार हैं और अधिकांश प्रकार उपचार योग्य हैं। इसलिए थायराइड कैंसर के लक्षण दिखते ही डॉक्टर के अनुसार अपना इलाज शुरू करें।


ये हैं महिलाओं में थायराइड कैंसर के लक्षण, कारण और इलाज के बारे में जानकारी। कमेंट में बताएं आपको यह पोस्ट (Symptoms of thyroid cancer in Hindi) कैसी लगी। अगर आपको पोस्ट पसंद आई हो, तो इसे शेयर जरूर करें।

वेब पोस्ट गुरु ब्लॉग में आने और पोस्ट पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद।

Disclaimer : ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है। इस जानकारी का उपयोग किसी भी बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। इसके अलावा किसी भी चीज को अपनी डाइट में शामिल करने या हटाने से पहले किसी योग्य डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ (Dietitian) की सलाह जरूर लें। 

सन्दर्भ (References)

1. Beynon ME, Pinneri K. An Overview of the Thyroid Gland and Thyroid-Related Deaths for the Forensic Pathologist. Acad Forensic Pathol. 2016;6(2):217-236.

2. Lee K, Anastasopoulou C, Chandran C, et al. Thyroid Cancer. [Updated 2021 Jul 19]. In: StatPearls [Internet]. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2022 Jan-.

3. Shah JP. Thyroid carcinoma: epidemiology, histology, and diagnosis. Clin Adv Hematol Oncol. 2015;13(4 Suppl 4):3-6.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.