Soaked Raisins Benefits in Hindi

भीगी किशमिश खाने के फायदे और नुकसान | Soaked Raisins Benefits and Side Effects

किशमिश (Kishmish in Hindi) में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं जो सेहत के लिए काफी फायदेमंद होते हैं। अगर किशमिश को भिगोकर खाया जाए तो इसके लाभ (Soaked Raisins Benefits in Hindi) और भी बढ़ जाते हैं। भीगी हुई किशमिश खाने से इन पोषक तत्वों के बेहतर अवशोषण में मदद मिलती है जिससे स्वास्थ में अधिक सुधार होता है। भीगी किशमिश खाने के फायदे (Benefits Of Soaked Raisins) मधुमेह से लेकर कब्ज तक की बीमारियों में होता है। हालांकि, इनका अधिक सेवन स्वास्थ के लिए कभी-कभी हानिकारक (भीगी किशमिश खाने के नुकसान) भी हो सकता है।

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको भीगी किशमिश खाने के फायदे और नुकसान (Bhigi kishmish khane ke fayde or nuksan) के बारे में बता रहे हैं, और साथ ही आपको स्वस्थ रहने के लिए प्रति दिन कितनी भीगी किशमिश खानी चाहिए, वह भी बताया गया है।

तो आइये अब इस पोस्ट को शुरू करते हैं।

भीगी किशमिश खाने के फायदे | Bhigi Kishmish Ke Fayde | Soaked Raisins Benefits in Hindi

किशमिश उन लोगों के लिए भी काफी फायदेमंद है जिनकी एनर्जी लेवल काफी कम रहता है। यह शरीर को एनर्जी देने के साथ-साथ हड्डियों को भी मजबूत बनाने और कब्ज को दूर करने में भी मदद करती है।

किशमिश में न केवल आयरन बल्कि पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम और फाइबर जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होती हैं। किशमिश को रातभर पानी में भिगोकर सुबह खाली पेट खाने से इसके बहुत से फायदे मिलते हैं।

किशमिश भिगोने से इसका प्रभाव ठंडा हो जाता है, जो गर्मियों में शरीर को ठंडा बनाए रखने का काम करता है। भीगी हुई किशमिश खाने के क्या फायदे हैं चलिए अब इसे समझते हैं।

भीगी किशमिश खाने के फायदे निम्नलिखित हैं। 

एंटीऑक्सीडेंट का अच्छा स्रोत है। – Antioxidant rich Diet

किशमिश में पॉलीफेनोल्स (polyphenols) नामक एंटीऑक्सीडेंट होता है। ये एंटीऑक्सीडेंट कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाने में मदद करते हैं। मतलब ये कुछ प्रकार के कैंसर की रोकथाम में हमारी मदद कर सकते हैं। (1)

इसके अलावा किशमिश  में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण हृदय रोग, मधुमेह और शरीर कि अन्य समस्याओं से निजात दिलाने में भी मदद कर सकते हैं।

कई अध्ययनों से भी पता चलता है कि किशमिश में कई प्रकार के शक्तिशाली एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो जोड़ों के दर्द या किसी अन्य बीमारी के विकास को कम करने में मदद कर सकते हैं। (1)

और पढ़ें- खाली पेट गुड़ खाने के फायदे और नुकसान

विटामिन C का स्रोत है – Good Source of Vitamin C

किशमिश में मौजूद विटामिन सी, हड्डियों, मांसपेशियों, रक्त वाहिकाओं और दांतों के विकास के लिए अच्छा माना जाता है। (2)

यह विटामिन सी शरीर के आयरन अवशोषण में भी मदद करता है। इसके अलावा विटामिन सी, इम्युनिटी बनाने में भी मदद करता है, और साथ ही कोलेजन को मजबूत करने में मदद करता है, जो एक स्वस्थ ऊतक को बनाए रखने के लिए आवश्यक है। (3)

इसलिए किशमिश का रोजाना उपयोग स्वस्थ के लिए लाभदायक (भीगी किशमिश के बेनिफिट्स) हो सकता है।

और पढ़ें – आयरन की कमी को दूर करते हैं ऐसे आहार।

एनीमिया के इलाज में भीगी हुई किशमिश के लाभ – Soaked Raisins Benefits for anemia in Hindi

शरीर में खून की कमी एनीमिया कहलाती है। एनीमिया को रोकने में किशमिश कारगर साबित होती है। क्योंकि, इनमें अच्छी मात्रा में आयरन, तांबा और विटामिन बी (B-complex) होता है, जो लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने और पूरे शरीर में ऑक्सीजन ले जाने के लिए आवश्यक है। (3)

इसके अलावा किशमिश में मौजूद विटामिन सी आयरन अवशोषण में मदद करता है जिससे शरीर में खून की कमी नहीं होती है। इसलिए रोज सुबह खली पेट भीगी किशमिश खाने से खून की कमी को दूर किया जा सकता है।

 किशमिश भिगोकर खाने के फायदे ब्लड प्रेशर कम करने में – Use of Soaked Raisins Benefits for Blood pressure in Hindi

उच्च रक्तचाप, हृदय रोग और स्ट्रोक के जोखिम को बढ़ा सकता है।

किशमिश में मौजूद पोटेशियम और मैग्नीशियम उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में फायदेमंद होते हैं। इसलिए, अगर भीगी हुई किशमिश का सेवन सुबह खाली पेट किया जाए तो यह हाई ब्लड प्रेशर के खतरे को कम करने में मदद कर सकती है। (4)

और पढ़ें – HDL Cholesterol क्या है? जानिए गुड कोलेस्ट्रॉल बढ़ाने के तरीके

हृदय रोग में भीगी हुई किशमिश के फायदे – Raisins Benefits for Heart in Hindi

किशमिश में मौजूद फाइबर आपके एलडीएल (खराब) कोलेस्ट्रॉल को कम करने में आपकी मदद कर सकती है, जिससे आपके दिल पर दबाव कम पड़ता है।

किशमिश, उच्च रक्तचाप को कम करने में हमारी मदद कर सकती है, जिससे हृदय रोग का जोखिम कम बना रहता है।

किशमिश में मौजूद पोटैशियम हृदय स्वस्थ के लिए काफी फायदेमंद होता है। शरीर में पोटेशियम की कमी उच्च रक्तचाप, हृदय रोग और स्ट्रोक का कारण बन सकता है । (4)

इसके अलावा जो व्यक्ति सोडियम का अधिक सेवन करते हैं उनमें पोटेशियम की आवश्यकता बढ़ जाती है। इसलिए भीगी किशमिश खाना हृदय स्वास्थ के लिए फायदेमंद हो सकता है।

और पढ़ें – कच्चा प्याज खाने के फायदे और नुकसान

वजन बढ़ाने में भीगी हुई किशमिश के लाभ – Soaked raisins for weight gain in Hindi

अगर आप अपना वजन बढ़ाना चाहते हैं तो आपको ऐसे भोजन का सेवन करना चाहिए जिसमें कैलोरी की मात्रा अधिक हो।

किशमिश में फ्रुक्टोज और ग्लूकोज की अधिक मात्रा होने के कारण यह कैलोरी में अधिक होती है। इसलिए जो लोग नियमित रूप से  इसका सेवन करें तो वह अपना वजन आसानी से बढ़ा सकते हैं। 

किशमिश खराब कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाए बिना वजन बढ़ाने में आपकी मदद कर सकती है। इसलिए वजन बढ़ाने में किशमिश खाना आपके लिए फायदेमंद (भीगा हुआ किशमिश खाने के फायदे) हो सकता है।

और पढ़ें –  इन एंटीऑक्सीडेंट आहार से करें अपना वजन कम।

हड्डियों को मजबूत में भीगी किशमिश के फायदे – Raisins water benefits for bone in Hindi

किशमिश में कैल्शियम होता है जो हड्डियों की मजबूती के लिए आवश्यक है। इसके अलावा किशमिश में बोरॉन भी मौजूद होता है। (5)

बोरॉन में ऐसे गुण होते हैं जो स्वस्थ हड्डियों के निर्माण के लिए आवश्यक विटामिन और खनिजों को सक्रिय करके ऑस्टियोपोरोसिस के उपचार में मदद करता है। 

कई शोध अध्ययनों से पता भी चलता है, किशमिश खाने से, विशेष रूप से भीगी हुई किशमिश पोषक तत्वों के बेहतर अवशोषण और हड्डियों के घनत्व में सुधार करने में मदद करती है।

और पढ़ें – बच्चों में सूखा रोग | रिकेट्स के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

कब्ज और बवासीर में भीगी किशमिश खाने के फायदे – Soaked raisin helps in constipation and hemorrhoids in Hindi

किशमिश घुलनशील फाइबर का एक अच्छा स्रोत है, जो हमारे पाचन में सहायता करती है और पेट की अन्य समस्याओं को कम करती है। (6)

ये घुलनशील फाइबर पानी को अवशोषित करने और मल को आपस में जोड़ने में मदद करते हैं। जिससे मल के वजन और आकार दोनों में बढ़ोतरी होती है, और साथ ही ये मल को नरम भी करता है।

भारी और नरम मल आसानी से निकल जाता है, जिससे कब्ज और बवासीर की संभावना कम हो जाती है।

इसके अलावा किशमिश में टार्टरिक एसिड भी होता है। रिसर्च से पता चलता है कि टार्टरिक एसिड में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होता है, जो आंत की सूजन को कम करने में मदद करता है। साथ ही यह कोलोरेक्टल कैंसर के खतरे को कम करने का काम भी कर सकती है।

और पढ़ें – सूखे आलूबुखारा (सूखे पल्म) के फायदे और नुकसान 

किशमिश खाने के फायदे प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत करने में – Soaked kishmish for immunity in Hindi

किशमिश विटामिन बी और सी से भरपूर होती हैं। ये विटामिन हमारी प्रतिरक्षा को मजबूत करने में मदद करते हैं। (7)

इसके अलावा किशमिश के एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण और जीवाणुरोधी गुण भी होते हैं जो आपको संक्रमण से बचाते हैं और आपकी प्रतिरक्षा को मजबूत करते हैं।

और पढ़ें – इम्युनिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय।

दांतों को मजबूत करने में भीगी किशमिश खाने के फायदे – Benefits of eating soaked Kishmish to strengthen teethin Hindi

किशमिश कैल्शियम और बोरॉन का अच्छा स्रोत है जो दांतों को मजबूत बनाने में मदद करता है। (4)

इसके अलावा किशमिश में मौजूद ओलीनोलिक एसिड दांतों की सड़न को रोकने में मदद करता है। ये कीटाणुओं को दूर कर दांतों को साफ और स्वस्थ बनाए रखने में भी मदद करता है।

ओलीनोलिक एसिड कैविटी पैदा करने वाले बैक्टीरिया की भी रोकथाम में मदद करता है।

और पढ़ें – सुपरफूड क्या हैं, जानिए इसके स्वास्थ्यवर्धक फायदे।

भीगी किशमिश आखों को स्वस्थ रखती है – Soaked kishmish for healthy eyes in Hindi

किशमिश में आवश्यक एंटीऑक्सीडेंट और पॉलीफेनोल्स जैसे पोषक तत्व होते हैं, जो आंखों की कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचा सकते हैं। साथ ही ये पोषक तत्व दृष्टि में सुधार करने में मदद कर सकते हैं और आपको मजबूत दृष्टि दे सकते हैं।

किशमिश मोतियाबिंद जैसी उम्र से संबंधित आंखों की समस्याओं में भी कमी लाती है।

और पढ़ें – लो कैलोरी डाइट के फायदे, नुकसान और आहार योजना।

भीगी किशमिश खाने के नुकसान | Bhigi Kishmish Ke Nuksan | Side Effects of Soaked Raisins in Hindi

किशमिश खाने के फायदे हैं, तो अधिक सेवन के कुछ नकुसान (benefits and side effects of kishmish) भी होते हैं, जिसे आप  नीचे पढ़ सकते हैं।

किशमिश बढ़ा सकती है वजन – Side effects of Soaked Kishmish for weight gain in Hindi

जो लोग अपना वजन कम करना चाहते हैं उन्हें सबसे पहले किशमिश का सेवन बंद कर देना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें फ्रुक्टोज और ग्लूकोज की मात्रा अधिक होती है। जो आपका वजन बढ़ा सकती है।

इसलिए वेट लॉस करने वाले लोगों के लिए किशमिश का सेवन नुकसानदायक (Bhigi kismis khane ke nuksan) हो सकता है।

और पढ़ें- शरीफा (सीताफल) खाने के फायदे और नुकसान

किशमिश के नुकसान है गैस और सूजन – Disadvantages of Soaked raisins in Hindi

किशमिश में सोर्बिटोल होता है, ये एक प्रकार की चीनी है जो गैस और पेट की सूजन का कारण बन सकती है।

किशमिश के दुष्प्रभाव है दस्त – Drawback of Soaked raisins in Hindi

किशमिश में अघुलनशील फाइबर भी पाए जाते हैं, जिसका अधिक सेवन दस्त का कारण बन सकता है।

किशमिश के हानिकारक प्रभाव है कब्ज़ – Side effects of Soaked Kishmish in Hindi

जब भी आप अपने आहार में फाइबर की मात्रा बढ़ाते हैं, तो पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ पीना जरुरी हो जाता है।

यदि आप ऐसा नहीं करते हैं, तो आपको कब्ज हो सकती है। इसलिए किशमिश को अपने आहार में शामिल करते समय खूब पानी पीना सुनिश्चित करें।

किशमिश के नुकसान है एलर्जी – Soaked Raisins Side effects in Hindi

किशमिश में हिस्टामाइन की थोड़ी मात्रा मौजूद होती है, जिससे आपको एलर्जी हो सकती है। यदि आप किशमिश खाने से एलर्जी के लक्षणों को अनुभव करते हैं तो किशमिश खाना तुरंत बंद कर दें, और डॉक्टर से सलाह लें।

मधुमेह में भीगी किशमिश खाने के नुकसान – Side effects of eating soaked raisins in diabetes in Hindi

सूखे फलों में ताजे फलों के मुकाबले ज्यादा शुगर होती है जिस कारण सूखे फल मधुमेह में हानिकारक हो सकते हैं।

अगर किशमिश की बात करें तो किसमिस का ग्लाइसेमिक इंडेक्स 64 होता है। जिसकारण यह आपका ब्लड शुगर लेवल तेजी से बढ़ा सकती है। 

इसलिए मधुमेह में किशमिश का सेवन नुकसानदायक (Bhigi Kishmish ke nuksan) हो सकता है।

हालांकि, अन्य सूखे फलों जैसे खजूर और खुबानी का ग्लाइसेमिक इंडेक्स 55 से कम होता है। इसलिए मधुमेह में किशमिश के बजाए इन सूखे फलों का सेवन करना ज्यादा उचित है। लेकिन इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि सूखे फल (<30gm) जरुरत से ज्यादा ना खाएं।

और पढ़ें –  शुगर में कौन से फल खाएं और कौन से नहीं।

किशमिश के पोषक तत्व | Nutritional Value of Raisins

किशमिश ऊर्जा, विटामिन, खनिज और इलेक्ट्रोलाइट्स का एक समृद्ध स्रोत हैं। 100 ग्राम किशमिश में लगभग 249 कैलोरी ऊर्जा होती है और यह उन लोगों के लिए काफी फायदेमंद है, जिन्हें अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है। इसके अलावा किशमिश में विटामिन, मिनरल्स और फाइबर भी पाए जाते हैं।

100 gm किशमिश के निम्नलिखित पोषक तत्व पाए जाते हैं।

पोषक तत्व

(Essential Nutrients)

मात्रा  

(Raisins Nutritional Value Per 100g)

कैलोरी 258 cal
प्रोटीन 2.84 g
शुगर 56 g
फाइबर 3 g
फैट 0.22 g
विटामिन  C 2 mg
कैल्शियम 54 mg
आयरन 1.5 mg
सोडियम 22 mg
पोटैशियम 749 mg
मैग्नीशियम 30 mg

भीगी किशमिश खाने का सही तरीका और सही समय | Best time to eat soaked raisins in Hindi

भीगी किशमिश खाने का ठीक समय सुबह का है। आप रोजाना रात को 20 से 25 किशमिश (40-50 gm) पानी में भिगोकर रख दें और फिर सुबह खाली पेट खा लें। सुबह उठकर भीगी किशमिश खाने से पाचनतंत्र से जुड़ी सभी परेशानियों से आराम मिलता है।

इसके अलावा भीगी हुई किशमिश शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और ह्रदय स्वस्थ को भी दुरुस्त करती है। इसलिए रात को भीगी हुई किशमिश सुबह जरूर खानी चाहिए।

और पढ़ें –  Prediabetes क्या है? जानिए पूर्व मधुमेह के लक्षण, कारण और आयुर्वेदिक उपचार

किशमिश स्टोर करने का तरीका | How to Store raisins in Hindi

ड्राई  किशमिश को एक एयरटाइट कंटेनर में स्टोर करें। यदि आप किशमिश को सूखे और अंधेरी जगह में स्टोर करते हैं तो इसे आप कई महीनों तक स्टोर  कर सकते हैं।

रेफ्रिजरेटर (2-8°C) में स्टोर करने से इसकी ताजगी बानी रहती है, जिससे वे लगभग छह महीने तक स्टोर हो सकते हैं।

किशमिश बनाने की विधि – How to make kishmish from grapes

घर में किशमिश बनाने का तरीका निम्लिखित है-

  • किशमिश बनाने के लिएं अच्छी क्वालिटी के अंगूर लें। अंगूर को गुच्छे से अलग कर लें अगर कोई अंगूर खराब हो तो उसको निकाल दें।
  • एक पैन में दो गिलास पानी उबलने लें। फिर अंगूर को पांच मिनट उबालें या जैसे ही अंगूर ऊपर तैरने लगे तो इन्हें निकाल लें।
  • चार से पांच मिनट में अंगूर उबलकर ऊपर आ जाएँगे और आपको इनमें क्रेक भी दिखने लगेंगे।
  • अब अंगूर को छलनी में छान लें इन्हें थोड़ी देर के लिए पंखे में रख दें।
  • जब अंगूर का सारा पानी सूख जाएँ तो उन्हें सूती कपडे में धूप के नीचे फैला दें। ध्यान  रखें  इन्हें किसी प्लेट या बर्तन में ना सुखाएं नहीं तो आपकी किशमिश खराब भी हो सकती है।
  • सुखाते समय अंगूर में हवा लगनी जरुरी है।
  • किशमिश बनने में 2-3 दिन का समय लगता है। मई-जून के महीने में दो दिन की धूप ही काफी है। लेकिन और किसी मौसम में तीन से चार दिन तक का समय लग सकता है।
  • शाम को अंगूर को पंखे में नीचे रख दें तीन से चार दिन में आपकी किशमिश बनकर तैयार हो जाएगी।

निष्कर्ष | Conclusion

किशमिश विटामिन, खनिज, फाइबर और एंटीऑक्सिडेंट का एक उत्कृष्ट स्रोत है।

इसके अतिरिक्त, ये सेहत के लिए काफी लाभदायक मानी जाती है जो कई प्रकार की पुरानी बीमारियों के जोखिम को कम करने में मदद कर सकती है, जैसे कब्ज, हृदय रोग और मधुमेह।

हालांकि, किशमिश का अधिक सेवन स्वस्थ के लिए हानिकारकभी हो सकता है। जिसमें वजन बढ़ना, गैस और पेट की सूजन आदि हैं।

और पढ़ें –  फूड पाइजनिंग के लक्षण, कारण और घरेलू इलाज


ये है भीगी किशमिश खाने के फायदे और नुकसान के बारे में जानकारी। कमेंट में बताएं आपको यह पोस्ट (Benefits and side effects of soaked Kishmish in Hindi) कैसी लगी। अगर आपको पोस्ट पसंद आई हो, तो इसे शेयर जरूर करें।

वेब पोस्ट गुरु ब्लॉग में आने और पोस्ट पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद।

Disclaimer : ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है। इस जानकारी का उपयोग किसी भी बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। इसके अलावा किसी भी चीज को अपनी डाइट में शामिल करने या हटाने से पहले किसी योग्य डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ (Dietitian) की सलाह जरूर लें। 

सन्दर्भ (References)

  • Parker TL, Wang XH, Pazmiño J, Engeseth NJ. Antioxidant capacity and phenolic content of grapes, sun-dried raisins, and golden raisins and their effect on ex vivo serum antioxidant capacity. J Agric Food Chem. 2007 Oct 17;55(21):8472-7.
  • Fulgoni VL 3rd, Painter J, Carughi A. Association of raisin consumption with nutrient intake, diet quality, and health risk factors in US adults: National Health and Nutrition Examination Survey 2001-2012. Food Nutr Res. 2017;61(1):1378567. Published 2017 Sep 24.
  • Turner J, Parsi M, Badireddy M. Anemia. [Updated 2022 Jan 9]. In: StatPearls [Internet]. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2022 Jan-.
  • Olmo-Cunillera A, Escobar-Avello D, Pérez AJ, Marhuenda-Muñoz M, Lamuela-Raventós RM, Vallverdú-Queralt A. Is Eating Raisins Healthy?. Nutrients. 2019;12(1):54. Published 2019 Dec 24.
  • Price CT, Langford JR, Liporace FA. Essential Nutrients for Bone Health and a Review of their Availability in the Average North American Diet. Open Orthop J. 2012;6:143-149.
  • Fulgoni VL 3rd, Painter J, Carughi A. Association of raisin consumption with nutrient intake, diet quality, and health risk factors in US adults: National Health and Nutrition Examination Survey 2001-2012. Food Nutr Res. 2017 Sep 24;61(1):1378567.
  • Nieman DC, Wentz LM. The compelling link between physical activity and the body’s defense system. J Sport Health Sci. 2019;8(3):201-217.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.