Fruits for Constipation in Hindi

Fiber Rich Fruits for Constipation | कब्ज के लिए उच्च फाइबर फल

Fruits for constipation in Hindi : डॉक्टर के अनुसार कोई भी व्यक्ति यदि सप्ताह में तीन या उसके कम बार मल त्याग करता है तो उसे कब्ज की शिकायत हो सकती है। विशेषज्ञों (experts) की माने तो इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए व्यक्ति को अपने भोजन में उच्च फाइबर (high fiber food) युक्त आहार शामिल करना चाहिए। इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको उच्च फाइबर वाले फलों के बारे में बता रहें है जो कब्ज दूर करने में काफी फायदेमंद हैं। 

पोस्ट शरू करने से पहले समझते है कि आहारीय फाइबर क्या होता है और इसके क्या फायदें है।

फाइबर युक्त भोजन क्या है? | Fiber foods means in Hindi

फाइबर (आहारीय रेशा) पत्तेदार सब्जी, फल, दाल, अनाज, व अन्य खाद्य वस्तुओं के उस हिस्से को कहते हैं, जो बिना पचे या अवशोषित हुए ही आंत के द्वारा बाहर निकाल दिया जाता है। ये दो प्रकार के होते हैं- सॉल्युबल फाइबर और इनसॉल्युबल फाइबर। दोनों प्रकार के फाइबर स्वस्थ आहार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।(1)

और पढ़ें- सर्वाइकल अटैक में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं।

फाइबर के फायदे क्या हैं?Fiber food benefits in Hindi

उच्च फाइबर आहार (खाद्य पदार्थ) आपके स्वास्थ में निम्नलिखित तरीके से फायदा पंहुचा सकते हैं। जैसे – (2 & 3)
  • कब्ज को दूर करके, 
  • वजन कम करके,
  • कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित करके, 
  • कोलोरेक्टल कैंसर के खतरे को कम करके,
  • मधुमेह नियंत्रित करके, और
  • हृदय को स्वस्थ बनाए रख के।

रेशेदार भोजन (High fiber foods in Hindi) का प्रमुख फायदा कब्ज दूर करने में होता है। फाइबर पानी को अवशोषित करने और मल को आपस में जोड़ने में मदद करता है। जिससे मल के वजन और आकार दोनों में बढ़ोतरी होती है साथ ही मल को नरम भी करता है।

भारी मल आसानी से निकल जाता है, जिससे कब्ज की संभावना कम हो जाती है। कब्ज के लिए उच्च फाइबर फल हैं सेब, नाशपाती, तरबूज, अनार, ब्लूबेरी और ब्लैकबेरी।

और पढ़ें- महिलाओं में थायराइड कैंसर के लक्षण, कारण, बचाव व इलाज

डाइट में फाइबर की मात्रा (फाइबर डाइट) कितनी रखें? | How Much Fiber Per Day in Hindi

Mayo Clinic (U.S) के अनुसार डाइट में फाइबर की मात्रा बच्चों, महिलाओं और पुरुषों में अगल-अलग होनी चाहिए।  महिलाऐं  (50 वर्ष से कम)  एक दिन में लगभग 21 से 25 ग्राम तक फाइबर का सेवन कर सकती हैं। पुरुष (50 वर्ष से कम) एक दिन में लगभग 30 से 38 ग्राम तक फाइबर का सेवन कर सकते हैं। जबकि, बच्चे (1 से 18 वर्ष तक) एक दिन में लगभग 14 ग्राम  से 31 ग्राम तक फाइबर का सेवन कर सकते हैं। (4)

कब्ज के लिए उच्च फाइबर फल | Fiber Rich Fruits for Constipation in Hindi

Fiber Rich Fruits for Constipation in Hindi, कब्ज के लिए उच्च फाइबर फल

कब्ज में ऐसे फलों का सेवन करना चाहिए जिसमें फाइबर की मात्रा अधिक हो। जैसे नाशपाती, कीवी, स्ट्रॉबेरी, सेब, पपीता, अंगूर, सूखा आलूबुखारा, संतरा, ब्लैकबेरी, रास्पबेरी आदि। आइये अब एक एक करके इनके बारे में पढ़ते हैं। 

1. कब्ज में खाएं नाशपाती – Pear fruits for Constipation in Hindi 

नाशपाती ना केवल स्वादिष्ट बल्कि एक स्वास्थ्यवर्धक फल भी है। यह फाइबर के सबसे अच्छे सोर्स में से एक है। एक मीडियम साइज की नाशपाती में लगभग 5.5 ग्राम या 100 ग्राम नाशपाती में 3.1 ग्राम फाइबर होता है।

इसके अलावा, नाशपाती कैल्शियम, आयरन, प्रोटीन, एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन का भी अच्छा स्रोत  है। इसलिए कब्ज दूर करने के लिए नाशपाती खाई जा सकती है। 

और पढ़ें- भीगी किशमिश खाने के फायदे और नुकसान

2. कीवी है कब्ज में लाभकारी – Advantages of Kiwi in Constipation in Hindi 

कीवी उच्च फाइबर वाले फलों की सूची में दूसरे नंबर में है, एक मीडियम साइज कीवी में 2 ग्राम से अधिक फाइबर प्रदान होता है, जो दैनिक मूल्य का लगभग 8% है।

एक अध्ययन में पाया गया है कि प्रतिदिन दो कीवी खाने से यह पेट की परेशानी को कम कर सकता है और कब्ज को रोक सकता है।

किवीफ्रूट में एंजाइम एक्टिनिडाइन भी होता है, जो ऊपरी जठरांत्र (gastrointestinal) संबंधी लक्षणों को कम करता है जैसे:

  • पेट की गैस
  • पेट दर्द
  • खट्टी डकार, आदि।

और पढ़ें- शरीफा (सीताफल) खाने के फायदे और नुकसान

3. कब्ज में स्ट्रॉबेरी का करें सेवन – Benefits of Strawberry in Constipation in Hindi 

स्ट्रॉबेरी एक स्वादिष्ट फल है। यह फाइबर का अच्‍छा स्रोत होने के साथ ही इसमें विटामिन सी, मैग्नीज और अन्‍य पोषक तत्‍व भी पाए जाते हैं। स्ट्रॉबेरी में मौजूद ये सभी तत्व कब्ज दूर करने में मदद करते हैं।

और पढ़ें- खाली पेट गुड़ खाने के फायदे और नुकसान

4. सेब का सेवन करें कब्ज में – Benefits of Apple in Constipation in Hindi 

कब्ज दूर करने के लिए सेब का सेवन किया जा सकता है। सेब में मौजूद सर्बिटोल तत्व कब्ज को दूर कर पेट की अच्छी तरह से सफाई कर देता है। नियमित तौर पर सुबह खाली पेट एक सेब का सेवन करना चाहिए।

5. पपीता है कब्ज में फायदेमंद – Benefits of Papayas in Constipation in Hindi 

कब्ज दूर करने में पपीता लाभकारी माना जाता है। इसमें विटामिन ए, पोटैशियम, कैल्शियम फोलेट, विटामिन ई और सी और बीटा कैरोटीन की अच्छी-खासी मात्रा होती है। नियमित तौर पर पपीता खाने से आंतों की अच्छी तरह से सफाई हो जाती है, जिससे कब्ज की परेशानी नहीं होती.

6. कब्ज दूर करने के लिए खाएं अंगूर – Benefits of Grapes in Constipation in Hindi 

कब्ज दूर करने में अंगूर भी कारगर है। इसमें विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन बी के साथ-साथ पोटेशियम और कैल्शियम प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं. इसके अलावा अंगूर में फ्लेवोनॉयड्स जैसे एंटीऑक्सीडेंट तत्व की भी अधिक मात्रा होती है. नियमित तौर पर अंगूर का सेवन करने से पाचन तंत्र दुरुस्त रहता है।

और पढ़ें – कच्चा प्याज खाने के फायदे और नुकसान

7. सूखा आलूबुखारा है कब्ज में फायदेमंद – Benefits of Prunes in Constipation in Hindi 

प्रून्‍स (सूखे पल्म) में सोल्युबल फाइबर मौजूद होते हैं, जिसे हम पेक्टिन भी कहा जाता है। ये सोल्युबल फाइबर पानी को अवशोषित करने और मल को आपस में जोड़ने में मदद करते हैं। जिससे मल के वजन और आकार दोनों में बढ़ोतरी होती है, और साथ ही ये मल को नरम भी करता है। (5)

भारी और नरम मल आसानी से निकल जाता है, जिससे कब्ज और बवासीर की संभावना कम हो जाती है।

इसके अलावा प्रून्‍स (सूखे पल्म) में सोर्बिटोल और फेनोलिक यौगिक भी होते हैं जो पेट सम्बन्धी बीमारी को दूर करता है।

और पढ़ें – सूखे आलूबुखारा (सूखे पल्म) के फायदे और नुकसान 

8. ब्लैकबेरी और रास्पबेरी कब्ज के लिए हैं लाभकारी – Benefits of Blackberry and Raspberry in Constipation in Hindi 

अगर आप कब्ज से राहत पाना चाहते हैं तो ब्लैकबेरी और रास्पबेरी एक उपयुक्त फल हैं। ये फल स्वादिष्ट होने के साथ-साथ अत्यधिक पौष्टिक भी होते हैं। इनमें विटामिन सी और फाइबर होने के अलावा, विटामिन ए, थायमिन, राइबोफ्लेविन, विटामिन बी 6, कैल्शियम और जिंक की अच्छी मात्रा होती हैं। एक कप ब्लैकबेरी और रास्पबेरी में लगभग 8 ग्राम फाइबर होता है।

और पढ़ें – आयरन की कमी को दूर करते हैं ऐसे आहार।

9. संतरा है कब्ज दूर करने में फायदेमंद – Advantages of oranges in Constipation in Hindi 

कब्ज से राहत पाने के लिए संतरे का सेवन करना एक अच्छा विचार है क्योंकि यह आहार फाइबर से भरपूर होता है। यह लाभकारी बायोएक्टिव यौगिकों, एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन और खनिजों से भी भरा हुआ है जो अच्छे स्वास्थ्य को बढ़ावा देते हैं, और पेट की अनेक समस्याओं को दूर करते हैं। 

और पढ़ें – जानिए मधुमेह रोगी डायबिटीज में क्या खाएं और क्या न खाएं।

क्या कब्ज सामान्य है? | Is constipation normal in Hindi

कब्ज आम है, और ज्यादातर लोग इसे कभी ना कभी अनुभव करते हैं – खासकर तब, जब उनकी सामान्य दिनचर्या या आहार में बदलाव आता है।

हालांकि, यदि आपको क्रोनिक कब्ज (बार-बार होना) है तो इसका मतलब है कि आपका पाचन तंत्र ठीक से काम नहीं कर रहा है। जो किसी चेतावनी का संकेत हो सकता है।

फाइबर की कमी के लक्षण – Fiber rich food deficiency symptoms in Hindi

फाइबर की कमी से निम्नलिखित लक्षण दिखाई दे सकते हैं- (5)

  • पेट में कब्ज़ होना,
  • वजन  बढ़ना,
  • रक्त शर्करा में उतार-चढ़ाव,
  • कोलेस्ट्रॉल का अधिक होना, 
  • ऊर्जा में कमी होना,  
  • अच्छी नींद ना आना, 
  • खाना खाने के बाद  भी भूख लगना। 

और पढ़ें – इम्युनिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय।

फाइबर युक्त आहार के नुकसान | Side Effects of fiber rich fruits in Hindi 

Disadvantages of high fiber foods in Hindi

उच्च फाइबर आहार (रेशेदार भोजन) लेने से आपको कोई जोखिम या नुकसान नहीं होता है हालांकि कभी-कभी फाइबर युक्त आहार अवांछित प्रभाव (Fiber rich food side effects in Hindi) भी पैदा कर सकते हैं। जिनमें गैस, सूजन, पेट में दर्द, दस्त या दस्त कब्ज, पोषक तत्वों के अवशोषण में बाधा, वजन बढ़ना या कम होना, जी मिचलाना, आंतों की समस्याएं आदि शामिल हैं। ये सारे लक्षण आमतौर पर हल्के ही होते हैं।

एक अध्ययन के अनुसार, अधिक मात्रा में फाइबर के सेवन से शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो सकती है। जिसमें मुख्य रूप से जिंक, आयरन, कैल्शियम और मैग्नीशियम शामिल हैं।

और पढ़ें – कैफीन क्या है, जानिए इसके 8 फायदे और नुकसान


ये हैं कब्ज के लिए उच्च फाइबर फल (कब्ज दूर करने वाले फल)। कमेंट में बताएं आपको यह पोस्ट कैसी लगी। अगर यह पोस्ट (Fruits Rich in Fibers in Hindi) पसंद आई हो तो इस पोस्ट को शेयर जरूर करें। 

ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है। इस जानकारी का उपयोग किसी भी बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए साथ ही किसी भी चीज को अपनी डाइट में शामिल करने या हटाने से पहले किसी योग्य डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ (Dietitian) की सलाह जरूर लें।

सन्दर्भ (References)

1. Dhingra D, Michael M, Rajput H, Patil RT. Dietary fibre in foods: a review. J Food Sci Technol. 2012 Jun;49(3):255-66.

2. Barber TM, Kabisch S, Pfeiffer AFH, Weickert MO. The Health Benefits of Dietary Fibre. Nutrients. 2020 Oct 21;12(10):3209.

3. Barber TM, Kabisch S, Pfeiffer AFH, Weickert MO. The Health Benefits of Dietary Fibre. Nutrients. 2020 Oct 21;12(10):3209.

4. Mayo clinic : Chart of high-fiber foods.

5. Lattimer JM, Haub MD. Effects of dietary fiber and its components on metabolic health. Nutrients. 2010 Dec;2(12):1266-89.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सेब का सिरका पीने के फायदे | Benefits of Apple Cider Vinegar एसिडिटी और खट्टी डकार का इलाज | Home Remedies for Acidity and Burping खाली पेट आंवला जूस पीने के फायदे | Amla Juice Benefits कच्चा प्याज खाने के फायदे | Benefits of Raw Onion अच्छी और गहरी नींद आने के उपाय | Home Remedies for Insomnia Benefits of Giloy in Winter | सर्दी में गिलोय के फायदे