गुर्दे की बीमारी का इलाज

Home Remedies for Kidney Disease | किडनी बचाव के 11 घरेलू उपाय

Home Remedies for Kidney Disease in Hindi: किडनी की बीमारी एक ऐसी स्थति है जिसमें गुर्दे क्षतिग्रस्त होने लगते हैं और उनकी कार्यक्षमता धीरे-धीरे कम होने लगती है। किडनी की कार्यक्षमता कम होने से किडनी रक्त में से अपशिष्ट पदार्थों (जैसे यूरिया और अमोनियम) को उतने अच्छे से फ़िल्टर नहीं कर पते हैं। रक्त में अपशिष्ट पदार्थों के होने से कई स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएं होने लगती हैं।

आज किडनी बचाव के कई तरीके उपलब्ध हैं। आप घरेलू उपायों द्वारा भी किडनी की बीमारी से बच सकते हैं। इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको किडनी बचाव के 11 घरेलू उपायों के बारे में बता रहे हैं।

Contents hide
1 किडनी बचाव के घरेलू उपाय | Home Remedies for Kidney Disease in Hindi

किडनी बचाव के घरेलू उपाय | Home Remedies for Kidney Disease in Hindi

ध्यान रहे, किडनी की बीमारी का घरेलू इलाज (Kidney treatment Home Remedies) शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर बात कर लें। डॉक्टर की सहमति के बाद ही यहां बताए गए उपचारों को अपनाएं     

किडनी बचाव के 11 घरेलू उपाय में शामिल हैं-

1. किडनी को हेल्दी रखने का घरेलू उपाय, खूब पानी पिएं – Home Remedies for Kidney Disease in Hindi

Kidney problem home remedies in Hindi
किडनी को हेल्दी रखने का घरेलू उपाय

किडनी की समस्या में खूब पानी पीना सबसे कारगर घरेलू उपचारों में से एक है। पानी हानिकारक बैक्टीरिया को शरीर से बहार निकालने में मदद करता है। 

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डायबिटीज एंड डाइजेस्टिव एंड किडनी डिजीज के अनुसार, किडनी को स्वस्थ बनाए रखने के लिए रोजाना कम से कम आठ गिलास पीने का लक्ष्य रखें (किडनी समस्या के घरेलू उपचार)। 

कई अध्ययनों से पता चलता है कि शरीर में पानी की कमी से यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (यूटीआई) होने का खतरा बढ़ता है, साथ ही पानी मूत्र में उन पदार्थों को पतला कर देते हैं जो पथरी बनाने में मदद करते हैंहालांकि, ऐसे व्यक्ति जिनके गुर्दे कार्य नहीं कर रहे होते हैं, उन्हें डॉक्टर तरल पदार्थ कम पीने की सलाह देते हैं। इसलिए डॉक्टर की देख रेख में ही पानी की मात्रा को बढ़ाएं।

और पढ़ें – किडनी स्टोन में लो ऑक्सलेट डाइट के फायदे

2. किडनी बचाव के घरेलू उपाय, क्रैनबेरी जूस पिएं – Kidney disease treatment in Hindi

किडनी बचाव के घरेलू उपाय
किडनी बचाव के घरेलू उपाय

क्रैनबेरी जूस का उपयोग यूटीआई या मूत्राशय के संक्रमण के इलाज के लिए किया जा सकता है।

एक अध्ययन के अनुसार क्रैनबेरी जूस पीने से यूटीआई (यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन) के संक्रमण को कुछ हद तक कम किया जा सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि क्रैनबेरी जूस यूटीआई में मौजूद बैक्टीरिया खासकर ई. कोलाई के संक्रमण को रोक सकता है। इसके अलावा क्रैनबेरी, मूत्र पथ में अल्सर के विकास को रोकने में भी मदद कर सकता है।

इसलिए क्रैनबेरी जूस का सेवन किडनी बचाव के लिए उपयोगी हो सकता है।

3. किडनी को स्वस्थ रखने के उपाय, शराब की मात्रा को नियंत्रित रखेंKidney problem home remedies in Hindi 

किडनी समस्या के घरेलू उपचार
किडनी समस्या के घरेलू उपचार

शराब में इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं जो शरीर की सूजन (Inflammation) को बढ़ा सकते हैं। अत्यधिक मात्रा में शराब पीने से रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल दोनों के बढ़ने का खतरा रहता है।

उच्च रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल किडनी की बीमारी के उच्च जोखिम से जुड़ा हुआ है। इसलिए किडनी बचाव के लिए अल्कोहल की मात्रा को सिमित रखें।

4. किडनी के घरेलू उपचार, कैफीन की मात्रा को सीमित रखें – Limit caffeine for kidney disease in Hindi

किडनी के घरेलू उपचार
किडनी के घरेलू उपचार

कैफीन दुनिया की सबसे अधिक सेवन की जाने वाली साइकोएक्टिव दवा है, जो शरीर और मस्तिष्क को उत्तेजक करने में मदद करती है।

कैफीन को लोग अक्सर कॉफी के रूप में पीते हैं। इसके आलावा कैफीन मुख्य रूप से चाय, कोला, सोडाएनर्जी ड्रिंक, चॉकलेट और अन्य खाद्य पदार्थों में भी मिलता है।

हालांकि, कैफीन रक्त के प्रवाह में वृद्धि करने, रक्तचाप को बढ़ाने और गुर्दे पर अतरिक्त तनाव पैदा करने आदि में भी सहयोग करती है, साथ ही कैफीन किडनी संक्रमण से ठीक होने की प्रक्रिया में भी बाधा उत्पन्न कर सकती है। 

इसलिए किडनी के बचाव के लिए कैफीन की मात्रा सिमित करनी चाहिए।

और पढ़ें – किडनी सिस्ट क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज

5. किडनी को स्ट्रांग करने का घरेलू उपाय, अनार का रस पियें – Pomegranate juice for kidney treatment in Hindi

किडनी में दर्द का घरेलू उपाय
किडनी में दर्द का घरेलू उपाय

अनार में फाइबर, विटामिन B, विटामिन C, विटामिन K और पोटेशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है साथ ही अनार एंटीऑक्सिडेंट से भी भरपूर होता है, जो किडनी को स्वस्थ रखने में मदद करता है।

अनार में मौजूद पोटेशियम गुर्दे की पथरी के विकास को रोकता है। यह मूत्र के अम्लता स्तर को भी कम करता है जिससे भविष्य में गुर्दे की पथरी का खतरा कम हो जाता है। इसलिए किडनी की बीमारी के घरेलू इलाज में अनार के रस को शामिल करें।

6. किडनी को मजबूत करने के उपाय, तुलसी का रस पियें – Tulsi Juice for Home Remedies for Kidney in Hindi

किडनी में दर्द का घरेलू उपाय
किडनी में दर्द का घरेलू उपाय

तुलसी में मौजूद एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-माइक्रोबियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी जैसे औषधीय गुण, किडनी इन्फेक्शन को दूर करने के लिए लाभकारी है। इसके अलावा तुलसी, किडनी में होने वाली पथरी को दूर करने के लिए भी कारगर साबित होती है।

तुलसी के पत्तों को पानी में उबालकर पीने से या एक चम्मच तुलसी के पाउडर को शहद के साथ मिलाकर पीने से गुर्दे की पथरी से छुटकारा मिलता है। इसके साथ ही तुलसी गुर्दे में द्रव, खनिज और यूरिक एसिड के संतुलन को बनाए रखने में भी मदद करती है। जो क्रोनिक किडनी डिजीज के उपचार में फायदेमंद हो सकता है।

7. किडनी को बचाने के उपाय, सेब का सिरका लें – Apple cider vinegar for kidney treatment in Hindi

किडनी में दर्द का घरेलू उपाय
किडनी में दर्द का घरेलू उपाय

सिरका, यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (यूटीआई) के इलाज (किडनी की बीमारी के बचाव के उपाय) के लिए सबसे अच्छा घरेलू उपचार है।

सेब का सिरका एंटीबैक्टीरियल गुणों से भरपूर होता है। रोज सुबह खाली पेट इसे थोड़े से गर्म पानी के साथ पीने से यह यूटीआई से संबंधित बैक्टीरिया को मारने में मदद करता है। 

इसके अलावा सेब के सिरके में एसिटिक एसिड होता है जो किडनी में मौजूद स्टोन को घुलाने और उसे शरीर से  बहार फेकने में मदद करता है 

और पढ़ें – कब्ज में क्या खाएं और क्या ना खाएं

8. किडनी को साफ करने के घरेलू उपाय, खजूर खाएं – Dates for kidney disease treatment in Hindi

किडनी दर्द का घरेलू उपाय
किडनी दर्द का घरेलू उपाय

खजूर में मैंगनीज, तांबा, मैग्नीशियम और अन्य आवश्यक पोषक तत्व होते हैं साथ ही खजूर में उच्च मात्रा में फाइबर भी होते हैं जो किडनी स्टोन के खतरे को कम करने में मदद कर सकते हैं।

खजूर में मौजूद मैग्नीशियम किडनी को साफ करने में मदद करता है।

खजूर गुर्दे से अनावश्यक तरल पदार्थ और पथरी को बाहर निकालता है। खजूर को रात भर पानी में भिगो दें और अगले दिन उसका सेवन करें तो यह किडनी स्टोन  से राहत दिला सकता है (गुर्दे की बीमारी का इलाज)।

9. किडनी रोग का घरेलू इलाज, नींबू का रस लें – Lemon Juice for kidney disease treatment in Hindi

किडनी समस्या के घरेलू उपचार
किडनी समस्या के घरेलू उपचार

नींबू में मौजूद विटामिन C (Treatment of kidney failure in Hindi) एक ताकतवर एंटीऑक्सिडेंट की तरह कार्य करता है जो ऊतकों को ऑक्सीडेटिव तनाव से बचाता है।

पुराने शोध दर्शातें है कि नियमित रूप से विटामिन सी के सेवन से यह किडनी में होने वाले रोग से लड़ने में मदद कर सकता है, साथ ही विटामिन सी, गुर्दे के भीतर ऐसे एंजाइम को निकालने में मदद करता है, जो किडनी को बाहरी आधात से बचता सकता है। 

यही कारण है कि डॉक्टर किडनी रोगियों को विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थों को खाने की सलाह देते हैं। इसके लिए नींबू पानी या संतरे का रस जैसे साइट्रेट पेय पदार्थों को शामिल करना सबसे अच्छा विकल्प है। क्योंकि ऐसे पदार्थ किडनी में स्टोन (किडनी रोग का घरेलू इलाज) को बनाने से रोकते हैं और किडनी इन्फेक्शन से बचाते हैं।

और पढ़ें – Acid reflux (हाइपर एसिडिटी) और खट्टी डकार से छुटकारा पाने का घरेलू इलाज

10. किडनी की सफाई के घरेलू उपाय, अजवाइन का रस पियें  – Celery juice for kidney disease treatment in Hindi

किडनी की सफाई के घरेलू उपाय
किडनी की सफाई के घरेलू उपाय

अजवाइन का रस (Kidney problem home remedies in Hindi), गुर्दे की पथरी से लड़ने और गुर्दे में दर्द से राहत दिलाने के लिए जाना जाता है।

अजवाइन (Celery) अनेक पोषक तत्वों से भरपूर होता है। जिसमें सोडियम, मैग्नीशियम, लोहा, जस्ता, पोटेशियम, तांबा आदि खनिज प्रमुख हैं।

इसके अलावा अजवाइन में विभिन्न प्रकार विटामिन जैसे- विटामिन सी, विटामिन ए, विटामिन ई, विटामिन बी, विटामिन के, विटामिन बी12, विटामिन बी6 आदि से होते हैं साथ ही अजवाइन में एंटीऑक्सिडेंट गुण भी होता है, जो गुर्दे के स्वास्थ्य में सुधार करने और गुर्दे से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालें में मदद करता है।

इसलिए किडनी की बीमारी के बचाव के लिए अजवाइन का रस अपनी डाइट में शामिल करें।

11. किडनी ठीक करने के घरेलू उपाय, हर्बल चाय पियें – Herbal Tea for kidney disease treatment in Hindi

किडनी इन्फेक्शन के घरेलू उपाय
किडनी इन्फेक्शन के घरेलू उपाय

हर्बल टी में कैफीन की मात्रा ना के बराबर होने से यह हमारे स्वास्थ के लिए बेहद ही स्वास्थ्वर्थक होती है।

हर्बल चाय सूखे फलो, फूल, मसाले, पत्तियों, तने की छाल या जड़ी-बूटियों से बनाई जाती है, जिसमें विटामिन C, विटामिन E, विटामिन B6, पोटेशियम, मैंगनीज, जैसे विटामिन और खनिजों होते हैं, साथ ही इसमें पाए जाने वाले बायोएक्टिव यौगिक में एंटीऑक्सिडेंट, एंटीमाइक्रोबॉयल, एंटीइंफ्लेमेटरी, और एंटीबैक्टीरियल जैसे गुण होते हैं जो हमें विभिन्न बिमारियों से बचाती हैं, जिसमें विशेष रूप से उच्च रक्तचाप, ह्रदय रोग, डायबिटीज, स्ट्रोक, सूजन आदि शामिल हैं। ये सभी ऐसे रोग हैं जो किडनी की बीमारी से सम्बन्ध रखते हैं। 

हर्बल चाय में मौजूद एंटीबैक्टीरियल और एंटीइंफ्लेमेटरी गुण, बैक्टीरिया को मारने व सूजन को कम करने के लिए कारगर साबित होता है, जो यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (यूटीआई) के इलाज के लिए फायदेमंद हो सकता है।

इसलिए हर्बल टी का सेवन किडनी बचाव के लिए कारगर उपाय हो सकता है। किडनी रोगियों के लिए हर्बल चाय में, तुलसी की चाय, सौंफ की चाय और गुड़हल की चाय विशेष रूप से उपयोगी होती है।

और पढ़ें – हर्बल चाय के 8 स्वास्थ्यवर्धक फायदे और नुकसान

गुर्दे की बीमारी के लक्षण | Symptoms of kidney failure in Hindi

Kidney disease treatment in Hindi,गुर्दे की बीमारी का इलाज

किडनी की समस्या, क्रोनिक किडनी डिजीज (CKD) या किडनी इन्फेक्शन का शुरुआती लक्षण हो सकता है। इसके आलावा किडनी स्टोन (Kidney Stone) या यूरिनरी ट्रैक्ट में इन्फेक्शन भी किडनी की समस्या का शुरुआती लक्षण हैं। इसके अलावा- 

  • कमर की दोनों तरफ दर्द होना,
  • खून की कमी 
  • अधिक थकान महसूस होना 
  • मतली या उल्टी होना,
  • भूख कम लगना,
  • मांसपेशियों में ऐंठन होना, 
  • सांस की तकलीफ
  • यूरिन में खून आना 
  • उच्च रक्तचाप होना
  • सिरदर्द ।

आदि  भी गुर्दे की बीमारी के लक्षण होते हैं।

और पढ़ें – गुर्दे की विफलता के 10 लक्षण और कारण


ये हैं किडनी बचाव के 11 घरेलू उपाय। कमेंट में बताएं आपको यह पोस्ट कैसी लगी। अगर यह पोस्ट पसंद आई हो तो इस पोस्ट को शेयर जरूर करें।

ध्यान दें – इस पोस्ट में दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है। इस जानकारी का उपयोग किसी भी बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए, साथ ही किसी भी चीज को अपनी डाइट में शामिल करने या हटाने से पहले किसी योग्य डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।  

 

सन्दर्भ (References)

  • Chen DQ, Hu HH, Wang YN, Feng YL, Cao G, Zhao YY. Natural products for the prevention and treatment of kidney disease. Phytomedicine. 2018 Nov 15;50:50-60. https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/30466992/
  • Peng A, Gu Y, Lin SY. Herbal treatment for renal diseases. Ann Acad Med Singap. 2005 Jan;34(1):44-51. https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/15726219/
  • Wojcikowski K, Johnson DW, Gobe G. Herbs or natural substances as complementary therapies for chronic kidney disease: ideas for future studies. J Lab Clin Med. 2006 Apr;147(4):160-6.
  • Al-Abri SA, et al. (2013). Baking soda misuse as a home remedy: Case experience of the California poison control system.
  • Kedziora-Kornatowska K, Szram S, Kornatowski T, Szadujkis-Szadurski L, Kedziora J, Bartosz G. Effect of vitamin E and vitamin C supplementation on antioxidative state and renal glomerular basement membrane thickness in diabetic kidney. Nephron Exp Nephrol. 2003;95(4):e134-43.
  • Kreydiyyeh SI, Usta J. Diuretic effect and mechanism of action of parsley. J Ethnopharmacol. 2002 Mar;79(3):353-7. doi: 10.1016/s0378-8741(01)00408-1. PMID: 11849841.
  • R. Raz, B. Chazan, M. Dan, Cranberry Juice and Urinary Tract Infection, Clinical Infectious Diseases, Volume 38, Issue 10, 15 May 2004, Pages 1413–1419
  • Andre CM, Greenwood JM, Walker EG, Rassam M, Sullivan M, Evers D, Perry NB, Laing WA. Anti-inflammatory procyanidins and triterpenes in 109 apple varieties. J Agric Food Chem. 2012 Oct 24;60(42):10546-54.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.