Second Trimester Baby Growth in Hindi

Fetal Development : दूसरी तिमाही में शिशु (भ्रूण) का विकास सप्ताह अनुसार

Fetal Development in Hindi : इस पोस्ट के माध्यम से हमने गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में शिशु (भ्रूण) के विकास के बारे में सप्ताह अनुसार बताया है। जिसमें आप यह जान सकेंगी कि दूसरी तिमाही के दौरान शिशु का विकास और वृद्धि कैसे होती है और आप में क्या-क्या शारीरिक परिवर्तन (बदलाव) आते हैं।

और पढ़ें –  प्रसवोत्तर अवसाद क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण और उपचार।

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में शिशु (भ्रूण) का विकास | Fetal Development In Hindi

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही, गर्भावस्था का मध्य चरण कहलाता है। गर्भावस्था की दूसरी तिमाही, सप्ताह 13 से लेकर सप्ताह 26 (या प्रेग्‍नेंसी का चौथा, पांचवा और छठा महीना) तक का समय होता है।

अधिकांश महिलाओं की दूसरी तिमाही गर्भावस्था का सबसे सुखद और आरामदायक चरण होता है। क्योंकि इस सप्ताह से मॉर्निंग सिकनेस और थकान जैसी समस्याएं कम हो जाती हैं और जिससे अब आप भोज्य पदार्थों का आनंद ले पाती हैं। 

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही से HCG हार्मोन के स्तर में कमी आ जाती है और एस्ट्रोजेन हार्मोन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन का स्तर लगातार बढ़ने लगता है। जो गर्भाशय और प्लेसेंटा के विकास के लिए महत्वपूर्ण होता है। 

प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही (Pregnancy week by week in Hindi) में शिशु और भी विकसित हो रहा होता है जिसे गर्भवती महिला पहली बार अपने गर्भ में महसूस करती हैं।

गर्भवती का पेट दूसरी तिमाही से दिखना शुरू हो जाता है। दूसरी तिमाही के अंत तक शिशु के सभी प्रमुख अंग और मांसपेशियां बन के तैयार हो जाते हैं जो सप्ताह दर सप्ताह अपने आपको और भी परिपक्व करते जाते हैं।

चलिए अब गर्भावस्था की दूसरी तिमाही के दौरान शिशु में होने वाले विकास और वृद्धि के बारे में सप्ताह के अनुसार समझाते हैं।  

और पढ़ें- प्रेगनेंसी के बाद डिप्रेशन : जानिए लक्षण, कारण, इलाज और बचाव 

प्रेगनेंसी के चौथे महीने में शिशु का विकास | 4th month fetal development in Hindi

प्रेगनेंसी का चौथा महीना, 13वें सप्ताह से लेकर 16वें सप्ताह तक का समय होता है।  

प्रेगनेंसी के 13 वें सप्ताह में शिशु का विकास – 13 week fetal growth in Hindi

13 week pregnancy in Hindi,गर्भावस्था की दूसरी तिमाही शिशु का विकास,Second Trimester Fetal Development
13 वें सप्ताह में शिशु की वृद्धि और विकास
  • प्रेगनेंसी के 13वें सप्ताह से (13 week pregnancy), शिशु के दिमाग का वह हिस्सा विकसित होता है, जो समस्या सुलझाने और याददाश्त रखने के लिए जिम्मेदार है।
  • 13वें सप्ताह (Forth month baby growth in Hindi) तक शिशु के शरीर में सभी महत्वपूर्ण संरचनाएं विकसित हो गई होती हैं, जिसमें यकृत (liver) पित्त (bile juice) को, पैंक्रियास (pancreas) इंसुलिन (insulin) को और साथ ही गुर्दे (kidney) मूत्र (urine) का निर्माण करने लगें हैं।
  • प्रेगनेंसी के 13वें सप्ताह (प्रेग्‍नेंसी का चौथा महीना) से शिशु की उंगलियों में छाप (फिंगरप्रिंट) बनने शुरू हो जाते हैं। हालांकि, ये 17 सप्ताह के बाद ही पूरी तरह विकसित होंगी।
  • 13वें सप्ताह से आपका शिशु एमनियोटिक द्रव निगलना शुरु कर रहा है। जिसमें अधिकांश भाग पानी होता है।
  • हालांकि इसमें प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स, ग्लूकोज़ और इलैक्ट्रोलाइट्स जैसे पोषक तत्व भी मौजूद होते हैं जिन्हें शिशु अवशोषित करता रहता है।

प्रेगनेंसी के 14 वें सप्ताह में शिशु का विकास – 14 week fetal growth in Hindi

14 week pregnancy in Hindi
14 वें सप्ताह में शिशु की वृद्धि और विकास
  • प्रेगनेंसी के 14वें सप्ताह (14 week pregnancy) के अंत तक शिशु के यौन अंग पूरी तरह बन जाते हैं जो अब अल्‍ट्रासाउंट में डॉक्टर देखे सकते हैं साथ ही शिशु के टेस्टिस या ओवरी भी बनना शुरू हो जाती हैं।
  • इस सप्ताह (दूसरी तिमाही) शिशु (भ्रूण) के विकास के दौरान वह मुँह बनाना, आँखे घुमाना और भौहें सिकोड़ना जैसी हरकतें सीख रहा होता है।
  • शिशु के सिर और शरीर पर बारीक बाल अब बनने शुरु हो जाते हैं। तंत्रिका तंत्र (Nervous system) के और विकसित होने के साथ ही आपका शिशु अब अपनी बाजुओं और टांगों को अधिक तालमेल के साथ हिला-डुला सकता है।
  • 14वें सप्ताह (Pregnancy week by week in Hindi) के अंत तक वोकल कॉर्ड (Vocal Cord) विकसित होने लगता है। जो आगे चल के शिशु को आवाज प्रदान करेंगे।

प्रेगनेंसी के 15 वें सप्ताह में शिशु का विकास – 15 week fetal growth in Hindi

15 week pregnancy in Hindi
15 वें सप्ताह में शिशु की वृद्धि और विकास
  • प्रेगनेंसी के 15वें सप्ताह (15 week pregnancy) से शिशु का शरीर बारीक बालों से ढकने लगता है जो लैनुगो (Lanugo) कहलाते हैं।
  • हालांकि शिशु के जन्म से करीब चार सप्ताह पहले ये झड़ना शुरु हो जाते हैं, पर कभी कभी कुछ बाल शिशु के शरीर में रह जाते हैं जो जन्म के समय दिखाई देते हैं।
  • 15वें सप्ताह (Forth month baby growth in Hindi) से शिशु की आंखें अपने सही स्थान पर आने लगती हैं,
  • शिशु के पैर उसके हाथों की तुलना में अधिक लंबे होने लगते हैं।
  • 15वें सप्ताह (प्रेग्‍नेंसी का चौथा महीना) में शिशु (भ्रूण) के विकास के दौरान उसकी कान की हड्डियां सख्त हो रही होती हैं।
  • 15वें सप्ताह (दूसरी तिमाही) के अंत से शिशु C जैसा मुड़ा हुआ नहीं दिखता है, क्योंकि उसके पैर बढ़ने लगते हैं और शिशु का शरीर धीरे-धीरे एक सही अनुपात में आने लगता है।

प्रेगनेंसी के 16 वें सप्ताह में शिशु का विकास – 16 week fetal development in Hindi

16 week pregnancy in Hindi
16 वें सप्ताह में शिशु की वृद्धि और विकास
  • प्रेगनेंसी के 16वें सप्ताह (16 week pregnancy) से शिशु की त्वचा के नीचे वसा का निर्माण होने लगता है, जो त्वचा को सुरक्षा प्रदान करता है।
  • वसा के एकत्रित होने से जल्द ही उसकी पारदर्शी त्वचा धीरे धीरे अपना सामान्य रूप ले लेंगी।
  • 16वें सप्ताह (गर्भावस्था की दूसरी तिमाही) से शिशु अब जम्हाई लेना सीख रहा होता है।
  • 16वें सप्ताह से शिशु की अंगूठा चूसने की आदत अब शुरू होने लगती है।
  • प्रेगनेंसी के 16वें सप्ताह के अंत तक आपका शिशु करीब 11.6 सेंमी (4.6 इंच) हो गया है, जो लगभग एक नाशपाती (Pear) के जितना लंबा होता। उसका वजन करीब 100 ग्राम तक होता है।

प्रेगनेंसी के पांचवे महीने में शिशु का विकास | 5th month fetal development in Hindi

प्रेगनेंसी का पांचवा महीना, 17वें सप्ताह से लेकर 21वें सप्ताह तक का समय होता है।  

प्रेगनेंसी के 17वें सप्ताह में शिशु का विकास – 17 week fetal development in Hindi

17 week pregnancy in Hindi
17 वें सप्ताह में शिशु की वृद्धि और विकास
  • प्रेगनेंसी के 17वें सप्ताह (17 week pregnancy) से शिशु की पलकें और भौहें बढ़नी शुरू हो जाती है और साथ ही प्लेसेंटा और भी मजबूत और मोटी हो रही है।
  • 17वें सप्ताह (Fifth month of pregnancy in Hindi) में शिशु (भ्रूण) के विकास के दौरान शिशु अपने मुँह को खोल और बंद करना सीख रहा होता है।
  • शिशु  की स्वाद कलियाँ (taste buds) काम करने लगती हैं, और शिशु  मीठे और कड़वे में अंतर महसूस कर सकता है।
  • 17वें सप्ताह (प्रेग्‍नेंसी का पांचवा महीना) से शिशु हिचकी और उबासी लेना सीखता है।
  • गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में एक अल्ट्रासाउंड किया जाता है जो 17-20 सप्ताह के बीच में किया जा सकता है।
  • इस अल्ट्रासाउंड में शिशु के विकसित हो चुकी हाथ-पैर की उंगलियों, आंखें, आदि को देखा जाता है। साथ ही भ्रूण में अगर कोई समस्या है, तो उसे भी जाँचा जाता है।

प्रेगनेंसी के 18वें सप्ताह में शिशु का विकास – 18 week fetal development in Hindi

18 week pregnancy in Hindi,fetal development in hindi
18 वें सप्ताह में शिशु की वृद्धि और विकास
  • प्रेगनेंसी के 18वें सप्ताह (Pregnancy week by week in Hindi) तक शिशु का तंत्रिका तंत्र विकसित हो जाता है और साथ ही माइलिन (Myelin) की परत तंत्रिका तंत्र को ढकने लगती है जो तंत्रिका तंत्र से सिग्नल ले जाने में मदद करती है।
  • कान पूरी तरह विकसित हो जाते हैं और अब शिशु बाहरी आवाजों को सुन सकता है।
  • 18वें सप्ताह (प्रेग्‍नेंसी का पांचवा महीना) में शिशु (भ्रूण) के विकास के दौरान शिशु की हड्डियां और भी सख्त हो रही होती है जो शिशु को अच्छे से हिलने डुलने में मदद करेगी।
  • प्रेगनेंसी के 18वें सप्ताह (5th month of pregnancy in Hindi) से ही शिशु का पाचन तंत्र काम करना शुरू करने लगता है। और जल्द ही वह अपना प्रथम मल बाहर एमनियोटिक द्रव में त्यागेगा।

और पढ़ें –  प्रेग्नेंसी के 8 आवश्यक पोषक तत्व और उनसे जुड़ी सावधानियां।

प्रेगनेंसी के 19वें सप्ताह में शिशु का विकास – 19 week fetal growth in Hindi

19 week pregnancy in Hindi
19 वें सप्ताह में शिशु की वृद्धि और विकास
  • प्रेगनेंसी के 19वें सप्ताह (दूसरी तिमाही) से शिशु की त्वचा सफ़ेद मोम जैसी सुरक्षात्मक लेयर से ढकने लगती हैं जिसे वर्निक्स कहा जाता है।
  • अधिकांश महिलाएं 18 और 20 सप्ताह (पांचवा महीना) की गर्भावस्था के बीच शिशु के हिलने-डुलने की गतिविधियां महसूस करने लगती हैं।
  • 19वें सप्ताह (गर्भावस्था की दूसरी तिमाही) से हड्डियां और मांसपेशियां और भी कठोर और मजबूत होने लगती हैं, जिससे शिशु और भी अधिक सक्रिय होने लगता है। जिससे आप उसकी  गतिविधियों को अधिक बार महसूस करने लगती हैं।
  • 19वें सप्ताह (प्रेग्‍नेंसी का पांचवा महीना) से शिशु के फिंगरप्रिंट अब पूरी तरह विकसित हो जाते हैं।
  • इस समय (Pregnancy week by week in Hindi) शिशु ज्यादातर समय सोता रहता है पर यह वह समय है जब वह बढ़ रहा होता है।

प्रेगनेंसी के 20वें सप्ताह में शिशु का विकास – 20 week fetal growth in Hindi

20 week pregnancy in Hindi
20 वें सप्ताह में शिशु की वृद्धि और विकास
  • प्रेगनेंसी के 20वें सप्ताह (गर्भावस्था की दूसरी तिमाही) से शिशु हिचकी और उबासी लेने लगता है,
  • 20वें सप्ताह (Fifth month of pregnancy in Hindi) तक भी शिशु के फेफड़े परिपक्व नहीं हुए होते हैं, जिसके चलते शिशु अभी भी प्लेसेंटा के माध्यम से ऑक्सीजन ले रहा होता है।
  • इस सप्ताह (प्रेग्‍नेंसी का पांचवा महीना) से शिशु का प्रथम मल जो मिकोनीयम (Meconium) के नाम से जाना जाता है निकलने लगता है। मिकोनीयम में मृत कोशिकाएं और एम्नियोटिक द्रव (Amniotic fluid) आदि पदार्थ होते हैं।
  • यदि शिशु एक लड़की है, तो उसकी गर्भाशय (Uterus) और ओवरी (overy) का निर्माण अब तक हो जाता है और यदि यह एक लड़का है, तो उसके अंडकोष (टेस्टिस) जो पहले पेट के अंदर थे अब पेट से बाहर निकलने लगते हैं।

और पढ़ें –  महीने दर महीने गर्भावस्था की महत्वपूर्ण जानकारी।

प्रेगनेंसी के 21वें सप्ताह में शिशु का विकास – 21 week fetal growth in Hindi

21 week pregnancy in Hindi
21 वें सप्ताह में शिशु की वृद्धि और विकास
  • प्रेगनेंसी के 21वें सप्ताह (गर्भावस्था की दूसरी तिमाही) में यदि आप गर्भ के भीतर शिशु की हलचल महसूस करने लगी हैं, तो आप आने वाले कुछ सप्ताहों में और भी अधिक हलचल महसूस करेंगी क्योंकि शुरुआती फड़फड़ाहट के बाद अब वह अपने पैर और हाथ चलाने लगेगा।
  • पूरी गर्भावस्था के दौरान प्लेसेंटा का विकास होता जाता है और इस सप्ताह (प्रेग्‍नेंसी का पांचवा महीना) तक प्लेसेंटा आपके शिशु से अधिक भारी हो गई होती है।
  • हालांकि इस चरण से आगे, आपके शिशु की बढ़त प्लेसेंटा की बढ़त से तेज होती है।
  • प्रेगनेंसी के पांचवा महीने में शिशु की भौहें और पलकें पूरी तरह से विकसित हो चुकी होती हैं और नाखून, हाथ और पैरों की उंगलियों में पूरी तरह आ जाते हैं।
  • प्रेगनेंसी के 21वें सप्ताह के अंत तक (5th month of pregnancy in Hindi) आपका शिशु करीब 25.6 सेंमी (10 इंच) हो गया है, जो लगभग एक केले (banana) के जितना लंबा होता। उसका वजन करीब 300 ग्राम तक होता है।

प्रेगनेंसी के छठे महीने में शिशु का विकास | Six month fetaldevelopment in Hindi

प्रेगनेंसी का छठा महीना, 22वें सप्ताह से लेकर 26वें सप्ताह तक का समय होता है।  

प्रेगनेंसी के 22वें सप्ताह में शिशु का विकास – 22 week fetal growth in Hindi

22 week pregnancy in Hindi
22 वें सप्ताह में शिशु की वृद्धि और विकास
  • प्रेगनेंसी के 22वें सप्ताह (सप्ताह दर सप्ताह गर्भावस्था) से आप अपने शरीर में खिंचाव के निशान (stretch marks) देख सकती हैं जो पेट, जांघ, कूल्हे और स्तन में दिखाई देंगे।
  • शिशु का लिवर (यकृत) और स्प्लीन (तिल्ली) पहले ही रक्त कोशिकाएं बनाना शुरू कर चुकी हैं लेकिन अब, अस्थि मज्जा (Bone marrow) रक्त कोशिकाओं का निर्माण करने लगी हैं।
  •  22वें सप्ताह से (6th month of pregnancy in Hindi) शिशु अब अपने आस पास की चीजों को पकड़ने की कोशिश करने लगता है और कभी कभी शिशु अपने गर्भनाल को भी पकड़ लेता है। जो एक सामान्य बात है।
  • 22वें सप्ताह (गर्भावस्था की दूसरी तिमाही) में शिशु (भ्रूण) के विकास के दौरान उसके के शरीर में केवल 1 % (प्रतिशत) वसा होता है। लेकिन यहाँ से आगे शिशु वसा की कई परतों को जोड़ता चला जाएगा, जो शिशु के शरीर की गर्मी को बनाए रखने और त्वचा को अपना समान्य रूप देने में मदद करेगी।

और पढ़ें – गर्भावस्था की तीसरी तिमाही के प्रेगनेंसी टेस्ट।

प्रेगनेंसी के 23वें सप्ताह में शिशु का विकास – 23 week fetal growth in Hindi

23 week pregnancy in Hindi
23 वें सप्ताह में शिशु की वृद्धि और विकास
  • प्रेगनेंसी के 23वें सप्ताह (सप्ताह दर सप्ताह गर्भावस्था) में भी फेफड़े अपने आपको विकसित कर रहे होते हैं। जो अभी भी सम्पूर्ण रूप से काम करने के लिए तैयार नहीं हैं।
  • 23वें सप्ताह (प्रेग्‍नेंसी का छठा महीना) से ही फेफड़ों में रक्त वाहिकाएं बनने लगती हैं जो आगे चलकर सांस लेने में सहायक होंगी साथ ही अगले कुछ हफ्तों में मस्तिष्क की अरबों कोशिकाओं का विकास होने लगेगा।
  • शिशु के बालों ने अभी तक कोई रंग विकसित नहीं किया है क्योंकि मेलेनिन नामक पिगमेंट का निर्माण अभी तक नहीं हुआ है।
  • इस सप्ताह (गर्भावस्था की दूसरी तिमाही) से शिशु को हिचकी आ सकती है जिसे आप शिशु के झटके के रूप में महसूस करती हैं।

और पढ़ें – गर्भावस्था की दूसरी तिमाही के दौरान प्रेगनेंसी टेस्ट।

प्रेगनेंसी के 24वें सप्ताह में शिशु का विकास – 24 week fetal growth in Hindi

24 week pregnancy in Hindi
24 वें सप्ताह में शिशु की वृद्धि और विकास
  • प्रेगनेंसी के 24वें सप्ताह (24 week pregnancy) में शिशु (भ्रूण) के विकास के दौरान शिशु एक ऐसे protein का निर्माण करता है जिसके बारे में शायद आपने कभी नहीं सुना होगा। यह प्रोटीन सर्फेक्टेंट (surfactant) कहलाता है।
  • यह वसायुक्त प्रोटीन शिशु को जन्म के समय सांस लेने में मदद करता है। और साथ ही फेफड़ों को ढकने और उसकी परतों को आपस में चिपकने से रोकता है।
  • उसकी आंखें अभी भी बंद होती हैं लेकिन वो अपने हाथों और पैरों को हिलाता डुलाता रहता है और स्पर्श पहचानने की योग्यता विकसित करता है।
  • प्रेगनेंसी के 24वें सप्ताह (प्रेग्‍नेंसी का छठा महीना) से शिशु बहुत सक्रिय होने लगता है और बाहर की आवाजों पर प्रतिक्रिया देने लगता है, जिसमें आपके दिल की धड़कन की आवाज़ भी शामिल है।

प्रेगनेंसी के 25वें सप्ताह में शिशु का विकास – 25 week fetal growth in Hindi

25 week pregnancy in Hindi
25 वें सप्ताह में शिशु की वृद्धि और विकास
  • प्रेगनेंसी के 25वें सप्ताह (प्रेग्‍नेंसी का छठा महीना) से आपके शिशु की नासिका छिद्र पूरी तरह से खुल जाते हैं।
  • शिशु के लम्बे और पतले शरीर में चर्बी आना शुरू हो जाती है जिस कारण उसकी झुर्रीदार त्वचा से सिलवटे दूर होने लगती है और त्वचा के नीचे दिखने वाली नसें अब दिखनी बंद हो जाएंगी।
  • 3डी अल्ट्रासाउंड में आप शिशु को पूरी तरह विकसित हो चुका पाएंगी। जिसमें आप शायद शिशु को ऊँगली या अंगूठा चूसता हुआ पा सकती हैं।
  • प्रेगनेंसी के 25वें सप्ताह (Second trimester of pregnancy) के बाद शिशु की होने वाली मूवमेंट का आप अच्छे से अनुभव कर पाएंगी जिसमें उसका पैर मारना और हाथ मारना शामिल होता है।

प्रेगनेंसी के 26वें सप्ताह में शिशु का विकास – 26 week fetal growth in Hindi

26 week pregnancy in Hindi
26 वें सप्ताह में शिशु की वृद्धि और विकास
  • प्रेगनेंसी के 26वें सप्ताह (सप्ताह दर सप्ताह गर्भावस्था) से आपका शिशु अब अपनी आंखें खोलने की शुरुवात करता है और शायद वह 28वें सप्ताह में अपनी प्यारी सी आखें खोल ले।
  • प्रेगनेंसी के 26वें सप्ताह से (6th month of pregnancy in Hindi) आपको अपने शिशु की गतिविधियाँ अब अधिक-स्पष्ट रूप से अनुभव होने लगती हैं, क्योंकि आपका शिशु अब आकर में और बड़ा हो चुका है।
  • शिशु एमनियोटिक द्रव से अधिक से अधिक पोषक तत्वों को अवशोषित कर रहा है। हालांकि इस समय से लेकर जन्म तक अब ऐम्नियॉटिक द्रव का निर्माण उस मात्रा में नहीं होता है जितना कि कुछ हफ्ते पहले हो रहा था।
  • प्रेगनेंसी के 26वें सप्ताह (गर्भावस्था की दूसरी तिमाही) के अंत तक आपका शिशु करीब 35.6 सेंमी. (14 इंच) लंबा और वजन लगभग 900 ग्राम तक होता है जो आकार में एक तुरई (zucchini) के जितना है।

और पढ़ें – प्रेगनेंसी के दौरान ऐसे करें अपनी देखभाल, होगा स्वस्थ शिशु।

यह हैं गर्भावस्था की दूसरी तिमाही (Pregnancy week by week in Hindi) में शिशु में होने वाले विकास की जानकारी। इस पोस्ट में शिशु के विकास की जानकारी आपको इस बात का सामान्य अंदाजा देती है कि गर्भ में शिशु किस तरह बढ़ रहा है। ध्यान रहे कि हर गर्भवती महिला में शिशु का विकास अलग अलग ढंग से होता है। इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद।

कमेंट में बताएं आप को यह पोस्ट कैसी लगी। अगर आपका यह पोस्ट पसंद आई हो तो इस पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Disclaimer : ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है और यह कहीं से भी योग्य डॉक्टर द्वारा दिए गए मेडिकल सुझाव का विकल्प नहीं है। इसके अलावा किसी भी चीज को अपनी डाइट में शामिल करने या हटाने से पहले किसी योग्य डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ (Dietitian) की सलाह जरूर लें। 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सेब का सिरका पीने के फायदे | Benefits of Apple Cider Vinegar एसिडिटी और खट्टी डकार का इलाज | Home Remedies for Acidity and Burping खाली पेट आंवला जूस पीने के फायदे | Amla Juice Benefits कच्चा प्याज खाने के फायदे | Benefits of Raw Onion अच्छी और गहरी नींद आने के उपाय | Home Remedies for Insomnia Benefits of Giloy in Winter | सर्दी में गिलोय के फायदे