Mouth Ulcer Home Remedies in Hindi

Mouth Ulcer Home Remedies | मुँह के सफेद छाले का घरेलू उपचार (इलाज)

Mouth Ulcer Home Remedies in Hindi: समान्यतः मुंह के छाले (Muh ke chale) या सफेद छाले संक्रामक नहीं होते हैं और ये अपने आप ही ठीक हो जाते हैं। हालांकि, कभी-कभी इनके होने से आपको बोलने और खाने से काफी कठिनाई होती है। इसलिए मुँह के छालों का उपचार (माउथ अल्सर का उपचार) करना जरुरी है। बाजार में मुंह के छालों को ठीक करने के लिए कई तरह की दवाइयां मौजूद हैं, लेकिन कई बार इन दवाइयों के साइड इफ़ेक्ट भी हो जाते हैं। ऐसे में बेहतर होगा कि आप मुँह के सफेद छाले का घरेलू उपचार (इलाज) अपनाएं। इस पोस्ट में हम आपको मुँह के छाले का घरेलू उपचार क्या है, उसके बारे में बता रहे हैं।

आइये अब इस पोस्ट को शुरू करते हैं।

मुँह के छाले का घरेलू उपचार (घरेलू नुस्खे) | Mouth Ulcer Home Remedies in Hindi

Mouth Ulcer Home Remedies in Hindi,मुँह के सफेद छाले का घरेलू उपचार
Image source: freepik.com

मुंह के सफेद छाले एक प्रकार के घाव हैं जो आपके मसूड़ों, होठों, आपके गालों के अंदर या तालू (मुंह की छत) पर कहीं भी बन सकते हैं। (1) मुंह में छालों (Muh ke chaale) का प्रमुख कारण पेट की खराबी या कब्ज (बदहजमी) का होना माना जाता है। हालांकि, तीखा या गर्म खाना, मुँह की चोट, हार्मोनल परिवर्तन और भावनात्मक तनाव भी मुंह में छालों का कारण बन सकता है।

मुँह के छालों को दूर करने के घरेलू उपचार (Muh ke chale ka gharelu upchar) में शामिल हैं-

1. तुलसी के पत्ते का इस्तेमाल करके मुँह के छाले का इलाज – Home remedies for Mouth Ulcers

तुलसी के पत्ते में एंटी-बैक्टीरियल गुण होता है, जो मुंह के छालों से छुटकारा (मुँह के छालों का उपचार) दिलाने में आपकी मदद कर सकता है। तुलसी के 4-5 पत्ते दिन में दो बार चबाने से मुंह के छालों में आराम मिलता है।

और पढ़ें – डेंगू के लक्षण, बचाव, इलाज और डाइट प्लान

2. शहद में मुलेठी का चूर्ण मिलाकर मुंह में सफेद छाले का इलाज – Mouth Ulcer Home Remedies

शहद में एंटी-बैक्टीरियल गुण होने के कारण यह आपके छालों को ठीक करने आपकी मदद कर सकता है। यदि शहद में मुलेठी का चूर्ण मिलाकर इस लेप को मुँह के छालों (Muh ke chhale) पर लगाया जाए तो छालों में काफी आराम  मिलता है।  

इसके अलावा अगर आप शहद में एक चुटकी हल्दी डालकर छालों में लगाएं तो यह काफीअसरदार (माउथ अल्सर का उपचार) होता है। अच्छे रिजल्ट पाने के लिए दिन में तीन से चार बार यह उपाय कीजिए।‌

और पढ़ें – बच्चों में सूखा रोग | रिकेट्स के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

3. कत्था द्वारा मुँह के सफेद छालों का घरेलू इलाज  – Treatment of Mouth Ulcer 

कत्था मुँह के छालों के लिए बहुत लाभकारी माना जाता है। कत्था, मुलेहठी का चूर्ण और शहद मिलाकर मुँह के छालों पर लगाने से मुँह के छालों के दर्द से राहत मिलती है। इसके अलावा अमरूद के मुलायम पत्तों में कत्था मिलाकर उसे पान की तरह चबाने से भी आराम मिलता है।

और पढ़ें – कब्ज में क्या खाएं और क्या ना खाएं

4. बर्फ का इस्तेमाल करके माउथ अल्सर का उपचार – Mouth Ulcer Treatment

छालों पर ठंडी चीज लगाने से बहुत जल्दी फायदा होता है। साथ ही ये दर्द और सूजन को भी कम करने का कम करता है।

और पढ़ें – मंकीपॉक्स वायरस के लक्षण, कारण और इलाज

5. शहद और इलायची का पाउडर मिलाकर मुंह के सफेद छाले का इलाज – Mouth Sores Treatment

मुंह के छालों को ठीक करने के लिए (मुँह के छालों का उपचार) आप शहद और इलायची का उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए आप शहद और इलायची का पाउडर मिलाकर एक मिश्रण बनाएं। इस मिश्रण को सीधे छालों पर 2-3 दिनों तक लगते रहें।

और पढ़ें – जानिए क्या हैं किडनी बचाव के 11 घरेलू उपाय

6. नीम के पानी से कुल्ला करके मुँह के छाले का घरेलू उपचार – Mouth Ulcer Treatment in Ayurveda in Hindi

नीम के पानी से कुल्ला करना मुंह के छालों के लिए फायदेमंद होता है।

और पढ़ें- गले के इन्फेक्शन (टॉन्सिल) में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं

7. चमेली के पत्तों को पीस कर माउथ अल्सर का इलाज – Mouth Ulcer Remedies in Hindi

चमेली के पत्तों में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होने के कारण यह मुंह के छालों को दूर करने में कारगर साबित हो सकता है। चमेली के पत्तों को पीस कर उसके रस को छालों पर लगाने से छालें कम होते है।

और पढ़ें- सर्वाइकल अटैक में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं।

8. जामुन की छाल का काढ़ा बनाकर मुँख के छालों का इलाज – Ayurvedic Medicine for Mouth Sores in Hindi

जामुन की छाल का काढ़ा बनाकर गरारा करने से मुँह के छालों से राहत मिलती है। इसके अलावा जामुन का रस लगाने, पीने एवं जामुन के पत्तों का चबाने से मुँख के छालों से बहुत जल्दी लाभ होता है।

और पढ़ें- भीगी किशमिश खाने के फायदे और नुकसान

9. नारियल का तेल है मुँह के सफेद छाले का घरेलू इलाज – Mouth Ulcer Treatment at Home in Hindi

नारियल के तेल में एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्‍व होते हैं जो मुंह के छालों को दूर करने में कारगर साबित हो सकता है। इसके लिए आप दिन में 3-4 बार नारियल तेल को छालों पर लगाएं।  

और पढ़ें- खाली पेट गुड़ खाने के फायदे और नुकसान

10. लहसुन का इस्तेमाल करके करें माउथ अल्सर का उपचार – Mouth Ulcer Treatment in Hindi

लहसुन एंटी-बैक्टीरियल होता है इसलिए मुंह के छालों से राहत पाने के लिए लहसुन का इस्तेमाल बहुत लाभदायक साबित हो सकता है

लहसुन के अंदर allicin नाम का एक पदार्थ पाया जाता है जो छालों को ठीक करने में मदद कर सकता है। इसके लिए लहसुन की कली को छील कर उसे छालों पर रगड़ें और फिर  20-25 मिनट बाद कुल्ला कर लें।

और पढ़ें – जानिए मधुमेह रोगी डायबिटीज में क्या खाएं और क्या न खाएं।

11. नारियल का तेल द्वारा मुँह के सफेद छालों का इलाज – Remedies for Mouth Ulcer

मुंह के छालों के लिए नारियल का तेल बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है। नारियल के तेल को मुंह के छालों की जगह लगाएं। इसके अंदर एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं जिससे मुंह के छाले जल्दी सही हो जाते हैं और दर्द भी दूर हो जाता है।

मुंह में सफेद छाले होने का कारण | Mouth Ulcer Causes in Hindi

मुंह में सफेद छाले होने का कारण निम्नलिखित हो सकता है। (234 & 5)

  • खट्टे फल और अन्य खाद्य पदार्थ जो अम्लता या मसाले में उच्च होते हैं, माउथ अल्सर का कारण बन सकते हैं,
  • मुंह में बार-बार छाले होने के कारण है पेट की खराबी या फिर कब्ज का बना रहना,  
  • मुंह के छाले का कारण दांतों पर हार्ड ब्रश का इस्तेमास करना हो सकता है, हार्ड ब्रश दांतों के किनारे की स्किन में घाव करते हैं जिससे छाले आ सकते हैं,
  • खाना चबाते समय गलती से गाल के अंदर कट लगने से मुंह में सफेद छाले आ सकते हैं,
  • विटामिन बी-12, जिंक, फोलिक एसिड और आयरन की कमी गले में छाले का कारण हो सकता है,
  • हेलिकोबैक्टर पाइलोरी नामक बैक्टीरिया की मौजूदगी मुंह में छाले आ सकते हैं,
  • मुंह के छाले होने का कारण महिलाओं में पीरियड्स के दौरान होने वाले हार्मोन्स में बदलाव हो सकता है ,
  • गर्भावस्था, यौवन और रजोनिवृत्ति के दौरान हार्मोनल परिवर्तन मुँह में छाले का कारण हो सकता है,
  • कुछ लोगों को अंडा, स्ट्रॉबेरी, नट्स या तीखा भोजन खाने से एलर्जी होती है जिसकारण उनके मुँह में छाले हो जाते हैं,
  • बैक्टीरियल, वायरल या फंगल संक्रमण भी गले में छाले होने का कारण हो सकता है।

और पढ़ें – HDL Cholesterol क्या है? जानिए गुड कोलेस्ट्रॉल बढ़ाने के तरीके

माउथ अल्सर (मुँह के सफेद छाले) होने के लक्षण | Symptoms of Mouth Ulcer in Hindi

मुंह के छालों (Canker sore in hindi) को आसानी से पहचाना जा सकता है। मुंह के छालों के मुख्य लक्षण में शामिल हैं – (13  & 6)

  • मुंह में छाले के कारण होंठ, मसूड़ों, जीभ, भीतरी गाल या मुंह की छत पर घाव दिखाई देना,
  • मुंह के छाले आमतौर पर केंद्र में सफेद, पीले या भूरे रंग के होते हैं,
  • मुंह के अल्सर के आसपास सूजन हो सकती हैं,
  • ब्रश करते समय मुंह के छाले के आस पास के क्षेत्र में दर्द बढ़ना,
  • दर्द जो मसालेदार, नमकीन या खट्टा खाना खाने पर बढ़ सकता है,
  • छाले में दर्द के कारण अधिक चिड़चिड़ापन हो जाना,
  • मुंह में छाले होने के कारण भूख में कमी आ सकती है,
  • आपको हमेशा लगेगा कि आप थके हुए हैं।

और पढ़ें –  Prediabetes क्या है? जानिए पूर्व मधुमेह के लक्षण, कारण और आयुर्वेदिक उपचार

मुंह के सफेद छाले से बचाव के उपाय | Prevention Tips from Mouth Ulcer in Hindi

माउथ अल्सर से बचने के उपाय में शामिल हैं- (789 & 10)

  • बहुत अधिक गर्म भोजन खाने और पेय पदार्थ पीने से बचें,
  • नरम टूथब्रश का उपयोग करें और नियमित रूप से दांत साफ करें,
  • खट्टे फल कम खाएं,
  • खाना खाते समय खाना धीरे-धीरे चबाएं,
  • मसालेदार भोजन खाने से बचें
  • प्रतिदिन 7-8 गिलास पानी पिएँ,
  • कब्ज से बचें। इसके लिए फाइबर युक्तआहार का सेवन अधिक करें  ,
  • यदि माउथ अल्सर आयरन, जिंक और विटामिन्स (B1, B2, B6, B12, or C) की कमी से होते हैं तो इनके सप्लीमेंट का सेवन करें, 
  • धूम्रपान न करें या तंबाकू का प्रयोग न करें,
  • शराब के सेवन से बचें या सीमित करें
  • मुँह की सफाई का विशेष ध्यान रखें
  • रोजाना सुबह और शाम व्यायाम या योगासन करें,
  • खाना खाने के बाद कुछ देर टहलें,
  • भोजन करने के बाद एकदम बेड पर न लेटें
  • समय पर भोजन करें,
  • भोजन के तुरंत बाद पानी ना पियें,
  • भोजन को अच्छी प्रकार से चबाकर एवं धीरे-धीरे खाएं,
  • रात में देर तक जागने से बचें साथ ही रात में कॉफ़ी का सेवन ना करें,
  • तनावमुक्त जीवन जीने की कोशिश करें।

और पढ़ें – सर्वाइकल दर्द में करें इन खाद्य पदार्थों का परहेज।


ये हैं मुँह के सफेद छाले का घरेलू उपचार (उपाय)। कमेंट में बताएं आपको Mouth Ulcer Home Remedies पोस्ट कैसी लगी। साथ ही अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इस पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Disclaimer : ऊपर दी गई जानकारी पूरी तरह से शैक्षणिक दृष्टिकोण से दी गई है। इस जानकारी का उपयोग किसी भी बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। इसके अलावा किसी भी चीज को अपनी डाइट में शामिल करने या हटाने से पहले किसी योग्य डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ (Dietitian) की सलाह जरूर लें।

संदर्भ (References)

1. InformedHealth.org [Internet]. Cologne, Germany: Institute for Quality and Efficiency in Health Care (IQWiG); 2006-. Canker sores (mouth ulcers): Overview. 2019 Aug 15.

2. Minhas, Sadia et al. “Oral Ulcers Presentation in Systemic Diseases: An Update.” Open access Macedonian journal of medical sciences vol. 7,19 3341-3347. 10 Oct. 2019.

3. Scully C, Shotts R. Mouth ulcers and other causes of orofacial soreness and pain. West J Med. 2001;174(6):421-424.

4. Scully C, Shotts R. ABC of oral health. Mouth ulcers and other causes of orofacial soreness and pain. BMJ. 2000;321(7254):162-165.

5. InformedHealth.org [Internet]. Cologne, Germany: Institute for Quality and Efficiency in Health Care (IQWiG); 2006.

6. Mortazavi H, Safi Y, Baharvand M, Rahmani S. Diagnostic Features of Common Oral Ulcerative Lesions: An Updated Decision Tree. Int J Dent. 2016;2016:7278925.

7. Plewa MC, Chatterjee K. Aphthous Stomatitis. [Updated 2021 Nov 7]. In: StatPearls [Internet]. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2022 Jan.

8. Tarakji B, Gazal G, Al-Maweri SA, Azzeghaiby SN, Alaizari N. Guideline for the diagnosis and treatment of recurrent aphthous stomatitis for dental practitioners. J Int Oral Health. 2015;7(5):74-80.

9. Altenburg A, El-Haj N, Micheli C, Puttkammer M, Abdel-Naser MB, Zouboulis CC. The treatment of chronic recurrent oral aphthous ulcers. Dtsch Arztebl Int. 2014;111(40):665-673.

10. Preeti L, Magesh K, Rajkumar K, Karthik R. Recurrent aphthous stomatitis. J Oral Maxillofac Pathol. 2011;15(3):252-256.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.